नकली पहचान से हो रही असली लूट

फेसबुक पर फर्जी प्रोफाइल बनाकर झांसा दे रहे साइबर ठग, निशाने पर नेता और अफसर

By: Rohit verma

Published: 27 Jun 2021, 10:15 PM IST

भोपाल. आप सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं, तो सावधान रहें। हो सकता है आपकी एक और सोशल मीडिया प्रोफाइल हो, जिसके जरिए आपके दोस्तों से पैसे मांगे जा रहे हों। साइबर ठगी का ये नया ट्रेंड सामने आया है। इसमें निशाने पर आम से लेकर खास लोग तक हैं। सबसे ज्यादा हाइप्रोफाइल लोग इनके टारगेट बने हुए हैं। ठगों ने पुलिस अफसर से लेकर नेताओं को तक को नहीं छोड़ा।

साइबर सेल के पास महीने भर में सौ से ज्यादा ऐसी शिकायतें आ रही हैं, जिनमें फेसबुक पर फर्जी प्रोफाइल बनाकर लोगों से पैसे की मांग की जा रही है। लोगों को इन ठगों से बचाने सायबर सेल ने जागरूक करने के साथ ही तकनीकी रूप से ट्रेंड करने का तरीका अपनाया है। राष्ट्रीय स्तर पर ऑफिशियल्स की वर्कशॉप लेने वाले देश के जाने माने साइबर एक्सपर्ट रक्षित टंडन कहते हैं कि इनके निशाने पर मुख्य रूप से महिलाएं, नेता, अफसर और बड़े नाम होते हैं।

इसके पीछे बड़ा कारण यह है कि ऐसे लोगों की जानकारियां, फोटोग्राफ आसानी से उपलब्ध होते हैं और इनके फॉलोअर्स का दायरा भी बड़ा होता है, जो इनके कहने पर पैसे देने में देरी नहीं करते। दूसरा कारण बड़े लोग आम आदमी की पहुंच से बाहर होते हैं और कोई भी उनसे आसानी से संपर्क नहीं कर पाता। आरोपी उनके नाम पर पैसे कमाने के लिए ऐसा करते हैं। टंडन कहते हैं कि लोग अपनी प्रोफाइल लॉककर धोखाधड़ी से बच सकते हैं।

फेसबुक अकाउंट फर्जी हो तो यह करें
रिपोर्ट करने खुद का फेसबुक लॉगिन करें। फर्जी प्रोफाइल को ओपन करें।
इसमें एड फ्रेंड के पास तीन डॉट वाले ऑप्शन को क्लिक करें। फाइंड सपोर्ट या रिपोर्ट प्रोफाइल को क्लिक करें।
इसमें तीन प्रकार से फर्जी प्रोफाइल को रिपोर्ट किया जा सकता है।

1. फर्जी प्रोफाइल खुद की है।
2. फर्जी प्रोफाइल किसी ऐसे मित्र की है, जो आपसे फेसबुक पर जुड़ा हो।
3. फर्जी प्रोफाइल फेसबुक फे्रंड की न हो।

जानकारी देने पर साइबर सेल भी आपकी फेसबुक प्रोफाइलको लॉक कर सकती है।
1. भाजपा के संगठन महामंत्री सुहास भगत की फर्जी फेसबुक प्रोफाइल बनाकर लोगों से पैसे की मांग की गई। भाजपा कार्यालय ने इसकी शिकायत साइबर सेल में की है।
2.भोपाल के एएसपी रामसनेही मिश्रा के नाम पर फर्जी फेसबुक एकाउंट बनाने का मामला सामने आया है। साइबर फ्रॉड ने उनके नाम का सहारा लेकर लोगों से पैसों की मांग शुरू कर दी। लोगों के फोन आने के बाद उन्हें इसका पता चला।
3.सतना पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह के नाम से भी फर्जी फेसबुक आइडी बनाने का मामला सामने आया था। उन्हें फोन आने शुरू हुए, तब इसका पता चला।

कर रहे जागरूक
साइबर सेल के एसपी गुरुकरण सिंह कहते हैं कि ऐसे अपराधियों को ट्रेस करना थोड़ा मुश्किल होता है। खुद का फेसबुक अकाउंट फर्जी बनने के साथ किसी परिचित के फर्जी अकाउंट को भी फेसबुक की सेटिंग में बदलाव कर ब्लॉक करवा सकते हैं। यह पोस्टर विभिन्न माध्यमों से लोगों तक पहुंचाया जा रहा है।

Show More
Rohit verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned