केरल के बाढ़ पीडि़तों की मदद को आगे आए हजारों हाथ

केरल के बाढ़ पीडि़तों की मदद को आगे आए हजारों हाथ

manish kushwah | Publish: Sep, 09 2018 10:10:35 AM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

-मलयाली समाज के दस हजार से अधिक परिवार केरलवासियों के मददगार

भोपाल. भारी बारिश और बाढ़ की विभिषिका झेल रहे केरल के रहवासियों की मदद करने के लिए पूरा देश एकजुट हुआ है। बाढ़ में केरल का जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया है। हजारों करोड़ के नुकसान के साथ ही हजारों गृहस्थियां पूरी तरह बर्बाद हो गई हैं। ऐसे में देशवासियों के साथ कंधे से कंधा मिलाते हुए राजधानी से भी बाढ़ पीडि़तों को हरसंभव मदद पहुंचाई गई है। राजधानी में निवासरत दस हजार से अधिक मलयाली परिवारों ने मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाए हैं। बच्चे, युवा, बुजुर्ग एवं महिलाएं कपड़ा, अनाज एवं अन्य सामान एकत्रित कर बाढ़ पीडि़तों तक पहुंचा रहे हैं। मदद का ये सिलसिला एक महीने तक जारी रहेगा।

संपत्ति को हुआ भारी नुकसान
भोपाल मलयाली एसोसिएशन के अध्यक्ष सी जॉय ने बताया कि भोपाल में रहने वाले केरलवासियों ने इस बाढ़ में अपनों को नहीं खोया, पर संपत्ति का भारी नुकसान हुआ है। जैसे ही इसकी जानकारी एसोसिएशन को हुई, वैसे ही यूनाइटेड मलयाली भोपाल, मंडीदीप मलयाली एसोसिएशन, हेमा एजुकेशन, एमआईएमए एमपी चेप्टर एवं अन्य सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से केरला फ्लड रिलीफ कमेटी का गठन किया। इसके माध्यम से राहत सामग्री इकट्ठा जा रही है।

कई क्विंटल राहत सामग्री भेजी केरल
बाढ़ पीडि़तों की मदद के लिए मलयाली समाजजन घर-घर घूमकर नकद राशि, अनाज, कपड़े, फल-सब्जियां आदि एकत्र कर रहे हैं। राहत सामग्री की पहली खेप के रूप में रेलवे की वैगन 24 सितंबर को भेजी गई थी। इसके बाद अभी तक चार वैगन और दो ट्रक राहत सामग्री भेजी जा चुकी है।

इसकी कुल कीमत 60 लाख रुपए से अधिक की है। इसके अलावा 20 लाख रुपए नकद केनरा बैंक एवं बैंक ऑफ इंडिया के खातों में जमा किया गया है, जिसे जल्द ही केरल सरकार को भेजा जाएगा। शहर में सामग्री कलेक्शन के लिए आठ सेंटर बनाए हैं। एकत्र सामग्री जिला और रेल प्रशासन के सहयोग से भेज रहे हैं।

गुल्लक तोड़कर की मदद
संत हिरदाराम नगर के निवासी सिल्वी पिल्लई के आठ वर्षीय बेटे सूर्या और पांच वर्षीय बेटी सान्वी ने गुल्लक तोड़कर आठ सौ रुपए बाढ़ पीडि़तों को दान में दिए। पिल्लई ने बताया कि बच्चे साइकिल खरीदने के लिए पैसे इक_ा कर रहे थे, पर केरल में बाढ़ पीडि़तों की मदद के लिए उन्होंने ये राशि दान में दे दी। इसी तरह अवधपुरी निवासी आठ वर्षीय विस्मय पिल्लई ने पॉकेट मनी से इक_ा किए तीन हजार रुपए दान किए। विस्मय ने ये राशि खेल सामग्री खरीदने के लिए बचाई थी। वहीं कुछ महिलाओं ने गोल्ड लोन से मिली राशि से बाढ़ पीडि़तों की मदद की है।

Ad Block is Banned