scriptएमपी के मासूमों की मंडी बना मुंबई, 6 माह के बच्चे का 37 लाख में सौदा | Rewa child sold in Mumbai | Patrika News
भोपाल

एमपी के मासूमों की मंडी बना मुंबई, 6 माह के बच्चे का 37 लाख में सौदा

Rewa child sold in Mumbai इस बच्चे को गैंग ने किडनेप किया और मुंबई में ले जाकर बेच दिया। इस मासूम का लाखों का सौदा किया गया था। पुलिस अब रीवा और मउगंज में गायब हुए बच्चों की सूची बना रही है।

भोपालMay 13, 2024 / 06:36 pm

deepak deewan

Rewa child sold in Mumbai

Rewa child sold in Mumbai

Rewa child sold in Mumbai – एमपी के मासूम बच्चों को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में धड़ल्ले से बेचा जा रहा है। मुंबई के कल्याण में बेचे गए एक बच्चे के केस में आरोपियों की गैंग से पूछताछ में यह तथ्य सामने आया है। पुलिस ने रीवा के एक बच्चे को बरामद करने में सफलता प्राप्त की है। 6 माह के इस बच्चे को गैंग ने किडनेप किया और मुंबई में ले जाकर बेच दिया। इस मासूम का लाखों का सौदा किया गया था। पुलिस अब रीवा और मउगंज में गायब हुए बच्चों की सूची बना रही है। उम्मीद की जा रही है कि गैंग से पूछताछ के बाद इनका कुछ सुराग मिल सकता है।
रीवा के सिविल लाइन थाना क्षेत्र में 6 माह के बच्चे का अपहरण कर उसे मुंबई में बेचा गया था। इस वारदात में एक दर्जन लोगों की गैंग शामिल थी। 6 माह के मासूम का दो बार सौदा किया गया। उसे पहले 8 लाख रुपए में और इसके बाद मुंबई के कल्याण के एक शिक्षक को 29 लाख रुपए में बेचा गया। इस तरह कुल 37 लाख रुपए में उसका सौदा किया गया।
यह भी पढ़ें : जवानों से भरे मिलिट्री ट्रक की कार और बस से भिड़ंत, 3 की मौत, 10 घायल

पुलिस ने बताया कि मामले में मास्टरमाइंड सहित कई आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी नितिन सोनी अपनी पत्नी स्वाति के साथ मउगंज आया। उसने गैंग के मोहम्मद हारून, मोहम्मद सलीम, मुस्कान रावत, देवेश जयसवाल और गुड्डू गुप्ता के साथ मिलकर बच्चे के किडनैपिंग का प्लान बनाया। बच्चे को किडनैप कर वे उसे मुंबई ले गए और बेच दिया।
पुलिस ने इस केस में 11 आरोपियों को मुंबई, जबलपुर और मऊगंज से गिरफ्तार किया है। एक आरोपी अतुल जायसवाल को अभी पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकी है।

क्या था पूरा मामला
6 और 7 मई की दरमियानी रात करीब 3 बजे रीवा के कॉलेज चौराहे से एक मासूम बच्चे का अपहरण कर लिया गया था। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस ने नाकेबंदी की और बच्चे तथा आरोपियों की तलाश के लिए तत्काल कई टीमें भेजी गईं। CCTV फुटेज में कुछ सुराग मिले। दो दिन में ही आरोपी सलीम को पकड़ा और पुलिस की पूछताछ में उसने पूरी घटना का खुलासा कर दिया।
जांच में पता चला कि नितिन और स्वाती ने 6 माह के बच्चे को अमोल मधुकर, अरवी उर्फ सेजल और प्रदीप कोलम्बे को 8 लाख रूपए में बेचा। बाद में अमोल मधुकर और सेजल ने बच्चे को श्रीकृष्ण पाटिल को 29 लाख रूपए में बेच दिया। बच्चे को खरीदने वाले पाटिल ने पूछताछ में बताया कि 53 साल की उम्र में भी कोई संतान नहीं होने के कारण उसने बच्चे को खरीदा।
गुमशुदा बच्चों के सुराग लगने की उम्मीद
आईजी IG महेंद्र सिंह सिकरवार के मुताबिक आरोपियों के पुराने आपराधिक रिकॉर्ड की जांच की जा रही है। आशंका है कि उन्होंने पहले भी इस तरह की वारदात की होगी। इसलिए उनसे पुलिस कड़ाई से पूछताछ कर रही है। रीवा और मऊगंज इलाके में गायब हुए बच्चों का पता लगाया जा रहा है। पूछताछ के बाद इन बच्चों के बारे में कोई सुराग मिल सकता है।

Hindi News/ Bhopal / एमपी के मासूमों की मंडी बना मुंबई, 6 माह के बच्चे का 37 लाख में सौदा

ट्रेंडिंग वीडियो