scriptRice demand increased in gulf countries | अब बढ़ी चावल की डिमांड, 6 सौ करोड़ का होगा निर्यात, किसान ऐसे उठा सकते हैं लाभ | Patrika News

अब बढ़ी चावल की डिमांड, 6 सौ करोड़ का होगा निर्यात, किसान ऐसे उठा सकते हैं लाभ

दुनियाभर में देश के खाद्यान्नों की डिमांड। सर्वाधिक मांग गेहूं और चावल की

भोपाल

Published: April 04, 2022 03:32:16 pm

भोपाल। इन दिनों दुनियाभर में देश के खाद्यान्नों की डिमांड है। सर्वाधिक मांग गेहूं और चावल की है। एमपी का चावल तो खासतौर पर खाड़ी देशों को बहुत पसंद आ रहा है। प्रदेश के केवल ग्वालियर— मुरैना अंचल से ही करोड़ों का चावल इन देशों को निर्यात किया जा रहा है। चावल की डिमांड बढ़ने से किसान इसका लाभ उठा सकते हैं। केंद्र और राज्य सरकार भी इसके लिए किसानों की मदद कर रही है। सरकार ने किसानों को उपजाऊ भूमि उपलब्ध कराने के लिए क्षेत्र में बीहड़ की जमीन को समतल कराने का काम किया है। यही कारण है कि पिछले एक दशक में खेती का रकबा करीब ढाई गुना बढ़ गया है।

rice.png
चावल की सर्वाधिक मांग

कृषि अधिकारियों, एक्सपर्ट और किसानों के अनुसार एक से दाे हजार हेक्टेयर रकबा हर साल बढ़ रहा है। किसान पहले बमुश्किल एक फसल ले पाते थे जबकि अब वे आसानी से दो फसल ले रहे हैं। जिले में खरीफ व रबी की फसल के लिए कुल रकबा 3.57 लाख हेक्टेयर हो गया है जबकि सालाना उत्पादन 4 मीट्रिक टन से अधिक है। आगामी दशक में यह बढ़कर डेढ़ गुना हो जाने की उम्मीद है।

दरअसल ग्वालियर— मुरैना अंचल में बासमती चावल अच्छी क्वालिटी का होता है। यहां आधा दर्जन बड़ी धान मिले भी हैं। इन मिलों से बासमती चावल का खाड़ी देशों को निर्यात किया जाता है। हर साल करीब 5 सौ करोड़ का चावल निर्यात होता है पर इस बार यह कारोबार 6 सौ करोड़ होने की उम्मीद है। यहां कृषि के क्षेत्र में राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक भी अहम योगदान दे रहे हैं। किसानों की आय व उत्पादन बढ़ाने के लिए यहां हर साल नई नई किस्मों पर शोध किया जा रहा है। प्रतिवर्ष करीब 50 तरह की नई किस्में किसानों के बीच पहुंची है।

ऐसे उठा सकते हैं लाभ
— बीहड़ की जमीन को समतल करा बना सकते हैं उपजाऊ
— चावल उत्पादन के लिए खाद और उपकरणों पर सरकारी योजनाओं से मिल रही सब्सिडी
— कोई भी समस्या आने पर कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों से ले सकते हैं मदद

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

कोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाWeather Update: उत्तर भारत में भीषण गर्मी, इन राज्यों में आंधी और बारिश की अलर्टLucknow: क्या बदलने वाला है प्रदेश की राजधानी का नाम? CM योगी के ट्वीट से मिले संकेतबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाबLIC IPO : एलआईसी आईपीओ आज होगा सूचीबद्ध, इतने रुपए पर होगी लिस्टिंग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.