चावल सप्लाई में गड़बड़ी उजागर, सीएम कमलनाथ तक पहुंची शिकायत

चावल सप्लाई में गड़बड़ी उजागर, सीएम कमलनाथ तक पहुंची शिकायत

KRISHNAKANT SHUKLA | Publish: Jun, 19 2019 09:22:30 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

28 करोड़ रुपए का चावल गोदाम में नहीं भेजा, सीधे रेलवे से कर दिया सप्लाई

भोपाल. प्रदेश के रीवा जिले में कतिपय परिवहनकर्ताओं एवं मिलर्स की सांठगांठ से चावल सप्लाई की एक बड़ी गड़बड़ी का खुलासा हुआ है। जो चावल मिलर्स द्वारा गोदाम में भेजा जाना था, उसे रेलवे के रैक के माध्यम से सीधे दूसरे जिले में सप्लाई कर दिया गया। चावल का वजन 75 हजार क्विंटल और कीमत लगभग 28 करोड़ रुपए बताई जा रही है।

इसकी शिकायत शिकायतकर्ता ने मेल के माध्यम से मप्र नागरिक आपूर्ति निगम (नान) एवं खाद्य विभाग को की है। गड़बड़ी सामने आने पर निगम के भोपाल में पदस्थ रीजनल मैनेजर को जांच के लिए रीवा भेजा गया है। दरअसल नागरिक आपूर्ति निगम मिलर्स को धान देकर चावल लेता है। यह चावल राशन दुकानों के माध्यम से सस्ती दरों पर विक्रय होता है। इस चावल को निगम पूरी तरह से जांच करने के बाद ही गोदामों में भंडारण करवाता है। इसमें चावल की टूटन, नमी, बाह्य पदार्थ की जांच होती है।

बताया जाता है कि रीवा जिले में चावल जमा होना बंद था, बावजूद इसके कुछ मिलर्स ने 300 लॉट चावल जमा करना बता दिया। इसकी शिकायत पवन आनंद नामक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री से लेकर नागरिक आपूर्ति निगम, मप्र वेयर हाउसिंग कॉर्पोरेशन से की है। शिकायतकर्ता का कहना है कि जिले के 7 मिलर्स का चावल सीधे मिल से रैक पर भेज दिया गया। इसकी कोई दस्तावेजी कार्यवाही नहीं की गई। आरोपों के बाद अब भोपाल से नान के रीजनल मैनेजर को जांच के लिए भेजा गया है।

संदेह के घेरे में, जांच के बाद दोषी आएंगे सामने

रीवा में मिलर्स से रैक के माध्यम से चावल सीधे शिवपुरी भेजा है, जो गोदाम में जमा होना था। शिकायत सीएम से लेकर नागरिक आपूर्ति निगम, खाद्य विभाग से भी की है।
- पवन आनंद, शिकायतकर्ता

जो प्रक्रिया अपनाई जानी थी, उसका पालन नहीं किया गया है। पहले गोदाम में चावल भेजना था। अभी इस मामले की रिपोर्ट तैयार की जा रही है।
- एलएल अहिरवार, रीजनल मैनेजर

रैक से माल भेजने पर शासन को कोई नुकसान नहीं हुआ है। जो चावल भेजा है उसकी विभाग ने जांच की है। फेयर एवरेज क्वालिटी (एफएक्यू) का ही निकला है।
- राकेश चौधरी, जिला प्रबंधक, नान, रीवा

कोल्ड स्टोरेज से 18 बोरी इलायची चोरी, 9 महीने बाद केस दर्ज

इधर, ग्वालियर के पुरानी छावनी थाने में नौ माह पहले एक कोल्ड स्टोरेज की खिड़की तोड़कर 18 बोरी इलायची चोरी कर ली गई थी। इलायची का मालिक थाने गया तो रिपोर्ट नहीं लिखी गई। कई बार चक्कर लगाए। अब करीब 9 महीने बाद दबाब बढऩे पर मामले में एफआइआर दर्ज की गई है। बालाजी कोल्ड स्टोर से इलायची की 18 बोरी चोरी हुई हैं। कोल्ड स्टोरज में पार्टनर दीपक जायसवानी ने बताया 23 अगस्त 2018 को चोरी के वक्त कोल्ड स्टोरेज में चौकीदार भी मौजूद था, लेकिन उसे भी चोरी की भनक नहीं लगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned