उपचुनाव से पहले फिर भोपाल पहुंचे संघ प्रमुख मोहन भागवत, दो माह में तीसरा दौरा

संघ के कार्यों, विश्व हिन्दू परिषद और उपचुनाव में भाजपा की तैयारियों की समीक्षा करेंगे...।

By: Manish Gite

Published: 16 Sep 2020, 05:32 PM IST

भोपाल। मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले सरगर्मियां तेज हो गई हैं। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत एक बार फिर बुधवार को भोपाल पहुंचे हैं। वे अरेरा कॉलोनी स्थित संघ के प्रदेश कार्यालय समिधा पहुंच गए हैं। बताया जा रहा है कि वे इस दौरान राम मंदिर निर्माण, संघ समेत भाजपा की उपचुनाव की तैयारियों की समीक्षा करेंगे।

 

संघ प्रमुख मोहन भागवत बुधवार को भोपाल पहुंचे। उनके साथ आरएसएस के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी भी हैं। संघ प्रमुख दो माह में तीसरी बार भोपाल पहुंचने को लेकर काफी अहम माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि वे दो दिनों तक भोपाल में रुकेंगे और अनुषांगिक संगठन समेत भाजपा के पदाधिकारियों के साथ चुनाव को लेकर चर्चा करेंगे। वे सालभर के कार्यों की समीक्षा करेंगे। साथ ही विश्व हिन्दू परिषद के साथ भी बैठक करेंगे। माना जा रहा है कि वे राम मंदिर निर्माण को लेकर भी पदाधिकारियों के साथ विचार विमर्श कर सकते हैं। नवंबर में होने वाले 28 सीटों पर उपचुनाव को देखते हुए भी मोहन भागवत का यह दौरा काफी अहम है। चुनाव की तैयारियों के बीच वे भाजपा, संघ और अनुषांगिक संगठनों के पदाधिकारियों से विचार-विमर्श करेंगे।

 

 

दो माह में तीसरा दौरा

  • इससे पहले मोहन भागवत 20 जुलाई को भोपाल आए थे। इस दौरान उन्होंने केरवा डैम के पास स्थित शारदा विहार में पांच दिनों तक बैठक कर राम मंदिर और उपचुनाव पर भी चर्चा की थी। उनके साथ दो दर्जन पदाधिकारी भी भोपाल आए थे। इस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री समेत कई मंत्रियों के साथ भी उन्होंने मुलाकात की थी।
  • मोहन भागवत का इसके बाद 7 अगस्त को दौरा कार्यक्रम था। वे तीन दिनों तक भोपाल में रुके थे और ठेंगड़ी भवन में पदाधिकारियों के साथ बैठक की थी। वे 10 अगस्त तक रहे थे।


पिछले दौरे पर दिग्विजय ने उठाए थे सवाल

मोहन भागवत के भोपाल दौरे को लेकर कांग्रेस नेता एवं राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने ट्वीट के जरिए सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि भागवत जी का भोपाल में हार्दिक स्वागत है। कृपया भाजपा के मुख्यमंत्री और मंत्रीगणों के आचरण व भ्रष्टाचार के विषय पर अपने स्वयं सेवकों से गुप्त रिपोर्ट अवश्यक लें। शिवराज जी के परिवारजनों का अवैध रेत खनन में सम्मिलित होने की भी जानकारी अवश्यक लें। उन्होंने यह भी कहा था कि विधायकों की खरीद-फरोख्त पर भी अपने स्वयं सेवकों से जानकारी लेनी चाहिए और साथ ही प्रजातंत्र व्यवस्था में विधायकों के आचरण पर वे क्या सोचते हैं, वह भी स्पष्ट करना चाहिए।

Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned