scriptSangh-Scindia had the upper hand, fulfilled the promises of the by-ele | संघ-सिंधिया का पलड़ा रहा भारी, उपचुनाव के वादों को किया पूरा | Patrika News

संघ-सिंधिया का पलड़ा रहा भारी, उपचुनाव के वादों को किया पूरा


---------------------------------
सियासी नब्ज थामने निगम-मंडल में थोकबंद २५ नियुक्तियां : हारे नेताओं को भी नवाजा
------------------------------------

भोपाल

Updated: December 25, 2021 12:03:59 am

[email protected] भोपाल। विधानसभा चुनाव 2023 के ठीक दो साल पहले शिवराज सरकार ने प्रदेश की सियासी नब्ज को थामने राज्य के निगम-मंडलों में थोकबंद नियुक्तियां की। इन नियुक्तियों के जरिए सारे सियासी समीकरणों को साधने की कोशिश की गई है। मुख्य रूप से एक ओर जहां केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक नेताओं को नवाजा गया है, तो दूसरी ओर आरएसएस (संघ) के नेताओं को भी सिर-माथे पर रखकर जगह दी गई। साथ ही उपचुनाव के समय किए वादों को भी पूरा किया गया है। इन नियुक्तियों में मुख्य रूप से यह तीन कारण हावी रहे हैं।
------------------------------------
सियासी सबक का असर-
इन थोकबंद नियुक्तियों में सियासी सबक का भी असर दिखता है। वजह ये कि 2018 में भाजपा चुनाव हार गई थी। तब, अनेक निगम-मंडल के पद खाली पड़े थे। इससे पहले दो दशक में कभी भी सारे निगम-मंडलों के पद नहीं भरे गए। न कभी इस प्रकार थोकबंद नियुक्तियां की गई। इसमें भाजपा सरकार के साथ कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने भी कभी पूरे पदों को भरने में रूचि नहीं ली। इसलिए इस बार शिवराज सरकार ने सियासी सबकों को ध्यान में रखकर थोकबंद नियुक्तियां की है।
------------------------------------
यूं रहे सिंधिया भारी-
सिंधिया समर्थक नेताओं में चुनाव हारने वालों को पुनर्वास दिया गया है। इनमें तीनों तत्कालनी मंत्री सहित अन्य विधायक शामिल हैं। सिंधिया समर्थक इमरती देवी को एलयूएन और गिर्राज दंडोतिया को ऊर्जा विकास निगम का अध्यक्ष बनाया है। इनके साथ ही कांग्रेस छोडक़र भाजपा में आए एंदल सिंह कंसाना को भी एमपी स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष का पद मिला है। ये तीनों ही मंत्री रहते हुए उपचुनाव हार गए थे। वहीं मुन्नालाल गोयल, मजू दादू, रणवीर जाटव, रघुराज कंसाना, जसवंद जाटव आदि को भी हार के बाद पुनर्वास के तौर पर निगम-मंडल दिए गए हैं। इनके अलावा विनोद गोटिया को पर्यटन निगम अध्यक्ष बनाया है। इन्हें राज्यसभा चुनाव हारने के बाद अब संगठन की ओर से मौका दिया गया है।
------------------------------------
ऐसे भी रहे समीकरण-
आरएसएस के जिन संभागीय संगठन मंत्रियों को कुछ समय पूर्व हटाया गया था, उनमें चार नेताओं को निगम मंडलों में जगह दी गई है। इसके अलावा उपचुनाव के समय किए वादों को पूरा करने के लिहाज से भी निगम-मंडल में पुनर्वास किया गया है। इनमें कुछ को चुनाव न लडने तो कुछ को चुनाव के समय साथ देने का ईनाम मिला है।इसमें सावन सोनकर को उपचुनाव के समय वादे के तहत अध्यक्ष, मप्र राज्य सहकारी अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम बनाया है। वहीं संघ के जरिए जयपाल चावड़ा इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष बने हैं।
------------------------------------
BJP
जामुल नगर पालिका में भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर, BJP और कांग्रेस ने जीता 3-3 वार्ड, चरोदा निगम में कांग्रेस आगे,BJP,जामुल नगर पालिका में भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर, BJP और कांग्रेस ने जीता 3-3 वार्ड, चरोदा निगम में कांग्रेस आगे
ये हुई नियुक्तियां : क्या रहे कारण ये भी जानिए...
नाम - नियुक्ति का कारण
- विनोद गोटिया, अध्यक्ष, मप्र राज्य पर्यटन विकास निगम - संगठन व जेपी नडडा के कारण मौका
- इमरती देवी, अध्यक्ष मप्र लघु उद्योग निगम- सिंधिया समर्थक होने से
- मुन्नालाल गोयल, अध्यक्ष, राज्य बीज एवं फार्म विकास निगम- सिंधिया समर्थक
- एंदल सिंह कंसाना, अध्यक्ष, मप्र स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवपलमेंट कारपोरेशन - मंत्री रहते उपचुनाव हारे, सीएम ने मौका दिया
- रणवीर जाटव, अध्यक्ष, संत रविदास मप्र हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम- सिंधिया समर्थक
- रघुराज कंसाना, अध्यक्ष, मप्र पिछडा वर्ग एवं अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम- सिंधिया समर्थक
- गिर्राज दंडोतिया, अध्यक्ष, मप्र ऊर्जा विकास निगम- सिंधिया समर्थक
- जसवंत जाटव, अध्यक्ष राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम- सिंधिया समर्थक
- सावन सोनकर, अध्यक्ष, मप्र राज्य सहकारी अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम- उपचुनाव के समय का वादा
- जयपाल चावड़ा, अध्यक्ष, इंदौर विकास प्राधिकरण- संघ की ओर से- पूर्व संगठन मंत्री
- अजय यादव, उपाध्यक्ष, मप्र पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक वित्त विकास निगम- उपचुनाव के समय का वादा, पूर्व विधायक हैं
- निर्मला बारेला, अध्यक्ष, मप्र अनुसूचित जनजाति वित्त विकास निगम- संगठन की ओर से
- अमिता चपरा, अध्यक्ष, मप्र महिला वित्त विकास निगम- संगठन की ओर से
- जीतेंद्र लटोरिया, अध्यक्ष, मप्र खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड- संघ की ओर से - पूर्व संगठन मंत्री
- नरेंद्र बिरधरे, उपाध्यक्ष, मप्र कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड- संगठन व उमा भारती
- प्रहलाद भारती, उपाध्यक्ष, मप्र पाठय पुस्तक निगम - पूर्व विधायक उपचुनाव में वादा- उपचुनाव के समय का वादा-
- शैलेंद्र बरूआ, अध्यक्ष मप्र पाठय पुस्तक निगम- संघ की ओर से- पूर्व संगठन मंत्री
- राजेंद्र सिंह मोकलपुर, उपाध्यक्ष, मप्र खनिज विकास निगम - उपचुनाव का वादा व भूपेंद्र सिंह
- शैलेंद्र शर्मा, मप्र कौशल विकास एवं रोजगार बोर्ड - संगठन की ओर से व उमा भारती
- आशुतोष तिवारी, अध्यक्ष, मप्र गह निर्माण एवं अधोसंरचना निर्माण मंडल- संघ की ओर से- पूर्व संगठन मंत्री
- मंजू दादू, उपाध्यक्ष मप्र राज्य कषि विपणन बोर्ड - नेपानगर उपचुनाव के समय का वादा
- नरेंद्र सिंह तोमर, उपाध्यक्ष, मप्र राज्य पर्यटन विकास निगम - उपचुनाव वादा पूर्व विधायक
- राजकुमार कुशवाह, उपाध्यक्ष, राज्य बीज एवं फार्म विकास निगम - उपुचनाव का वादा
- रमेश खटीक, उपाध्यक्ष, मप्र राज्य सहकारी अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम- उपचुनाव का वादा
- राजेश अग्रवाल, उपाध्यक्ष मप्र स्टेट सिविल सप्लाईज कारपोरेशन - उपचुनाव के समय का वादा
------------------------------------

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022: परम विशिष्ट सेवा मेडल के बाद नीरज चोपड़ा को पद्मश्री, देवेंद्र झाझरिया को पद्म भूषणRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीAloe Vera Juice: खाली पेट एलोवेरा जूस पीने से मिलते हैं गजब के फायदेगणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने में क्या है अंतर, जानिए इसके बारे मेंRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस परेड में हरियाणा की झांकी का हिस्सा रहेंगे, स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.