Sawan 2019 : कई संयोगों से युक्त होगा सावन, नौ दिन रहेगा सर्वार्थ सिद्धि योग

17 से होगी सावन की शुरुआत: चार सोमवार में से दो पर सोम प्रदोष का योग
रवि योग और अमृत सिद्धि भी इस माह में रहेंगे विद्यमान

By: KRISHNAKANT SHUKLA

Published: 07 Jul 2019, 11:51 AM IST

भोपाल. सावन ( Sawan 2019 ) माह की शुरुआत 17 जुलाई से हो रही है। इस बार यह माह कई शुभ संयोगों से युक्त रहेंगे। शिव आराधना के लिए विशेष शुभ माने जाने वाले इस माह में बनने वाले कुछ और विशेष संयोग इसे और खास बना देंगे।

पवित्र सावन माह में इस बार 12 दिन सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग रहेगा। इसी तरह अमृत सिद्धि योग और रवि योग के संयोग भी महीने में कई बार आएंगे। सावन माह 17 जुलाई से शुरू होकर 15 अगस्त रक्षाबंधन तक रहेगा। सावन माह भगवान शिव को विशेष प्रिय माना जाता है, और पूरे माह में भगवान भोलेनाथ की आराधना होती है।

ऐसा माना जाता है कि देवशयन के बाद सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु चार माह तक क्षीर सागर में विश्राम करते हैं, और भगवान भोलेनाथ सृष्टि की बागडौर संभालते हैं। सावन माह में भगवान भोलेनाथ प्रकृति के सौंदर्य को निहारते हैं और विद्यमान रहते हैं। इसलिए सावन में भगवान भोलेनाथ की विशेष पूजा का विधान है।

भोलेनाथ

पूरे माह शिव आराधना करना होगा फलदायी

पं. विष्णु राजौरिया के अनुसार सावन माह की शुरुआत बुधवार के दिन और उत्तराषाढ़ नक्षत्र में होगी। शुभ दिन और शुभ नक्षत्र में शुरुआत होने से सावन में अच्छी बारिश होगी और सुख समृद्धि बढ़ेगी। पूरे माह में नौ दिन सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा। यह एक सिद्धि योग माना गया है।

इसमें शुभ कार्य, विशेष अनुष्ठान आदि करना फलकारी होता है। वैसे तो पूरा सावन माह ही शिव आराधना, रूद्राभिषेक, अभिषेक के लिए विशेष शुभ माना जाता है, लेकिन सर्वार्थ सिद्धि योग के दिन भोलेनाथ का रूद्राभिषेक करना अत्यंत फ लदायी होता है।

सावन में सोमवार

पहला 22 जुलाई
दूसरा 29 जुलाई
तीसरा 5 अगस्त
चौथा 12 अगस्त

इस बार खास होंगे चारों सोमवार


ज्योतिषाचार्य अंजना गुप्ता ने बताया कि इस बार सावन माह में चार सोमवार है, और चारों ही सोमवार के दिन विशेष संयोग रहेंगे। इसमें दो सोमवार पर पंचमी तिथि आ रही है और दो सोमवार पर प्रदोष रहेगा। पंचमी वाले सोमवार के दिन जिन लोगों को कालसर्प दोष है, उनके लिए विशेष शुभ रहेगा। इस दिन अभिषेक, पूजा अर्चना करने से इस दोष के दुष्प्रभाव से राहत मिलेगी।

इसी प्रकार जिस सोमवार को प्रदोष है, उस दिन अभिषेक, रूद्राभिषेक, पूजा अर्चना करने से भगवान भोलेनाथ की विशेष कृपा मिलेगी और रूके हुए काम पूरे होंगे। सावन के पहले सोमवार 22 जुलाई को मोना पंचमी और 5 अगस्त के दो सोमवार पर नागपंचमी होगी। इसी प्रकार 29 जुलाई और 12 अगस्त के सोमवार पर प्रदोष रहेगा और इस दिन सोम प्रदोष का संयोग बनेगा।

Show More
KRISHNAKANT SHUKLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned