एससी, एसटी एक्ट, आरक्षण को लेकर विरोध जारी, कहीं निकली पदयात्रा तो कहीं सद्बुद्धि यज्ञ

एससी, एसटी एक्ट, आरक्षण को लेकर विरोध जारी, कहीं निकली पदयात्रा तो कहीं सद्बुद्धि यज्ञ

अभा क्षत्रिय महासभा ने राष्ट्रपति के नाम सौपा ज्ञापन, महाराणा प्रताप मूर्ति पर माल्यार्पण कर आरक्षण विरोध नारे लगाए- वैष्णवधाम मंदिर में सद्बबुद्धि यज

भोपाल, एससी, एसटी एक्ट और जातिगत आरक्षण को लेकर विरोध का सिलसिला जारी है। इसे लेकर संगठन लगातार लामबंद होकर इसका विरोध जता रहे हैं। शनिवार को भी शहर में इस एक्ट के विरोध में संगठनों के आयोजन हुए। इस दौरान इस एक्ट को निरस्त करने और आरक्षण व्यवस्था आर्थिक आधार पर लागू करने की मांग की गई।

पदयात्रा निकाली, २ लाख लोगों का हस्ताक्षरयुक्त ज्ञापन सौपा अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा द्वारा आरक्षण को आर्थिक आधार पर लागू करने और एससी.एसटी अध्यादेश के खिलाफ शनिवार को मॉ दुर्गा शिव मंदिर परिसर, प्रगति पेट्रोल पंप के सामने से पदयात्रा निकाली। यह बोर्ड ऑफिस, चौराहा होते हुए ज्योति टॉकीज स्थित महाराणा प्रताप की प्रतिमा के समक्ष पहुंची। यहां आरक्षण के विरोध में नारेबाजी की गई।

इसके बाद आरक्षण के विरोध में राष्ट्रपति के नाम २ लाख हस्ताक्षरयुक्त ज्ञापन कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर एडीएम को सौपा गया। महासभा की जिलाध्यक्ष राखी परमार ने बताया कि पिछले दो महीने से महासभा आरक्षण के विरोध में लगातार गली मोहल्लों, मंदिर, स्कूल कॉलेज के बाहर आरक्षण समाप्त करने के लिए लोगों से हस्ताक्षर कराए थे। इस मौके पर बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

सरकारों की सद्बुद्धि के लिए हवन मां वैष्णो धाम आदर्श नवदुर्गा मंदिर में प्रगतिशील ब्राह्मण संस्था के कार्यक र्ताओं ने सभी राजनीतिक पाटियों के राजनेताओं की सद्बुद्धि के लिए मां भगवती से प्रार्र्थना की और सद्बुद्धि यज्ञ किया। इस दौरान सभी ने एससी, एसटी एक्ट को संशोधित कर उसी प्रकार लागू करने की मांग की गई, जैसे सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था।

संस्था के चंद्रशेखर तिवारी ने कहा हम इसका लगातार विरोध करते रहेंगे। सवर्ण समाज के लोग आज करेंगे विरोध प्रदर्शन एससी, एसटी एक्ट के विरोध में सवर्ण समाज के लोग शाम ४ बजे बोर्ड ऑफिस चौराहे पर अपना विरोध दर्ज कराएंगे। इस दौरान मप्र के सभी लोकसभा सांसद, राज्यसभा सांसद, प्रमुख पार्टियों के राष्ट्रीय अध्यक्षों के खिलाफ नारेबाजी कर अपना आक्रोश जताएंगे।

Ad Block is Banned