किराया बढ़ाने पर रार, अभिभावक लाचार

प्रशासन दिखाए सख्ती : साल में एक बार किराया बढ़ाना है, 20 फीसदी बढ़ाने पर अड़े ऑपरेटर्स

By: manish kushwah

Updated: 22 Sep 2018, 09:46 AM IST

भोपाल. शहर के 1200 से ज्यादा प्राइवेट और 112 सरकारी स्कूलों के बच्चों को परिवहन सुविधा देने वाले बस-वैन ऑपरेटर्स शिक्षण सत्र 2018-19 के बीच फिर से किराए में 20 प्रतिशत बढ़ोतरी पर अड़ गए हैं। यह मांग तब की जा रही है जब जिला प्रशासन ने साल में सिर्फ एक बार किराया बढ़ाने की शर्त तय कर रखी है। ऑपरेटर्स डीजल-पेट्रोल के दामों में हो रही बढ़ोतरी को इसकी वजह बता रहे हैं।


अपर कलेक्टर दिशा नागवंशी ने साफ किया है कि उनके प्रस्ताव पर किराया बढ़ाने वाली प्रशासनिक समिति को फैसला करना है। यदि किसी भी ऑपरेटर ने बगैर मंजूरी ज्यादा किराया वसूला तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इधर, जमीनी हकीकत दावों से बिल्कुल उलट है। प्रशासन को सौंपी गई किराया सूची का पालन नहीं होना आम बात हो गई है। एक से 20 किलोमीटर की दूरी के लिए बसों का किराया 1050 रुपए तय है,

लेकिन1200रुपए तक वसूले जा रहे हैं। एक से 20 किलोमीटर की दूरी के लिए वैन ऑपरेटर्स की एसोसिएशन 800 रुपए वसूलने का दावा करती है, लेकिन अभिभावकों से1400 रुपए तक की वसूली हो रही है। बेतहाशा कमाई के लिए बनाए जा रहे दबाव में प्रशासन आया तो राजधानी के तीन लाख बच्चों के माता-पिता की जेब ढीली होगी। इससे घरों का बजट भी गड़बड़ा जाएगा।

वीरेंद्र कुमार, उपाध्यक्ष, बस एसोसिएशन
क्त साल के बीच में किराया क्यों बढ़ाया जा रहा है?
-साल में एक बार वृद्धि का फैसला हुआ था, लेकिन कलेक्टर ने पिछले साल बढ़ी दरें जारी नहीं की।
-किराया सूची की तुलना में पहले से ज्यादा वसूली की जा रही है।
वसूली हम नहीं वैन-मैजिक को पीला रंग कर चलाने वाले ड्राइवर कर रहे हैं जो अवैध है।
-प्रशासनिक समिति ने आपकी दरें मंजूर कर ली हैं क्या, बगैर इसके कैसे अधिक वसूल रहे हैं?
साल में एक बार किराया बढ़ाने की बात तय हो चुकी थी इसलिए ये वृद्धि कर रहे हैं।

शिव कुमार सोनी, अध्यक्ष, वैन एसोसिएशन
-किराया क्यों बढ़ाया जा रहा है?
अभी तक किराया नहीं बढ़ाया, यदि बसों का किराया बढ़ा तो हम भी बढ़ाएंगे।
-क्या बसों की तरह वैन की किराया सूची भी तय है?
वैन सिर्फ एक से 25 किमी की दूरी के बीच चलती हंै और प्रति सीट 800 रुपए फीस ली जाती है।
-कटारा हिल्स से 11 नंबर मार्केट तक 1400 रुपए किराया वसूला जा रहा है।
आप मुझे ड्राइवर का नंबर दीजिए, मैं बात करूंगा। पहले से तय है फिर भी इतना अधिक किराया लेना तो गलत है।

स्कूल बस-वैन ऑपरेटर्स को साल में एक बार किराया बढ़ाना है। पिछले साल किराया नहीं बढ़ा तो भी नई दरों पर कलेक्टर, आरटीओ, पैरेंट्स और ऑपरेटर्स प्रतिनिधि वाली समिति फैसला लेगी। ज्ञापन देकर मनमाना किराया नहीं बढ़ा सकते। कोई वसूली करे तो अभिभावक इसकी सूचना जिला प्रशासन को दें।
दिशा नागवंशी, अपर कलेक्टर भोपाल

manish kushwah Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned