स्कूल खुलते ही लगा जाम , 2000 बसें और 5000 स्कूल वैन उतरीं सड़कों पर

सुरक्षा ताक पर: बीआरटीएस लेन में बसें चलाने का फैसला अधर में तो एलपीजी से दौड़ रहीं वैन

By: Amit Mishra

Published: 25 Jun 2019, 12:31 PM IST

भोपाल। स्कूल (school) खुलते ही राजधानी में बसों (school bus )और वैन (van) की भागदौड़ शुरू हो गई। इनका संचालन कहीं स्कूल प्रबंधन ( school management ) के पास है तो कहीं ठेके पर। शहर में दो हजार स्कूल बसें (2 thousand school buses) तो पांच हजार (5000 schools) van हैं। सोमवार को जब स्कूल बस ( bhopal school bus ) व वैन (van) सड़कों पर उतरे तो चौक-चौराहों पर जाम जैसे हालात बने। तीन माह पहले बीसीएलएल ( BRTS )के साथ जिला प्रशासन (District administration ) और स्कूल बस ऑपरेटरर्स (Meeting of School Bus Operators ) की बैठक में बीआरटीएस कॉरिडोर में स्कूल बसें चलाने पर सहमति बनी थी। बच्चों की सुरक्षा के लिए स्कूल बस ऑनर्स ने 20 प्वॉइंट पर बदलाव की मांग की थी। बीसीएलएल ने इस दिशा में कोई काम नहीं किया।

van

गैस बम का सफर भी शुरू
शहर में कई स्कूल वैन गैस से चलती नजर आईं। ड्राइवरों के पास न तो आईडी थे, न यूनीफार्म। वैन में आठ के बजाय 12 से 14 बच्चों को ठूंस-ठूंस कर भरा गया था। उमस के चलते पीरगेट निवासी नौ साल की यशिका की तबीयत बिगड़ गई। वैन में उल्टी और चक्कर आने के बाद वह बेहोश हो गई।

 

परिवहन विभाग ने चलाया अभियान
परिवहन विभाग ने सोमवार से अभियान शुरू किया। कार्रवाई के दौरान फिटनेस, अग्निशामक यंत्र, जीपीएस, सीसीटीवी कैमरे जांचे गए। इस दौरान मदर टेरेसा स्कूल की 11 बसों में कमियां मिलीं। इनके संचालकों को नोटिस जारी किया गया है।

यहां बनी जाम की स्थिति
सोमवार दोपहर स्कूल बसों के कारण कई जगह जाम की स्थिति बनी। अरेरा कॉलोनी, 10 और 11 नंबर स्टॉप, सात नंबर, बिट्टन मार्केट, चेतक ब्रिज और पुराने शहर में ट्रैफिक व्यवस्था गड़बड़ाई।

 

बीआरटीएस में स्कूल बस की राह में अड़चन
आरआरएल तिराहे से मिसरोद तक दोनों ओर सर्विस रोड है। दोनों ही ओर अवैध पार्किंग और अतिक्रमण है।


मोती मस्जिद से अग्रसेन चौराहे तक वन-वे है। यहां चौड़ीकरण के लिए भूमिपूजन हो गया, लेकिन काम चालू नहीं हो पाया।


बीआरटीएस लेन में बैरागढ़, मानसरोवर, न्यू मार्केट में अवैध पार्किंग से ट्रैफिक जाम की समस्या हो रही है।


राहगीरों के लिए बीआरटीएस क्रॉस करने के लिए फुट ओवरब्रिज की जरूरत है, लेकिन इस बारे में कुछ नहीं हुआ।


सत्र के पहले दिन से स्कूल बसों की जांच शुरू कर दी है। गैस से चल रही वैन जब्त की जाएंगी। स्कूल बस संचालकों को नियमों का पालन करना होगा। बच्चों की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जा सकता।
संजय तिवारी, आरटीओ

Show More
Amit Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned