scriptSchools open after 2.5 years | 2.5 साल बाद खुले स्कूल : बच्चों ने बताया अपनों ने छोड़ा साथ, स्कूल में बने नए दोस्त, पैरेंट्स भी दें इन बातों पर ध्यान | Patrika News

2.5 साल बाद खुले स्कूल : बच्चों ने बताया अपनों ने छोड़ा साथ, स्कूल में बने नए दोस्त, पैरेंट्स भी दें इन बातों पर ध्यान

करीब ढ़ाई साल बाद सोमवार को खुले स्कूलों का महौल काफी अलग था, क्योंकि कई बच्चों ऑनलाइन क्लास की आदत लग गई थी, तो कई बच्चों ने कोरोना में अपने परिजनों को खो दिया, ऐसे में स्कूलों में भी कहीं खुशी तो कहीं गम का माहौल नजर आया.

भोपाल

Updated: March 07, 2022 04:43:04 pm

भोपाल. करीब ढ़ाई साल बाद सोमवार को खुले स्कूलों का महौल काफी अलग था, क्योंकि कई बच्चों ऑनलाइन क्लास की आदत लग गई थी, तो कई बच्चों ने कोरोना में अपने परिजनों को खो दिया, ऐसे में स्कूलों में भी कहीं खुशी तो कहीं गम का माहौल नजर आया, हालांकि बच्चों को लंबे समय बाद फिर से स्कूल की आदत डालने के लिए कुछ दिन पढ़ाई नहीं कराते हुए खेलकूद, मनोरंजन और सांस्कृतिक गतिविधियां कराने का निर्णय लिया है, ताकि बच्चे फिर से स्कूलों में रम जाएं, उसके बाद ही पढ़ाई की शुरूआत की जाएगी।

ढ़ाई साल बाद खुले स्कूल : बच्चों ने बताया अपनों ने छोड़ा साथ, स्कूल में बने नए दोस्त, आप भी दें इन बातों पर ध्यान
ढ़ाई साल बाद खुले स्कूल : बच्चों ने बताया अपनों ने छोड़ा साथ, स्कूल में बने नए दोस्त, आप भी दें इन बातों पर ध्यान

बच्चों के लिए स्कूल बना चुनौती
कोरोना महामारी ने बच्चों को अलग ही तरीके से पढऩा सीखा दिया है, अधिकतर बच्चे अब घर में रहकर ऑनलाइन पढ़ाई की आदत डाल चुके हैं, उनके हाथ में अधिकतर समय मोबाइल ही रहता है, कई बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ गेम भी खेलने लगे हैं, अब उन्हें शिक्षकों की डांट और फटकर भी सुनने को नहीं मिलती थी, ऐसे में अब फिर स्कूल से खुले हैं, तो बच्चों स्कूल जाना किसी चुनौती से कम नहीं लग रहा है, क्योंकि आजादी से वे घर पर पढ़ाई कर रहे थे, वह अब फिर से छीनती नजर आने लगी है। ऐसे में परिजनों को भी चाहिए कि वे बच्चों ेके साथ ऐसा व्यवहार करें, जिससे उन्हें भी स्कूल जाने में अच्छा लगने लगे।

शिक्षकों के भी छलक गए आंसू
पहले दिन जब बच्चे स्कूल पहुंचे तो शिक्षकों ने उन्हें पढ़ाने की अपेक्षा उनसे अपने और परिवार के हालचाल जानें, ऐसे में किसी ने बच्चे ने बताया कि उसने कोरोना में पिता को खो दिया, तो किसी ने बताया कि उसने अपनी माता को खो दिया, ऐसे में बच्चे भारी मन से स्कूल आए तो उनकी बातें सुनकर शिक्षकों की आंखों से आंसू छलक उठे।

बच्चों ने बनाए नए दोस्त
लंबे समय बाद स्कूल खुले तो बच्चों को सबकुछ नया-नया सा नजर आने लगा, अधिकतर बच्चों को अपने दोस्त करीब दो-ढाई साल बाद मिले, कुछ तो एक दूसरे को पहचान गए, वहीं कुछ ने फिर से नए दोस्त बनाए। उन्होंने घर आकर अपने माता-पिता और परिजन को स्कूलों के हालात और पहले दिन हुई गतिविधियों के बारे में बताया।

स्कूलों में एक्टिविटी, घर में भी बनाएं बेहतर माहौल
प्रदेश के अधिकतर स्कूलों ने ये तय किया है कि बच्चों को करीब १५ दिन तक स्कूल में पढ़ाने की अपेक्षा विभिन्न ऐसी गतिविधियां कराई जाएंगी, जिससे उनकी स्कूल के प्रति ललक बढ़े, और वे स्कूल आने से चिढ़े नहीं, इसलिए बच्चों के परिजनों को भी चाहिए कि वे बच्चों के साथ स्नेह का वातावरण बनाकर उन्हें स्कूल भेजने के लिए प्रेरित करें. इसके लिए कुछ टिप्स भी अपनाएं।

यह भी पढ़ें : 1 नंबर भी कम दिया तो लगेगा 100 रुपए जुर्माना

-बच्चों को उनकी पसंद का टिफिन बनाकर दें।
-बच्चों को तैयार करते समय चिढ़चिढ नहीं करें।
-स्कूल से आने के बाद उनसे स्कूल में हुई गतिवधियों के बारे में चर्चा करें।
-कुछ दिन होमवर्क को लेकर अधिक दवाब नहीं डालें।
-हो सके तो बच्चों को खुद छोडऩे और लेने जाएं।
-उनके साथ मित्रवत व्यवहार करते हुए रहें।
-उनकी पसंद का ख्याल रखें।
-बच्चों के स्कूल टीचर से भी चर्चा करें और यह भी जानें कि वह स्कूल में किस तरह रहता है।
-बच्चों को मोबाइल देना अचानक पूर्ण रूप से बंद नहीं करें, धीरे-धीरे ये आदत छुड़ाएं।

जानिये क्या कहते हैं मनोचिकित्सक
हालांकि लंबे समय बाद बच्चों को स्कूल जाने में थोड़ी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन माता-पिता सहित घर के सभी सदस्यों को ये प्रयास करना चाहिए कि उन्हें बेहतर वातावरण दें, उन्हें स्कूल की अहमियत बताएं, उन्हें स्वयं का उदाहरण भी दें कि किस प्रकार हमने भी स्कूल जाकर ही आज ये मुकाम हासिल किया है, बच्चों को उनकी उम्र के अनुसार समझाते हुए स्कूल जाने के लिए प्रेरित करें, क्योंकि स्कूल ही बच्चों के सर्वांगीण विकास का केंद्र होते हैं, वे स्कूल से पढऩे के साथ ही नए दोस्त बनाना, खेलकूद आदि सभी गतिविधियां सीखते हैं।
-डॉ सत्यकांत त्रिवेदी, मनोचिकित्सक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: 14 ओवर के बाद आरसीबी 3 विकेट के नुकसान पर 111 रनपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.