जेल से लुटेरे को छोडने के बाद याद आया दूसरा वारंट

जेल से लुटेरे को छोडने के बाद याद आया दूसरा वारंट

Harish Divekar | Publish: Oct, 10 2018 09:58:30 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India


भाग—दौड के बाद पकडा, जेल प्रबंधन लापरवाही

राजधानी सेंट्रल जेल में एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। एक लुटेरे कैदी को सुबह बिना जमानत के रिहा कर दिया। जब न्यायालय से उसके संबंध में पेशी वारंट जेल पहुंचा, तो जेल विभाग में उसे खोजने के लिए अफरा-तफरी मच गई। गनीमत रही कि लुटेरा अपने घर तक ही पहुंचा और फरार होने मे कामयाब नहीं हो सका। जेल विभाग आनन-फानन में सक्रिय हुआ और स्थानीय पुलिस की मदद से उसे फिर से गिरफ्तार कर जेल में बंद कर दिया।

दरअसल मामला यह है कि मंडीदीप निवासी शेख शाहरूख पिता शेख सलीम जुलाई २०१८ में लूट-पाट करने के आरोप में गिरफ्तार होकर भोपाल सेंट्रल जेल पहुंचा था।

उसे रेलवे कोर्ट की तरफ से जेल भेजा गया है। १५ दिन पहले उसकी लूट के आरोप में पेशी थी। उस पेशी के बाद बुधवार को रेलवे कोर्ट से एक १५ दिन की सजा का वारंट भी जेल पहुंच गया।

 

लेकिन जेल प्रबंधन ने उसके लूट वाले प्रकरण पर ध्यान नहीं दिया और उसे बुधवार सुबह १५ दिन की सजा पूरी होने पर रिहा कर दिया।

हालांकि, जेल सूत्र बताते हैं कि कैदी ने रिहाई के संबंध में आपत्ति जताते हुए कहा कि अभी उसे सजा नहीं पड़ी है, फिर कैसे रिहा किया जा रहा है। अभी उसका प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है।

बावजूद इसके जेल प्रबंधन ने उसकी बात पर गौर नहीं किया।
कोर्ट से दूसरा वारंट पहुंचा, तब चला पता

कैदी शेख शाहरूख का १५ दिन सजा पूरी होने का वारंट सामने आने पर उसे जेल प्रबंधन ने सुबह रिहा कर दिया। दोपहर में उसका लूट के प्रकरण में रेलवे कोर्ट से पेशी वारंट जेल पहुंचा, तो उसे खोजने के लिए अफरा-तफरी मच गई। इस बीच पता चला कि उसे रिहा कर दिया गया है।

 

आनन-फानन में जेल प्रबंधन ने मंडीदीप थाना पुलिस से संपर्क किया और उसके घर दबिश देकर उसे फिर गिरफ्तार कर लिया। अगर कोर्ट से दूसरा वारंट नहीं पहुंचता, तो जेल प्रबंधन को इस बात का पता ही नहीं चलता।
इनकी सुनें —

कैदी को गलती से उसे रिहा कर दिया। जिस वारंट में उसे रिहा किया गया, उसकी १५ दिन की सजा पूरी हो गई थी। इस गफलत में उसे रिहा कर दिया गया। जब लूट प्रकरण में पेशी वारंट जेल पहुंचा, तो उसे तत्काल संपर्क कर फिर से पकड़ कर जेल में बंद कर दिया गया है।
दिनेश नरगावे, अधीक्षक सेंट्रल जेल भोपाल

--------
गलती से कैदी को रिहा कर दिया, यह लापरवाही सामने आई है। फिलहाल कैदी को पकड़ लिया गया है। यह लापरवाही किस स्तर पर हुई, जांच की जा रही है।

संजय चौधरी, डीजी जेल मप्र

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned