सेल्फी का शौक ले गया मौत के मुंह में, बमुश्किल बचाई जान

भोपाल में बड़े तालाब में सेल्फी निकालते समय एक युवती गिरी, लोगों ने तत्परता दिखाई और रस्सी से बांधकर बाहर निकाला।

By: आसिफ सिद्दीकी

Published: 11 Dec 2017, 02:23 PM IST

भोपाल। आजकल युवा हर मौके को कैमरे में कैद करना चाहते हैं। एकांकी फोटो निकालने के लिए चले सेल्फी के चलन में लोग अपनी जान को भी जोखिम में डालने में नहीं चूक रहे हैं। ऐसा ही एक हादसा मध्प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी सामने आया। यहां स्थित बड़े तालाब के साथ सेल्फी निकालने के प्रयास में एक युवती तालाब में गिर पड़ी। समय रहते लोगों की निगाह हासदे पर पड़ गई और तत्काल बचाव अभियान शुरू कर दिया गया और जल्द ही युवती को पानी से बाहर निकाल लिया गया।

चीख पुकार सुनकर लोगों ने बचाई जान
वीआईपी रोड पर राजाभोज की मूर्ति के पास यह हादसा उस समय हुआ जब युवती अपनी सेल्फी निकालने का प्रयास कर रही थी। सेल्फी निकालते समय पुल से उसका पैर फिसला और वह तालाब में जा गिरी। तालाब में गिरने के बाद युवती ने शोर मचाना शुरू किया। युवती की आवाज सुनकर लोग इकट्ठा हुए और उसे बाहर निकालने का अभियान शुरू किया गया। इस दौरान काफी लोग वहां इकट्ठा हो गए और युवती को रस्सी से बांधकर बाहर निकाला गया।

सोसाइड पाइंट बन गया वीआईपी रोड
जिस स्थान पर सेल्फी निकालते समय युवती तालाब में वह स्थान शहर में सुसाइड पाइंट के रूप में विख्यात हो चुका है। इसी स्थान पर कई लोगों ने कूदकर अपनी जान दी है। यहां लगातार बढ़ते हादसों को देखते हुए नगर निगम ने गोताखोर और जीवन रक्षक उपकरणों की व्यवस्था कर रखी है। डूबी युवती को यहां मौजूद रस्सी और गोताखोरों की मदद से बाहर निकाला गया। बताते चलें नगर निगम ने यहां खतरनाक जगह होने के साइन बोर्ड भी लगा रखे हैं, लेकिन लोगों को इसपर खास असर नजर नहीं आता।

दो दिन बाद वायरल हुआ वीडियो
बड़े तालाब पर युवती के डूबने की घटना शनिवार की है, लेकिन सोमवार को इसका वीडियो वायरल हुआ। वीडियो वायरल होने के बाद इसकी जानकारी लोगों को मिली। हालांकि जिस स्थान पर हादसा हुआ वहां पानी कम होने के साथ ही काई होने से युवती को चोट नहीं आई और सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया।

आत्मविश्वास का प्रतीक है सेल्फी
सेल्फी की शुरुआत अपने आत्मविश्वास को जागृत करने के लिए की गई थी, लेकिन सेल्फी हमारे देश में शौक बन गया है इसके लिए लोग अपनी जान भी खतरे में डाल रहे हैं। पिछले साल अगस्त में मध्यप्रदेश के शहडोल में ऐसे ही एक हादसे में 16 साल के किशोर की नदी में डूबने से मौत हो गई थी। सेल्फी लेते समय हमें अपने आसपास के वातावरण का गंभीरता से निरीक्षण करना चाहिए, क्योंकि जब आप सेल्फी निकालते हैं तो पूरा ध्यान कैमरे पर होता है ऐसे में हम आगे पीछे नहीं देख पाते हैं यही कारण है कि अक्सर लोग सेल्फी निकालते समय हादसे का शिकार हो जाते हैं।

आसिफ सिद्दीकी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned