कमलनाथ सरकार को राज्यपाल ने दिया 'झटका', कांग्रेस बोली- यह गलत परंपरा होगी

कमलनाथ सरकार को राज्यपाल ने दिया 'झटका', कांग्रेस बोली- यह गलत परंपरा होगी

Muneshwar Kumar | Updated: 06 Oct 2019, 05:26:49 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

अप्रत्यक्ष तरीके से महापौर के चुनाव वाले अध्यादेश को राज्यपाल ने अभी नहीं दी है मंजूरी

भोपाल/ राज्य में अप्रत्यक्ष तरीके से महापौर के चुनाव मामले में कमलनाथ सरकार को झटका लगा है। इस संबंधित जो अध्यादेश गवर्नर लालजी टंडन के पास भेजे गए थे, लेकिन उन्होंने अभी तक मंजूरी नहीं दी है। जबकि नगर निकाय चुनाव से ही संबंधित एक विधेयक को उन्होंने मंजूरी दे दी है। उसके बाद कांग्रेस ने इस पर नाराजगी जताई। राज्यपाल के द्वारा अध्यादेश रोके जाने के फैसले पर कांग्रेस ने कहा है कि यह गलत परंपरा होगी।


दरअसल, मध्यप्रदेश में अभी तक महापौर के चुनाव प्रत्यक्ष तरीके से होते आए हैं। पिछले दिनों कमलनाथ की सरकार ने फैसला लिया कि अब मध्यप्रदेश में अप्रत्यक्ष तरीके से महापौर के चुनाव होंगे। यानी प्रदेश में अब पार्षद मेयर का चुनाव करेंगे। इस संशोधन के लिए सरकार अध्यादेश लाई थी। जिसे मंजूरी के लिए राज्यपाल लालजी टंडन के पास भेजा गया था। लेकिन अभी तक उन्होंने इसे मंजूरी नहीं दी है।

मंत्री ने की मुलाकात
वहीं, राज्यपाल लालजी टंडन के द्वारा इस अध्यादेश को रोके जाने के बाद नगर विकास मंत्री जयवर्धन सिंह और सचिव ने उनसे मुलाकात की। साथ ही गवर्नर के पास सरकार का रूख स्पष्ट करने की कोशिश की। ऐसे में अगर राज्यपाल आगे भी इस अध्यादेश को मंजूरी नहीं देते हैं तो निकाय चुनाव होने में मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दिसंबर में नगर निकायों के कार्यकाल खत्म हो रहे हैं।

79.jpg

यह गलत परंपरा होगी
राज्यपाल के द्वारा अभी तक महापौर बिल को मंजूरी नहीं दिए जाने पर कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा कि सम्मानीय राज्यपाल आप एक कुशल प्रशासक थे। संविधान में राज्यपाल कैबिनेट की अनुशंसा के तहत कार्य करते हैं। इसे राज्य धर्म कहते हैं। विपक्ष की बात सुनें, मगर महापौर चुनाव बिल नहीं रोके। यह गलत परंपरा होगी। जरा सोचिए।


प्रत्यक्ष तरीके से चुनाव चाहती है बीजेपी
सरकार के इस अध्यादेश का बीजेपी शुरू से ही विरोध कर रही है। ऑल इंडिया मेयर काउंसिल ने भी राज्यपाल से मिल इस अध्यादेश पर आपत्ति जताई थी। बीजेपी का कहना है कि मेयर के चुनाव सीधे ही होने चाहिए। ऐसे में संकेत यह भी मिल रहे हैं कि आने वाले दिनों में इस संशोधन को लेकर बीजेपी कोर्ट भी जा सकती है। बीजेपी विधायक विश्वास सारंग ने कहा है कि संवैधानिक पद पर आसीन व्यक्ति पर अपनी राजनीतिक रोटी सेकने के लिए ऐसे आरोप लगाना ग़लत है। राज्यपाल ने अपने अधिकार का उपयोग किया है। कांग्रेस नगरीय निकाय चुनाव में अपनी हार के डर से हठधर्मिता कर रही है। कांग्रेस अपने फ़ायदे के लिए लोकतंत्र का गला घोंट रही है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned