शाह बोले कांग्रेस के बड़े नेताओं को तोड़ो तभी बनेगा माहौल

शाह बोले कांग्रेस के बड़े नेताओं को तोड़ो तभी बनेगा माहौल

Harish Divekar | Publish: Oct, 16 2018 06:00:00 AM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

- रणनीति बनाने भाजपा मुख्यालय में दिनभर सिर जोड़ कर बैठे वरिष्ठ नेता

प्रदेश में कांग्रेस को हतोत्साहित करने और भाजपा का माहौल बनाने के लिए कांग्रेस के बड़े नेताओं की तोड़—फोड़ करना होगी।

यह फार्मूला भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को भोपाल दौरे पर चुनाव प्रबंधन समिति के पदाधिकारियों को बताया।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में इसके पहले 2013 के विधानसभा और 2014 के लोकसभा चुनाव में इस फार्मूले पर काम हो चुका है, उसके रिजल्ट भी हमारे सामने हैं।
शाह के निर्देश के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता इस फार्मूले पर काम करने में जुट गए हैं।

इसकी रणनीति बनाने के लिए केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, राज्य सभा सांसद प्रभात झा, भाजपा प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और संगठन महामंत्री सुहास भगत सुबह 12 बजे से 4 बजे तक सिर जोड़ कर बैठे रहे।

 

संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा को भी चर्चा के लिए एक घंटे के लिए बुलाया गया था। इस दौरान एक—एक संभाग पर चर्चा भी हुई। ठीक चुनाव से पहले कांग्रेस में बड़ी सेंध लगाने की तैयारी है।

सूत्रों के मुताबिक भाजपा जल्द ही चुनाव रणनीति के लिए संभाग स्तर पर एक-एक समिति गठित करेगी। इस समिति में उस संभाग के सीनियर और तेजतर्राट नेता शामिल किए जाएंगे।

यह समिति न केवल दूसरे दलों के प्रभावी चेहरों को तोड़ कर लाने का काम करेगी बल्कि इस बात पर भी नजर रखेगी कि भाजपा में बगावत या टूट-फूट ना हो सके।

मालवा में अहम भूमिका निभाएंगे कैलाश-

मालवा-निमाड़ में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने संभावित खतरे को पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयर्गीय को मोर्चा संभालने के लिए कहा है। अब तक प्रदेश की राजनीति में निष्क्रिय कैलाश, शाह के दौरे के बाद सक्रिय नजर आए।

 

 

उन्हें मालवा-निमाड़ के कुछ नेताआंे को तोडऩे के लिए भी कहा गया है।

- कहीं भागीरथ न बन जाएं उम्मीदवार -

प्रदेश में चल रही तोड़-फोड़ की राजनीति को लेकर कांग्रेस भी सतर्क है। सूत्रों की मानें तो कांग्रेस की सूची आने में देरी की एक वजह ये भी है, कांग्रेस नेताओं को आशंका है कि कहीं दूसरा पार्टी में दूसरा भागीरथ प्रसाद न निकल आए। इस सतर्कता के साथ साथ कांग्रेस नेता कई अन्य दलों के नेताओं से भी संपर्क में हैं, जिनमें भाजपा नेता भी शमिल हैं। कमलनाथ का कहना है कि तीस से ज्यादा भाजपा विधायक उनके संपर्क में हैं इसके अलावा भाजपा से आने वाला नेता यदि चुनाव जीतने योग्य हुआ तो उसे टिकट भी दिया जाएगा।

------

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned