scriptsharbati wheat : sharbati gehu price and Sehori Sharbati News | मांग और रेट ज्यादा फिर भी घट रहा शरबती का रकबा | Patrika News

मांग और रेट ज्यादा फिर भी घट रहा शरबती का रकबा

उलटबांसी : बिना सिंचाई पैदा होता है सबसे अच्छा sharbati wheat, दूसरी किस्मों का उत्पादन ज्यादा होने से किसान ले रहे ज्यादा उत्पादन

भोपाल

Updated: March 11, 2022 03:16:35 pm

भोपाल. आमतौर पर जिस चीज की बाजार में मांग और कीमत (sharbati gehu price) ज्यादा होती है, उसकी पैदावार में किसान ज्यादा रुचि लेते हैं। पर मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की खास पहचान वाले गेहूं शरबती के मामले में यह ठीक उल्टा है। इसका बड़ा कारण है कि सबसे अच्छी क्वालिटी का शरबती गेहूं बिना सिंचाई के पैदा होता है। सिंचाई करने से शरबती गेहूं की क्वालिटी घट जाती है। प्रदेश में बीते कुछ वर्षों में सिंचाई के साधनों में वृद्धि हुई है, सिंचित रकबा बढऩे से अब किसान का फोकस ज्यादा उत्पादन पर रहता है इसलिए इस विश्व प्रसिद्ध गेहूं का रकबा लगातार घट रहा है। किसान शरबती की जगह दूसरी फसल या गेहूं की ही कोई दूसरी वैरायटी की बुवाई कर रहे हैं। पहले अधिकांश किसान शरबती ही पैदा करते थे, अच्छे भाव मिलते थे। पर दूसरी किस्मों का उत्पादन तीन गुना तक है। शरबती एक बीघा में अधिकतम छह क्विंटल और दूसरी किस्म जैसे 322 से 12 और कुछ निजी कंपनियों का हाइब्रिड बीज 19 क्विंटल उत्पादन है। शरबती में कम पानी और न के बराबर खाद की जरूरत होती है। यही वजह है कि बड़ी कंपनियां इस गेहूं को जैविक गेहूं बताकर भी निर्यात करती हैं।
एक खास स्वाद, सोने जैसी चमक और एक समान दाने से खास पहचान बनाने से सीहोरी गेहूं (Sehori gehu) बड़ी कंपनियों में भी लोकप्रिय है। 500 साल पुरानी इस किस्म का अब असल स्वाद वाला शरबती का गढ़ अशोकनगर (Ashok nagar) बन रहा है। अशोकनगर के कृषि एसएडीओ मुकेश रघुवंशी के मुताबिक जिले के शरबती गेहूं के अच्छे होने के तीन कारण है। पहला यहां उर्वरक कम मात्रा में डाला जाता है, दूसरा एक सिंचाई करते हैं और तीसरा जमीन की गहरी मिट्टी है, पोटाश की मात्रा ज्यादा है और अन्य जिलों की तुलना में जमीन से माइक्रो न्यूट्रिएंट सीधे मिल जाते हैं और केमिकल डालने की जरूरत नहीं पड़ती।
sharbati_.jpg
sharbati wheat
sharbati_gehu1.jpg
IMAGE CREDIT: patrika
जितनी ज्यादा सिंचाई चमक उतनी कमजोर
देश में गेहूं की सबसे प्रीमियम किस्म शरबती ही है। इसे 'द गोल्डन ग्रेन' भी कहा जाता है, इसका रंग सुनहरा होता है। यह हथेली पर भारी लगता है और इसका स्वाद मीठा होता है। शरबती में गेहूं की दूसरी किस्मों की तुलना में ग्लूकोज और सुक्रोज जैसे सरल शर्करा की मात्रा अधिक होती है। एक से ज्यादा सिंचाई करने से शरबती की चमक फीकी पड़ जाती है। एक से ज्यादा सिंचाई करने पर यूरिया खाद भी ज्यादा देना पड़ेगा। इससे गेहूं में केमिकल की मात्रा बढ़ जाती है।

सीधे खेत का सौदा
शरबती गेहूं का बाजार इतना अच्छा है कि मंडी के अलावा सॉरटैक्स प्लांट चलाने वाले व्यापारी सीधे ही किसानों से संपर्क करके भी शरबती गेहंू की खरीद कर लेते हैं। प्लांट से एक साइज के दानों को पैकेटों में पैक कर अन्य प्रदेशों में भेजा जाता है। बगुल्या गांव का गेहूं का बेस्ट क्वालिटी की चमक बेस्ट होता है। 2018 में आष्टा मंडी में शरबती गेहूं 4701 रुपए क्विंटल तक बिका था। इस बार सीहोर में अधिकतम भाव 5200 रुपए प्रति क्विंटल है।
sharbati_gehu.jpg
IMAGE CREDIT: patrika
यूं घटा शरबती का रकबा
जिला वर्ष 2011-12 वर्ष 2021-22
अशोकनगर 100000 60000
सीहोर 50000 35610
विदिशा 120000 30000
(नोट: गेहूं का रकबा हेक्टेयर में)

पानी की उपलब्धता बढ़ी है
किसानों के पास पानी की उपलब्धता बढ़ती जा रही है, जिसके कारण वह अधिक उत्पादन वाली गेहूं की वैरायटियों की बोवनी कर रहे हैं। शरबती का उत्पादन 10 से 12 क्विंटल प्रति एकड़ है, जबकि दूसरी वैरायटी 25 से 30 क्विंटल तक उत्पादन दे देती हैं।
रामशंकर जाट, डीडीए सीहोर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

कर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहापंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंई-कॉमर्स साइटों के फेक रिव्यू पर लगेगी लगाम, जांच करने के लिए सरकार तैयार करेगी प्लेटफॉर्मभाजपा प्रदेश अध्यक्ष का हेमंत सरकार पर बड़ा हमला, कहा - 'जब तक सत्ता से बाहर नहीं करेंगे, तब तक चैन से नहीं सोएंगे'Largest Vaccination Drive: भारत में 88% वयस्क आबादी को लग चुकी हैं COVID टीके की दोनों डोजVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मIPL के बाद लियम लिविंगस्टोन ने इस टूर्नामेंट में जड़ा सबसे लंबा छक्का, देखें वीडियो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.