scriptShivraj said - without raising basic facilities, good governance ... | विकास का नया ब्रांड मध्यप्रदेश : शिवराज बोले- बुनियादी सुविधाएं जुटाएं बिना सुशासन बेमानी... | Patrika News

विकास का नया ब्रांड मध्यप्रदेश : शिवराज बोले- बुनियादी सुविधाएं जुटाएं बिना सुशासन बेमानी...


---------------------------
- दिल्ली में शिवराज ने लांच की मध्यप्रदेश सुशासन और विकास रिपोर्ट 2022
- सुशासन पर रिपोर्ट जारी करने वाला देश का पहला राज्य बना मध्यप्रदेश
---------------------------

भोपाल

Published: April 04, 2022 11:03:34 pm

[email protected]भोपाल। मध्यप्रदेश ने सोमवार को देश में पहला ऐसा राज्य होने का तमगा हासिल किया है, जिसने सुशासन पर अपने राज्य की विकास रिपोर्ट जारी की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली में मध्यप्रदेश सुशासन और विकास रिपोर्ट 2022 को लांच किया। यहां शिवराज ने कहा कि आम जनता की सक्रिय भागीदारी से मध्यप्रदेश सुशासन के क्षेत्र में देश के सामने उदाहरण बनकर खड़ा हो सका है। पंद्रह सालों का यह विकास मध्यप्रदेश को पूरे देश में अलग दिखाता है। बुनियादी सुविधाओं को जुटाएं बिना विकास और सुशासन बेमानी है। इसलिए मध्यप्रदेश में बुनियादी सुविधाओं पर फोकस किया गया।
----------------------------
दिल्ली में शिवराज ने इस सुशासन व विकास रिपोर्ट को जारी करके कहा कि पंद्रह साल पहले मध्यप्रदेश जिन क्षेत्रों में बहुत पीछे था और बीमारू राज्य कहलाता था, लेकिन मध्यप्रदेश पहले विकासशील राज्य बना और अब विकसित प्रदेशों की पंक्ति में खडा है। मध्यप्रदेश में जन-भागीदारी से विकास का मॉडल लागू किया गया है। पिछले दो साल में कोविड महामारी के नियंत्रण में इस मॉडल की उपयोगिता सिद्ध हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी विकास के लिए जन-भागीदारी पर जोर देते हैं। वे हमारे प्रेरक हैं। कार्यक्रम में यहां कई केन्द्रीय मंत्री, राज्य सरकार के मंत्री, भारत सरकार व मप्र के अफसर, दूसरे देशों के भारत के राजदूत व अन्य अफसर मौजूद रहे।
-----------------
यूं बताई प्रदेश की उपलब्धियां-
शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में 03 लाख किलोमीटर लंबाई की सडक़ें विभिन्न योजनाओं में निर्मित की गईं। बिजली का उत्पादन 05 हजार मेगावॉट से बढ़ाकर 21 हजार मेगावॉट किया गया। कई बार कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त करने वाले मध्यप्रदेश ने पंजाब और हरियाणा को गेहूँ उपार्जन में पीछे छोड़ दिया है। सिंचाई रकबा 43 लाख हेक्टेयर से अधिक हो गया है। प्रदेश की विकास दर 19.7 प्रतिशत देश में सर्वाधिक है। देश की अर्थ-व्यवस्था में मध्यप्रदेश 4.6 प्रतिशत का योगदान दे रहा है। सकल घरेलू उत्पाद में बीते दशक में 200 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
-----------------
जनहितैषी योजनाओं से तरक्की-
शिवराज ने कहा कि राज्य सरकार ने इंफ्रा सेक्टर में 48 हजार करोड़, प्रधानमंत्री आवास योजना में 10 हजार करोड़ की राशि का प्रावधान किया है। जल जीवन मिशन के कार्यों में 12 हजार करोड़ खर्च किए जा चुके हैं। लाडली लक्ष्मी योजना की सफलता देश के लिए उदाहरण बनी है। श्रमिकों, किसानों, महिलाओं, शिल्पियों, विद्यार्थियों और अन्य वर्गों की पंचायतें बुलाकर योजनाओं के स्वरूप के संबंध में सुझाव प्राप्त किए। जनता की भावनाओं का पूरा सम्मान किया गया। परिणामस्वरूप अनेक व्यवहारिक योजनाएं निर्मित हुईं। मध्यप्रदेश पहला राज्य है, जिसने पब्लिक सर्विस गारंटी कानून बनाया। समय पर सेवाएं न देने वाले लोग दंडित किए जाते हैं। समाधान ऑनलाइन, सीएम हेल्पलाइन, वन-डे समाधान जैसी योजनाएं शुरू की गई हैं।
---------------------------
सीएम के नवाचार और आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश-
शिवराज ने कहा कि वे प्रतिदिन पौधा लगाते हैं। नागरिकों से भी अपने जन्मदिन, परिजन के जन्मदिन, विवाह वर्षगांठ आदि पर पौधे लगाने का आग्रह किया गया है। कुपोषण की समाप्ति के लिए आंगनवाड़ी गोद लेने का अभियान चलाया जा रहा है। गांव-शहर का जन्मदिन तय किया गया है। आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के संकल्प में अधोसंरचना, स्वास्थ्य, शिक्षा, सुशासन, रोजगार और अर्थ-व्यवस्था को प्राथमिकता दी। व्यवस्थित प्रयासों से मध्यप्रदेश सुशासन के क्षेत्र में मॉडल बनने में सफल हुआ है।
-------------------------
यूं मध्यप्रदेश के सुशासन मॉडल को सराहा...
- विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि सुशासन के मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस पर सबसे पहले मध्यप्रदेश ने काम कर दिखाया है। बीमारू राज्य से मध्यप्रदेश को एक रोल मॉडल राज्य बना दिया है।
- केंद्रीय मानव संसाधन संवर्धन आयोग के सदस्य डॉ. आर बाला सुब्रमण्यम ने कहा कि सुशासन के लिए मध्यप्रदेश में जन-भागीदारी मॉडल बनाकर सबसे बढिय़ा उपयोग किया गया है। उन्होंने कहा कि हमें प्रगति के लिए क्षमता विकास पर ज़्यादा ध्यान देने की ज़रूरत है।
- अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान के उपाध्यक्ष प्रोफेसर सचिन चतुर्वेदी ने कहा कि मध्यप्रदेश पहला ऐसा राज्य है, जहां शोधकर्ताओं के लिए सीएम फेलोशिप स्थापित की गई है। मध्यप्रदेश पहला राज्य होगा, जिसमें स्टेटिस्टिक्स कमीशन को स्थापित किया जा रहा है।
- यूएमईपी के पूर्व कार्यकारी निदेशक एरिक सोल्हेम ने कहा कि मध्यप्रदेश में ग्रीन एनर्जी पर बहुत अच्छा कार्य हो रहा है। ग्रीन एनर्जी-क्लीन एनर्जी की ओर बहुत अच्छे कदम उठाए गए हैं। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा स्वयं रोज़ाना एक पौधा लगाया जाता है, यह बहुत अच्छी पहल है।
- संयुक्त राष्ट्र के स्थानीय समन्वयक शोम्बी शार्प ने कहा कि मध्यप्रदेश ने हर समुदाय तक पहुँच सुनिश्चित की है। देश के कई अन्य राज्य और दुनिया के कई अन्य देश प्रगति और विकास के मामले में मध्य प्रदेश के अनुभवों से सीख सकते हैं।
- केन्द्रीय सचिव प्रशासनिक सुधार एवं लोक शिकायत बी श्रीनिवास ने कहा कि मध्यप्रदेश में सुशासन की समृद्ध परंपरा रही है।
---------------
सांसदों के साथ अलग से बैठक~
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली में मध्यप्रदेश के सांसदों के साथ अलग से बैठक भी की। इसमें मध्यप्रदेश के विकास को लेकर चर्चा हुई। आगे के रोडमैप व प्रदेश की विकास योजनाओं की ब्रांडिंग को लेकर बात हुई।
-------------------------
shivraj.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

द्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेRajasthan: एंटी करप्शन ब्यूरो की सक्रियता से टेंशन में Gehlot Govt, अब केंद्र की तरह जांच से पहले लेनी होगी अनुमतिVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्मओडिशा में "भ्रूण लिंग" जांच गिरोह का भंडाफोड़, 13 गिरफ्तारमां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चAnother Front of Inflation : अडानी समूह इंडोनेशिया से खरीद राजस्थान पहुंचाएगा तीन गुना महंगा कोयला, जेब कटना तयसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किए बड़े बदलाव, जानें क्या है नए नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.