बचपन में चलाया था एक आंदोलन, आज है मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के 62वें जन्म दिवस के मौके पर patrika.com आपको बता रहा है उनसे जुड़े दिलचस्प किस्से...।

By: Manish Gite

Published: 05 Mar 2021, 09:40 AM IST

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जब स्कूल में पढ़ते थे, तब इतनी कम उम्र में ही उन्होंने अपने गांव में मजदूरों को मेहनत का दोगुना पैसा दिलाने के लिए आंदोलन छेड़ दिया था। यह बहुत की कम लोग जानते हैं कि इतने छोटे बच्चे के साथ सैकड़ों मजदूर एकत्र भी हो गए थे और शिवराज के नेतृत्व में ही हक मांगा और उनकी मांग भी पूरी हो गई। तभी गांव के लोगों ने कह दिया था कि ये छोरा तो बड़ा होकर बड़ा नाम करेगा। आंदोलन से अपनी राजनीति का सफर शुरू करने वाले शिवराज सिंह चौहान आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री हैं।

 

patrika.com मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के 62वें जन्म दिवस के मौके पर आपको बता रहा है उनसे जुड़े दिलचस्प किस्से...।

 

shiv2.jpg

 

नारा भी चर्चित हुआ था

जब शिवराज 11-13 साल के थे, तब नर्मदा के घाट पर एक दिन बूढ़े बाबा के चबूतरे पर ग्रामीण मजदूरों को एकजुट किया था और उनसे बोला- दो गुना मजदूरी मिलने तक काम बंद कर दो। मजदूरों का जुलूस लेकर शिवराज नारेबाजी करते हुए पूरे गांव में घूमने लगे। यह जैत गांव था, जो शिवराज का पैतृक गांव है, इसमें 20-25 मजदूरों के साथ एक बच्चा नारे लगाते घूम रहा था, मजदूरों का शोषण बंद करो, ढाई पाई नहीं-पांच पाई दो। इस बच्चे की हरकतों से सभी हैरान थे। गांव वाले कहते हैं कि जब वे 9 साल के थे तभी से उनमें राजनीति के गुण नजर आने लगे थे।

 

याद है चाचा की पिटाई

शिवराज जब घर लौटे तो चाचा गुस्से में थे, वे आग-बबूला हो रहे थे, क्योंकि शिवराज के प्रोत्साहन करने से परिवार के मजदूरों ने भी हड़ताल कर दी थी। इस पर चाचा ने शिवराज की जमकर पिटाई कर दी थी। पिटाई करते हुए चाचा उन्हें पशुओं के बाड़े में ले गए और डांटते हुए बोले- अब तुम इन पशुओं का गोबर उठाओ, इन्हें चारा डालो और जंगल में चराने ले जाओ। शिवराज ने उनकी बात मान ली और यह पूरा काम पूरी लगन के साथ करने लगे। इसके साथ ही उन्होंने मजदूरों को तब तक काम पर नहीं आने दिया, जब तक पूरे गांव ने मजदूरी दोगुनी नहीं कर दी।

 

जैत से शुरू हुआ भोपाल का सफर

शिवराज भी अपने इस काम से काफी उत्साहित हो गए और उन्होंने युवा वर्ग को भी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जोड़ने का प्लान किया। उस समय युवा शक्ति को जोड़ने का अभियान चल रहा था। शिवराज भी विद्यार्थी परिषद के सदस्य बन गए। फिर उन्हें भोपाल के मॉडल हायर सेकंडरी स्कूल के छात्र संघ के चुनाव में लड़ने का मौका मिल गया। 1975 में 16 वर्ष के इस किशोर को छात्र संघ का अध्यक्ष चुन लिया गया। युवा वर्ग में वे एक प्रखर छात्र नेता के रूप में उभरने लगे थे। धारा प्रवाह और धारदार भाषण देने की शैली बचपन से ही उनमें आ गई और वे लोकप्रिय होने लगे। शिवराज राष्ट्रीय मुददों पर भी छात्र-छात्राओं के बीच ओजस्वी वाक् कला के लिए चर्चित होने लगे।

 

एक नोट और एक वोट से बने स्टार प्रचार

1990 में शिवराज को भाजपा संगठन ने बुदनी से चुनाव लड़ने को कहा गया। इससे पहले शिवराज 13 सालों तक पार्टी के लिए लोकसभा, विधानसभा के अलावा स्थानीय चुनावों में धुआंधार प्रचार कर चुके थे। प्रचार के दौरान शिवराज ग्रामीणों से मिले भोजन पर ही निर्भर रहते थे। शिवराज सिंह ने मतदाताओं से एक वोट और एक नोट मांगा। इस नारे ने उन्हें स्टार बना दिया।

 

ऐसे बने प्रदेश के मुख्यमंत्री

शिवराज सिंह चौहान 2005 में प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष बने थे। चौहान को 29 नवंबर 2005 को पहली बार मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई। इसके बाद शिवराज सिंह चौहान चौथी बार मुख्यमंत्री हैं।

 

पांच बार विदिशा के सांसद भी रहे

  • -शिवराज 1990 में पहली बार बुदनी विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए और 1991 में विदिशा संसदीय क्षेत्र से पहली बार सांसद बने।
  • -11वीं लोकसभा में वर्ष 1996 में शिवराज सिंह विदिशा संसदीय क्षेत्र से पुन: सांसद चुने गए।
  • -चौहान 1998 में विदिशा संसदीय क्षेत्र से ही तीसरी बार 12वीं लोकसभा के लिए सांसद चुने गए।
  • -शिवराज 1999 में विदिशा से ही चौथी बार तेरहवीं लोक सभा के लिए सांसद निर्वाचित हुए।
  • -सन 2000 से 2003 तक शिवराज सिंह भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे।
  • -चौहान 2000 से 2004 तक संचार मंत्रालय की परामर्शदात्री समिति के सदस्य रहे।
  • -शिवराज सिंह पांचवीं बार विदिशा से 14वीं लोक सभा के सदस्य निर्वाचित हुए। उन्हें वर्ष 2005 में भारतीय जनता पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया।
shiv1.jpg

सुंदरलाल पटवा थे शिवराज के गुरु

पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा शिवराज के राजनीतिक गुरू थे। पटवा कहते थे शिवराज का व्यक्तित्व दक्ष प्रशासक का है। इसे विरासत में बीमारू मध्यप्रदेश मिला। अनुभवहीन प्रशासक की आशंका थी। लेकिन, शिवराज ने दिन के 20 से 22 घंटे लगातार काम करके योग्य प्रशासकों की टीम खड़ी कर ली। प्रदेश में विकास की उपलब्धियों का नया इतिहास रच डाला।


दर्शनशास्त्र में गोल्डमेडलिस्ट भी

बरकतउल्ला विश्वविद्यालय से दर्शनशास्त्र में स्नातकोत्तर में स्वर्ण पदक के साथ शिक्षा प्राप्त की। 1975 में मॉडल हायर सेकंडरी स्कूल में पढ़ाई की और छात्रसंघ अध्यक्ष बनकर राजनीति में कदम रखा।

BJP
Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned