scriptshkarita sosayti gourav collector bhopal | कागजी कार्रवाई कर पांच साल में 180 अध्यक्ष, उपाध्यक्ष हटाए, नहीं मिला सोसायटी का रिकॉर्ड , न पीडि़तों को इंसाफ | Patrika News

कागजी कार्रवाई कर पांच साल में 180 अध्यक्ष, उपाध्यक्ष हटाए, नहीं मिला सोसायटी का रिकॉर्ड , न पीडि़तों को इंसाफ

- सिर्फ विधानसभा में जवाब देने के लिए कागजी कार्रवाई कर रहा सहकारिता विभाग, साठगांठ से सेसायटी के चुनाव करा प्लॉट बेचने का खेल रहजा है जारी

भोपाल

Published: April 25, 2022 08:53:37 pm

भोपाल. सहकारिता विभाग पिछले पांच सालों में गृह निर्माण सोसायटी से जुड़े 180 अध्यक्ष, उपाध्यक्षों को बाहर कर चुका है। इसके बाद भी विभाग को न तो सोसायटी का रिकॉर्ड मिलता है, न ही पीडि़तों को इंसाफ। अपनी गरदन बचाने के लिए विभाग कागजों में कार्रवाई की खानापूर्ति जरूर कर देता है। जिससे विधानसभा में अगर कोई सवाल लगे तो उसके बदले में इतनी कार्रवाई का रिकॉर्ड प्रस्तुत किया जा सके। सहकारिता विभाग में करीब तीन दर्जन सोसायटी ऐसी हैं जिनके पीडि़त वर्षों से प्लॉट के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इनको प्लॉट तो नहीं मिले, लेकिन अध्यक्षों को हटाकर साठगांठ से चुनाव जरूर हो जाते हैं। इसके बाद चुने गए नए पदाधिकारी प्लॉटों की बिक्री जरूर कर देते हैं। जैसा कि गौरव, हेमा, महाकाली, कामधेनू, सर्वोदय, रोहित, स्वजन, सौरभ, हजरत निजामुद्दीन, सर्वधर्म, कान्हा, निशातपुरा, लावण्य गुरुकुल व अन्य सोसायटियों में हुआ है। ये शहर की वे विवादित सोसायटियां हैं जिनमें अध्यक्ष शतरंज के मौहरों की तरह बदले जाते हैं।

कागजी कार्रवाई कर पांच साल में 180 अध्यक्ष, उपाध्यक्ष हटाए, नहीं मिला सोसायटी का रिकॉर्ड , न पीडि़तों को इंसाफ
कागजी कार्रवाई कर पांच साल में 180 अध्यक्ष, उपाध्यक्ष हटाए, नहीं मिला सोसायटी का रिकॉर्ड , न पीडि़तों को इंसाफ


जिले में रजिस्टर्ड 581 गृह निर्माण सोसायटियों में से मात्र 200 के करीब सोसायटी ऐसी थी जो सही काम कर रहीे हैं। बाकी में कहीं न कहीं किसी पूर्व सदस्य के साथ फर्जीवाड़ा हुआ है। किसी में कम तो किसी में ज्यादा शिकायतें हैं। भू माफिया दौरान ही विभाग के पास 628 शिकायतें आईं। इनमें से काफी सीएम हेल्पलाइन में पहुंची, लेकिन अफसरों ने उनको फोर्स क्लोज कर दिया। इससे विभाग की रैंकिंग तो गिर गई, लेकिन शिकायतकर्ताओं की समस्या का समाधान यहां भी नही हुआ।

जारी नोटिस भी नहीं पहुंचते
सोसायटी भंग करने के बाद सोसायटी संचालकों और अध्यक्षों को 79/2 में नोटिस जारी किए जाते हैं। प्रशासक नियुक्त कर दिया जाता है। इन नोटिस को पहुंचाने की जिम्मेदारी प्रशासक की रहती है। लेकिन अधिकांश सोसायटियों में ये नोटिस भी नहीं पहुंचते। गौरव गृह निर्माण में प्रशासक आरएस उपाध्याय दो साल तक नोटिस अपने पास ही रखे रहे। सोसायटी को नोटिस न देकर उनका बचाव किया और पूर्व संचालक मंडल ही बहाल हो गए। इस तरह से नोटिस भी सिर्फ कागजी कार्रवाई तक सीमित है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईंये हमारा वादा है, ताइवान पर चीनी हमले का अमरीका देगा सैन्य जवाब: US President Joe Bidenश्रीलंकाई क्रिकेटर का फील्डिंग के दौरान अचानक सीने में उठा दर्द, मैदान से सीधे पहुंचे अस्पताल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.