भविष्य के राज: लकीरें ही नहीं, अंगुलियों के पोर और आपके हाथों की लंबाई भी बताती हैं ये बातें...

भविष्य के राज: लकीरें ही नहीं, अंगुलियों के पोर और आपके हाथों की लंबाई भी बताती हैं ये बातें...

Deepesh Tiwari | Publish: Sep, 16 2018 03:18:09 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 03:22:23 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

हाथों की लंबाई सहित अंगुलियों से जुड़े कुछ खास सीक्रेट signals of hands, जो बताते हैं आपके आने वाले समय के बारे में...

भोपाल। हाथों की लकीरों से भविष्य देखने के बारे में तो आपने कई बार सुना होगा, इसे ज्योतिष में पामेस्ट्री भी कहते हैं। पर क्या आप जानते हैं कि हाथों की लकीरें ही नहीं अंगुलियों के पोर सहित हाथ की लंबाई भी हमारे भविष्य के बारे में बहुत कुछ बताती हैं। वहीं हथेली शुभ-अशुभ संकेत देने में माहिर होती हैं।

ज्योतिष की जानकार एम लोहनी बतातीं हैं कि हमारे हाथों की अंगुलियों के पोरों में कुछ खास निशान होते हैं जो हमारे भविष्य का काफी स्पष्ट संकेतsignals of hands length that can shows your future देते हैं। भले ही सामान्य भाषा में इन्हें फिंगर प्रिंट कहा जाए परंतु जानकारों के अनुसार हमारी अंगुलियों के पोरों में मुख्य रुप से चक्र, शंख व पद्म के चिन्ह होते हैं, जो हमारे भविष्य को स्पष्ट करती हैं।

A. अंगुलियों के पोर:
ऐसे नहीं है कि अंगुलियों के पोरों पर ये निशान केवल हाथ पर ही निर्भर है। ये निशान पैर की अंगुलियों के पोरों पर भी होते हैं।

मुख्य मान्यताएं...
20 चक्र : राजा
20 शंख : साधु
20 पद्म : कोड़ी

1. चक्र: कुल मिलाकर ज्यादा चक्र जहां आपको उचित पद प्राप्ति में मदद करने वाला माने जाते हैं, वहीं इसे लेकर ये भी विश्वास है कि आपको विलासी भी बनाते हैं।
2. शंख : शंख अधिक होने पर ये आपको विरक्ति देने के अलावा ईश्वर के प्रति ज्यादा झूकाव रखने वाला यानि धार्मिक प्रवृत्ति का बनाते हैं।
3. पद्म : इनकी अधिकता आपको दरिद्रता देने के अलावा अधिकतर परेशानियों में घेरे रखती है। signals of hands length that can shows your future

B. हथेली और किस्मत Palm Reading in Hindi for good and bad things :
हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार हथेली की रेखाएं बनती-बिगड़ती रहती हैं, कभी-कभी हथेली में रेखाओं से शुभ संकेत बन जाते हैं तो कभी-कभी रेखाएं अशुभ संकेत भी देती हैं। यहां जानिए हथेली के कुछ शुभ-अशुभ संकेत…

अशुभ संकेत...

1. यदि दोनों हथेलियों में हृदय रेखा कमजोर और अस्पष्ट दिखाई देती है तो व्यक्ति आलसी और कामचोर हो सकता है।

2. यदि मणिबंध पर एक ही रेखा हो और वह भी अधूरी हो तो व्यक्ति का जीवन निरस होता है और इनके जीवन कोई उत्साह नहीं होता है।

3. हथेली के दोनों मंगल पर्वत दबे हुए दिखाई दे रहे हों तो व्यक्ति कोई उपलब्धि हासिल नहीं कर पाता है। ये लोग किसी भी काम में उत्सुकता नहीं दिखाते हैं।

4. यदि किसी व्यक्ति की हथेली में भाग्य रेखा के पास धन यानी जोड़ (+) का निशान हो तो जीवन में कष्ट प्राप्त होते हैं।

5. यदि मस्तिष्क रेखा बहुत ही छोटी है तो व्यक्ति मृत्यु समान कष्ट पाता है।


शुभ संकेत...
1. यदि किसी व्यक्ति की हथेली में सूर्य रेखा से निकलकर कोई शाखा गुरु पर्वत की ओर जाती है तो व्यक्ति शासकीय अधिकारी बनता है।

2. यदि हथेली में शुक्र पर्वत शुभ हो, विस्तृत हो और इस पर कोई अशुभ लक्षण ना हो तो व्यक्ति का स्वास्थ्य अच्छा रहता है। शुक्र पर्वत अंगू‌‌ठे नीचे वाले भाग को कहते हैं, इस पर्वत को जीवन रेखा घेरे हुए दिखाई देती है।

3. बुध पर्वत पर एक छोटा सा त्रिभुज हो तो व्यक्ति प्रशासनिक विभाग में उच्च पद प्राप्त कर सकता है।

4. स्वास्थ्य रेखा की लंबाई मस्तिष्क रेखा और भाग्य रेखा तक ही सीमित हो तो यह शुभ संकेत है। ऐसी स्वास्थ्य रेखा वाले व्यक्ति का स्वास्थ्य उत्तम रहता है। शुक्र पर्वत, जीवन रेखा के आसपास से प्रारंभ होकर बुध पर्वत की ओर जाने वाली रेखा को स्वास्थ्य रेखा कहते हैं। बुध पर्वत सबसे छोटी उंगली के नीचे होता है।

5. यदि नाखून एकदम साफ और स्वच्छ दिखाई देते हैं तो यह शुभ लक्षण है। नाखूनों पर कोई दाग-धब्बा, कालापन न हो तो शुभ रहता है। शुभ नाखून अच्छे स्वास्थ्य की ओर इशारा करते हैं।

6. अंगूठा मजबूत, लंबा, सुंदर हो तथा मस्तिष्क रेखा भी शुभ हो तो व्यक्ति नौकरी से लाभ प्राप्त करता है। शुभ मस्तिष्क रेखा यानी ये रेखा कटी हुई या टूटी हुई न हो, अन्य रेखाएं इसे काटती न हो, लंबी और सुंदर दिखाई देती हो।


कुछ खास बातें...

1. यदि किसी व्यक्ति की हथेली में चक्र जैसा कोई निशान बना हुआ है तो वह काफी महत्वपूर्ण है। हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार हथेली में चक्र का निशान अंगूठे पर हो तो व्यक्ति बहुत भाग्यशाली माना जाता है। इस प्रकार के निशान वाले व्यक्ति धनवान होते हैं। अंगूठे पर चक्र का निशान होने पर व्यक्ति ऐश्वर्यवान, प्रभावशाली, दिमाग से संबंधित कार्य में योग्य होता है। ऐसे लोग बुद्धि का प्रयोग करते हुए काफी धन लाभ प्राप्त करते हैं। ये लोग पिता के सहयोगी होते हैं। घर-परिवार एवं समाज में इन्हें पूर्ण मान-सम्मान प्राप्त होता है।

 

2. यदि किसी व्यक्ति के दोनों हाथों में भाग्य रेखा मणिबंध से शुरू होकर सीधी शनि पर्वत तक जा रही हो, साथ में सूर्य रेखा भी पतली लम्बी, शुभ हो और मस्तिष्क रेखा, आयु रेखा भी अच्छी है तो उस हाथ में गजलक्ष्मी योग बनता हैं। ये योग अचानक धन लाभ दे सकता है।

3. यदि शनि पर्वत यानी रिंग फिंगर के नीचे वाला क्षेत्र और शुक्र पर्वत अधिक भरा हुआ हो, सुंदर हो और भाग्य रेखा शुक्र पर्वत यानी अंगूठे के पास वाले क्षेत्र से आरंभ होकर शनि क्षेत्र के मध्य तक पहुंचती है तो ऐसे लोगों के जीवन में कभी भी धन संबंधी कमी नहीं होती है। ये लोग काफी पैसा कमाते हैं।

4. यदि किसी व्यक्ति की हथेली में भाग्य रेखा व चन्द्र रेखा मिलकर एक साथ शनि पर्वत पर पहुंचे तो ऐसे लोग भी धनवान रहते हैं। हथेली में अंगूठे के ठीक नीचे शुक्र पर्वत होता है और शुक्र पर्वत की दूसरी ओर हथेली के अंतिम भाग पर चंद्र पर्वत होता है। इस चंद्र पर्वत से कोई रेखा निकलती है तो उसे चंद्र रेखा कहा जाता है।

5. यदि भाग्य रेखा लिटिल फिंगर के नीचे के क्षेत्र से प्रारंभ होकर किसी भी रेखा से कटे बिना शनि पर्वत तक पहुंचती हो तो यह रेखा भी शुभ होती है। इसके प्रभाव से व्यक्ति धन संबंधी कार्यों में विशेष लाभ प्राप्त करता है।

खास बात- हस्तरेखा में दोनों हाथों की बनावट और रेखाओं का पूरा अध्ययन करना बहुत जरूरी है। ज्योतिष के जानकारों के अनुसार बताए गए फल हथेली की अन्य स्थितियों से बदल भी सकते हैं। इसी वजह से किसी व्यक्ति के बारे में सटीक भविष्यवाणी करना हो तो दोनों हथेलियों का अध्ययन करना चाहिए।

C. हाथ की लंबाई और आपके राज:
जानकारों का मानना है कि आपके हाथों की लंबाई बताती है कि जीवन जीने का आपका नजरिया कैसा है। इससे आप अपने हाथों के साथ ही दूसरों के हाथों को देखकर उसके बारे में यह बातें भी जान सकते हैं।

छोटे हाथ वालों की खास बात...
यदि आपके हाथ छोटे हैं तो इसका मतलब है कि आप बड़े डेयरिंग इंसान है। आप कठिनाइयों से घबराते नहीं हैं और आपको हमेशा कुछ न कुछ तूफानी करने की फ़िराक में रहते हैं।

लेकिन आपके बारे में एक नकारात्मक बात भी है। जिसके अनुसार आप ऐसे लोग रिश्तों को निभाने में जरा कच्चे होते हैं। इनमें आमतौर पर फीलिंग्स की कमी होती है। साथ ही ये अक्सर ही अपनी मर्जी चलाते हैं।

लंबे हाथ वालों की खास बात...
जिन लोगों के हाथ, लंबे होते हैं वो दिमाग से काम लेते हैं। इनके बारे में एक ख़ास बात यह है कि इन्हें भले भी जल्दी से सफलता न मिले। मगर ये प्लानिंग करके धीरे-धीरे सफल हो ही जाते हैं।

यह है इनकी कमजोरी
जिन लोगों के हाथ लंबे होते हैं, वो भावुक किस्म के होते हैं। इनका अन्य लोगों से जल्दी जुड़ाव हो जाता है, इसलिए ये दुःखी भी आसानी से हो जाते हैं। वैसे ये तो सिर्फ हाथ की लम्बाई की बात है।

समतल हाथ के लोग...
समतल हाथ वाले लोग तर्क पर ज्यादा विश्वास रखते हैं। साथ ही ये हालात के अनुसार फैसले लेते थे।

रेक्टैंग्युलर हाथ वाले...
इस तरह के हाथ वाले लोग हर स्थिति में अपने मन की सुनते है। हालात या परिस्थिति कैसी है। इससे इन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। ये इनके लिए मुसीबत खड़ी कर देता है।

ऐसे पहचाने अपना हाथ...
आपका हाथ लंबा है या छोटा इसे जांचने के लिए अपने बाएं हाथ को 45 डिग्री के एंगल पर रखें। इसके बाद दाएं हाथ के अंगूठे को इस हाथ की कोहनी के बीचों-बीच रखकर बाएं हाथ के पंजे की ओर फैलाएं।

कैसे जाने छोटा-बड़ा हाथ ?
यदि दाएं हाथ को इस तरह फैलाने पर यह बाएं हाथ की कलाई तक पहुंच जाता है तो आपका हाथ बड़ा है। यदि आगे निकल जाता है तो आपका हाथ छोटा है।

Ad Block is Banned