scriptSmart Cities will have to be assessed before getting the work done | स्मार्ट सिटीज को कार्य कराने से पहले उनका कराना होगा आकलन | Patrika News

स्मार्ट सिटीज को कार्य कराने से पहले उनका कराना होगा आकलन

- प्रदेश स्तर की तकनीकी टीम करेगी विभिन्न कार्यो का आकलन

- सरकार ने यह निर्णय स्मार्ट सिटीज के कार्यों में कसावट और गुणवत्ता लाने के लिए लिया

भोपाल

Published: December 23, 2021 09:42:55 pm

भोपाल। स्मार्ट सिटीज में अब कोई भी कार्य करने से पहले मुख्य कार्यपालन अधिकारिर्यों (सीईओ) को उनका आकलन कराना होगा। इसमें उन्हें यह बताना होगा कि जिन कार्यों के संबंध में प्रस्ताव तैयार किए गए हैं उसकी आवश्यकता और उपयोगिता कितनी है। यह आकलन नगरीय प्रशासन एवं विकास स्तर पर गठित प्रदेश स्तर की तकनीकी टीम करेगी।
सरकार ने यह निर्णय स्मार्ट सिटीज के कार्यों में कसावट और गुणवत्ता लाने के लिए लिया है। स्मार्ट सिटीज के द्वारा तैयार किए गए प्रस्तावों का यहां तकनीकी स्तर की टीम परीक्षण करेगी। कार्य के प्रकार और उसमें लगने वाली राशि का आकलन करेगी, जिसमें यह देखा जाएगा कि विभिन्न कार्यों के संबंध में जो राशि तय की गई है, वह वास्तव उस कार्य में उननी ही राशि लगनी अथवा नहीं। अगर प्रस्ताव में किसी तरह की कमियां पाई जाती हैं तो उस प्रस्ताव को स्मार्ट सिटीज को वापस कर दिया जाएगा।

ग्राम विकास अधिकारी सीधी भर्ती परीक्षा- नियंत्रण कक्ष स्थापित
ग्राम विकास अधिकारी सीधी भर्ती परीक्षा- नियंत्रण कक्ष स्थापित

5 करोड़ तक के टेंडर की मंजूरी मुख्यालय से
स्मार्ट सिटीज को पांच करोड़ रूपए अथवा उससे अधिक राशि के कामों के लिए टेंडर की मंजूरी मुख्यालय स्तर से मिलेगी। टेंडर डिजाइन करने के लिए भी सिटीज को गाइड किया जाएगा। उन्हें मुख्यालय स्तर की तकनीकी टीम समय समय पर गाइड भी करेगी। जिससे इन कामों में किसी भी तरह की कानूनी पेंचों से उन्हें बचाया जा सके।

तय होगी कार्ययोजना
स्मार्ट सिटीज के सभी कार्यों को दो साल के अंदर पूरा करने के लिए रोडमैप तैयार करना होगा। उन्हें इसमें यह बताना होगा कि वे इन दो सालों के अंदर में कौन-कौन से काम कितने समय में पूरा करा लेने। इसमें विशेष तौर पर उन स्मार्ट सिटीज को फोकस किया जाएगा, जो स्मार्ट सिटीज समय से पीछे चल रही हैं।

कांग्रेस के कार्यकाल में हुए पांच सौ करोड़ के काम
कांग्रेस के कार्यकाल में लगभग पांच सौ करोड़ के काम हुए हैं। नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कांग्रेस के कार्यकाल में स्मार्ट सिटीज में हुए कार्यों और टेंडर के संबंध में जांच करने के लिए बयान दिया था। फिलहाल इस संबंध में विभाग स्तर पर इसकी जांच और सातों स्मार्ट सिटीज से जानकारी लेने के संबंध में कोई दिशा निर्देश नहीं दिए गए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.