स्पीकर का भोपाल आना टला, राजभवन कर रहा प्रजापति का इंतजार

- अब अगले हफ्ते ही लोधी की विधायकी पर सस्पेंस खत्म होने की संभावना
- शनिवार को भी आने का कार्यक्रम बना और फिर निरस्त हुआ

भोपाल। विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति का भोपाल आना हाल-फिलहाल टल गया है। वे 13-14 नवम्बर को भोपाल आने वाले थे, लेकिन अब उनके भोपाल आने का कोई कार्यक्रम नहीं है। उधर दूसरी तरफ राजभवन विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति का इंतजार कर रहा है। सूत्रो के मुताबिक राज्यपाल लालजी टंडन भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी की सदस्यता के मसले पर विधानसभा अध्यक्ष के साथ चर्चा करना चाहते हैं। लोधी ने अपनी सजा पर मिले हाईकोर्ट के स्टे की कॉपी के साथ राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा था, राजभवन इस मामले में विधानसभा अध्यक्ष से चर्चा के बाद ही निर्णय लेगा।

एक बार भोपाल प्रवास स्थगित होने के बाद तय हुआ कि अब विधानसभा अध्यक्ष शनिवार को भोपाल पहुंचेंगे। उनके आने की मौखिक सूचना पर विधानसभा सचिवालय भी सक्रिय हुआ। लेकिन शुक्रवार देर शाम को इन अटकलों पर भी विराम लग गया। हालांकि इसके पीछे सचिवालय से कोई विशेष कारण नहीं बताया गया। यह जरूर कहा गया कि उन्हें सरकारी हैलीकॉप्टर से आना था, लेकिन राज्यपाल के कार्यक्रम तय होने के कारण अध्यक्ष के कार्यक्रम में तब्दीली की गई।

सचिवालय ने तैयार किया प्रस्ताव -

भाजपा विधायकों और पदाधिकारियों सहित प्रहलाद लोधी ने हाल ही में विधानसभा प्रमुख सचिव एपी ङ्क्षसह से मुलाकात कर हाईकोर्ट से स्थगन मिलने की सूचना दी थी। साथ ही कहा था कि प्रहलाद की सदस्यता बहाल की जाए। लोधी के ज्ञापन पर विधानसभा सचिवालय ने प्रस्ताव तैयार किया है। इसमें कोर्ट की कॉपी सहित अन्य दस्तावेज लगाए गए हैं। स्पीकर के आने के बाद इस पर विचार होगा।

सूत्रों का कहना है कि स्पीकर इस मामले में कानूनी राय भी ले रहे हैं। मालूम हो आपराधिक मामले में दोषी पाए जाने पर विशेष न्यायालय ने उन्हें दो साल की सजा सुनाई तो इसी आधार पर स्पीकर ने लोधी की सदस्यता समाप्त कर दी थी। अब हाईकोर्ट द्वारा स्थगन मिल जाने के बाद से भाजपा ने दबाव बनाया है कि लोधी की सदस्यता बहाल हो। तर्क दिया जा रहा है कि हाईकोर्ट के स्थगन के बाद विधायकी भी बहाल हो गई है।

राज्य सरकार सुप्रीमकोर्ट जाने की तैयारी में -

विशेष न्यायालय के आदेश पर हाईकोर्ट द्वारा स्थगन दिए जाने को राज्य सरकार सुप्रीमकोर्ट में चुनौती दिए जाने की तैयारी कर रही है। इसको लेकर सरकार का होमवर्क पूरा हो गया है। संभावना है कि अगले कार्यदिवस में याचिका दाखिल हो जाएगी। कानून के जानकार बताते हैं हाईकोर्ट के आदेश पर यदि सुप्रीमकोर्ट से स्थगन मिल जाता है तो विशेष न्यायालय का निर्णय बरकरार रहेगा और लोधी की सदस्यता भी बहाल नहीं होगी।

अध्यक्ष के भोपाल आने का अभी कोई कार्यक्रम तय नहीं हुआ है। जानकारी मिलने पर ही कुछ बता पाऊंगा।
- एपी सिंह, प्रमुख सचिव विधानसभा

दीपेश अवस्थी
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned