गुलामी का दौर बुरा था, वे हंटर से पीटते थे, गर्म सलाखों से दागते... पढ़िए अंग्रेजों के जुल्म की दास्तां

गुलामी का दौर बुरा था, वे हंटर से पीटते थे, गर्म सलाखों से दागते... पढ़िए अंग्रेजों के जुल्म की दास्तां

KRISHNAKANT SHUKLA | Publish: Aug, 15 2019 07:37:47 AM (IST) | Updated: Aug, 15 2019 04:31:51 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

Independence Day 2019 : पहले अंग्रेजों के हंटर खाए, जेल गए, भोपाल पहुंचे तो विलीनीकरण के आंदोलन के चलते जेल जाना पड़ा, स्वतंत्रता सेनानियों को आज भी याद है आजादी का वो संघर्ष

भोपाल. आजादी के पहले मैं सिंध प्रांत में रहता था। मैंने आजादी के लिए शहीद हेमू कालानी के साथ संघर्ष किया है। गुलामी का दौर बहुत बुरा था, अंग्रेजों के जुल्म असहनीय थे। वे हंटर से पीटते थे, गर्म सलाखों से दागते और अत्याचार करते थे।

 

MUST READ : Monsoon Alert : बंगाल की खाड़ी में सिस्टम हुआ मजबूत, 24 घंटे में बेहद भारी बारिश की चेतावनी

 

आजादी तो पाई पर विभाजन का दर्द भी पाया। हमें सिंध प्रांत से यहां आना पड़ा। सन 1949 में मैं भोपाल पहुंचा। तब यहां भोपाल की आजादी के लिए विलीनीकरण आंदोलन चल रहा था। इस आंदोलन में भी मैं शामिल हुआ और 8 दिन जेल में बंद रहा। यह कहना है 97 वर्षीय वयोवृद्ध स्वतंत्रता संग्राम सेनानी इतवारा निवासी लक्ष्मणदास केसवानी का। देश की आजादी के लिए हुए संघर्ष के दौरान वे दो बार जेल में रह चुके हैं।

 

MUST READ : Desh Bhakti song mp3 : दिल को छू लेंगे ये टॉप देशभक्ति गाने, देखिये गानों की पूरी लिस्ट

 

पहली बार वे 19 महीने 4 दिन तक कराची जेल में थे, इस बीच उन्हें सात माह के लिए अंडमान निकोबार जेल में भी भेजा था, इसके अलावा वे तीन माह तक सिंध प्रांत के फख्खड़ जेल में भी रहे। उन्होंने बताया कि बड़े संघर्ष और वीरों की कुर्बानियों के बाद हमें आजादी मिली है, यह हमारी अमूल्य धरोहर है।

हमें इसकी रक्षा करनी चाहिए। आज के दौर में देशभक्ति जैसी भावना कम होती जा रही है। आजादी के लिए जैसे पूरे देश ने एकजुट होकर संघर्ष किया था, उस तरह की एकता और जज्बा अब लोगों में नहीं दिखाई देता है।

 

MUST READ : पत्नी की बेवफाई से परेशान पति ने की आत्महत्या! वायरल सुसाइड नोट में लिखा हैरान कर देने वाला सच

 

रात 12 बजे मनाया था जश्न

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी प्रेमनारायण मालवीय का कहना है कि उस समय आजादी को लेकर लोगों में खासा उत्साह था। तब मेरी उम्र 17 साल की रही होगी। 14 अगस्त की शाम से ही सब लोग उत्साहित थे। तब हमारा प्रजामंडल का कार्यालय चौक में हुआ करता था। हम लोग वहीं पर एकत्रित थे और रेडियो पर सुन रहे थे।

 

MUST READ : उधार की रकम वापस मांगने पर की थी हत्या, काश! पापा हमारी बात मान गए होते

 

रात 12 बजे ऑल इंडिया रेडियो पर ऐलान हुआ कि अब हिन्दुस्तान आजाद हो गया है। इसके बाद हम सब खुशी से झूम उठे। उत्साह से नाचने गाने लगे। फिर रात के 12 बजे हमने कार्यालय के छत पर जाकर हमारे पास जो तिरंगा था, उसे पूरे सम्मान के साथ फहराया और रोशनी के लिए एक 200 वॉट का बल्ब लगाया। आजादी के तराने गाए। इसके बाद अगले दिन सुबह जुमेराती में झंडावंदन का कार्यक्रम हुआ था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned