रमज़ान से जुड़ी हैं ये ख़ास बातें, जिन्हें जानना हर एक के लिए है ज़रूरी

रमज़ान का मक़सद इंसान को बुराइयों से हटाकर अच्छाई के रास्ते पर लाना है। इसका मक़सद एक दूसरे से मोहब्बत भाइचारा और खुशियां बाटना है।

By: Faiz

Published: 16 May 2018, 11:39 AM IST

भोपालः रमज़ान...एक ऐसा बा-बरकत (लाभकारी और कृपालु) महीना जिसका इंतेजार साल के ग्यारह महीने हर मुसलमान को रहता है। इस्लाम के मुताबिक़, इस महीने के एक दिन को आम दिनों की हज़ार साल से ज़्यादा बेहतर (ख़ास) माना गया है। आपको बता दें कि, रमज़ान एक महीना है, जैसे हम अंग्रेज़ी या हिन्दी के महीनों के मुताबिक़ साल तय करते हैं, इसी तरह इस्लामिक क़ानून में चांद की गर्दिश (उदय और अस्त होने) के हिसाब से दिन और महीना तय किया जाता है, जो चांद के ऊगकर पूरी तौर पर बढ़ा होने और दोबारा से छोटे होकर ख़त्म होने का सफ़र तय करता है। ये वक़्त उन्तीस से तीस दिनों का होता है। इन दिनों में मुस्लिम समुदाय के सभी लोगों पर रोज़ा फर्ज़ (लागु) होता है, जिसे पूरी दुनिया में दूसरे नंबर की आबादी रखने वाला मुसलमान बड़ी संजीदगी (सीरियसली) से लागु करने की फ़िक्र रखते हैं।

 

ramzan mubarak

रमज़ान के रोज़े की अहमियत?

माह-ए-रमज़ान में रखा जाने वाला रोज़ा हर तंदुरुस्त (सेहतमंद) मर्द और औरत पर फर्ज़ (लागु) है। रोज़ा छोटे बच्चों, बिमारों और सूझ समझ ना रखने वालों पर लागू नहीं होता। हालांकि, ये रोज़े इतने अहम (खास) माने जाते हैं कि, इन दिनों में किसी बीमारी से ग्रस्त पीड़ित या पीड़िता के ठीक होने के बाद इन तीस दिनों में से छूटे हुए रोज़ों को रखना ज़रूरी है। अगर किसी वजह से वो इन दिनो के छूटे रोज़े नहीं रख सकता, तो वो एक इंसान के एक दिन के रोज़े के बदले में एक किलो छह सौ तैतीस ग्राम इस्तेतातमंद (मालदार) होने पर किशमिश और ग़रीब होने पर गेंहू किसी गरीब-मुस्तहिक़ (ज़रूरतमंद) को सद्खा (दान) करके एक रोज़े का बदल दे सकता है, हां लेकिन अगर कोई शख्स (इंसान) इन रोज़ों को जानकर छोड़ता है, तो उसे एक रोज़ा छोड़ने के बदले में लगातार साठ दिनों तक लगातार रोज़ा रखना होगा, वहीं इसमें से अगर कोई एक भी रोज़ा फिर छूटता है, तो उसके बदले में भी फिर से साठ रोज़े रखने होंगे। इन रोज़ों को इतना सख़्त (कठोर) बनाने का मक़सद सिर्फ इन रोजों की अहमियत (खासियत) बताना है। बता दें कि, रोज़े का वक़्त सूरज के निकलने से तय समय पहले से शुरू होता है, जो सूरज के डूबने के बाद तय समय पर ख़त्म होता है।

 

ramzan mubarak

क्या होती है "तराबीह"?

वैसे तो, रमज़ान जिसे इबादत (भक्ति) के महीने के नाम से जाना जाता है वो इस महीने के चांद के दिखते ही शुरू हो जाता है। रमज़ान का चांद दिखते ही लोग एक दूसरे को इस महीने की मुबारकबाद (बधाई) देते हैं, फिर उसी रात से तराबीह का सिलसिला (प्रक्रिया) शुरु हो जाता है। तराबीह एक नमाज़ है, जिसमें इमाम (नमाज़ पढ़ाने वाला) नमाज़ की हालत में क़ुरआन (ईश्वर द्वारा भेजी गई आसमानी किताब, ग्रंथ) पढ़कर नमाज़ में शामिल लोगों को सुनाता है। इसका मकसद है कि, लोगों की क़ुरआन के ज़रिए अल्लाह (ईश्वर) की तरफ से भेजी हुई बातों के बारे में बताना। हालांकि, क़ुरआन को मस्जिद के इमाम अरबी भाषा में पढ़ते हैं, जिसे तराबीह पढ़ने वाला हर इंसान समझ नहीं पाता, लेकिन ऐसे लोगों के लिए ये कहा गया है कि, जिन्हें किताब की भाषा समझ नहीं आती, उन्हें इस किताब को सुनने का सवाब (पुण्य) तो मिल ही जाता है। तराबीह को रात की आखरी, यानि इशां की नमाज़ के बाद पढ़ा जाता है। क़ुरआन बहुत बड़ी किताब होने की वजह से एक बार में नमाज़ की हालत में सुनना मुश्किल होता है। इसलिए इस किताब को तराबीह में पढ़ने और सुनने के लिए रमज़ान के दिनों में से कुछ दिन तय कर लिए जाते हैं। इसमें हर मस्जिद अपनी सहूलत के मुताबिक, रमज़ान के तीस दिनों में से तराबीह पढ़े जाने के दिन तय कर लेती है और उन्हीं दिनों में क़ुरआन को पूरा पढ़ते और सुनते हैं। आमतौर पर तराबीह की नमाज़ में देढ़ से दो घंटों का वक़्त लग जाता है।

 

ramzan mubarak

क्या होती है "सहरी"?

रोज़े की शुरुआत होती है सहरी से, सहरी उस खाने को कहा जाता है, जो सहर यानि सुबह की शुरुआत होने से पहले खाया जाए। इस्लाम के मुताबिक, इस खाने को काफी फायदेमंद बताया गया है। इसमें कहा जाता है कि, कोई हल्का फुल्का खाना खाएं, किसी तरह का मसालेदार या भारी खाना खाने का इसमें मना किया जाता है। इस खाने को इतना ख़ास माना जाता है, कि इसके बारे में प्राफेट मोहम्मद स. (वो ऋषि जिनके द्वारा ईश्वर ने ग्रंथ को जमीन पर भेजा) ने फ़रमाया (बताया) कि, ये सेहरी करना इतना खास है कि, लोगों को रात के आखिर हिस्से में अगर एक खजूर या थोड़ा सा पानी ही खाने-पीने का मौका मिले, तो उन्हें खा लेना चाहिए। लेकिन, ऐसा बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि, हर रोज़े को रखने के लिए सहरी करनी ज़रूरी होती हो, अगर किसी वजह से सेहरी छूट जाए, मान लीजिए नींद नही खुल पाई और रोज़े का वक़्त या इसी जैसी और भी कोई वजह हो, जिसमें समय रहते इंसान सेहरी न कर पाया हो, तो ऐसे हाल में भी रोज़ा रखना ज़रूरी है। क्योंकि इन चीज़ों की भी इस्लाम के नज़दीक केटेगिरी बनाई गई है। जैसे रमज़ान के रोज़े जैसा कि, मेने आपको पहले भी बताया ये हर तंदुरुस्त इंसान पर फर्ज़ (मजबूती से लागू होने वाला काम) वहीं, सेहरी सुन्नत (वो काम जो प्राफेट मोहम्मद स. ने अपनी जिंदगी में किया, जिसके करने से फायदा होगा, लेकिन जिसके ना करना गुनाह (पाप)नहीं है) इसलिए अगर किसी वजह से सेहरी छूट जाती है, तो भी रोज़े को नहीं छोड़ा जा सकता।

 

ramzan mubarak

क्या होता है "रोज़ा"?

रोज़े के मायने सिर्फ यही नहीं है कि, इसमें सुबह से शाम तक भूखे-प्यासे रहना होता है। बल्कि रोज़ा वो अमल (कार्य) है, जो रोज़दार को पूरी तरह से पाकीज़गी (शुद्धीकरण) का रास्ता (मार्ग) दिखाता है। रोज़ा वो अमल है जो इंसान को बुराइयों के रास्ते से हटाकर अच्छाई का रास्ता (मार्ग) दिखाता है। महीने भर के रोजों को जरिए अल्लाह (ईश्वर) चाहता है कि, इंसान अपनी रोज़ाना की जिंदगी को रमज़ान के दिनों के मुताबिक़ गुज़ारने वाला बन जाए, यानि संतुलित (नियमित)। रोज़ा सिर्फ ना खाने या ना पीने का ही नहीं होता, बल्कि रोज़ा शरीर के हर आज़ा (अंग) का होता है। इसमें इंसान के दिमाग़ का भी रोज़ा होता है, ताकि, इंसान के खयाल रहे कि, उसका रोज़ा है, तो उसे कुछ गलत बाते गुमान (सोचना) नहीं करनी। उसकी आंखों का भी रोज़ा है, ताकि, उसे ये याद रहे कि, उसका रोज़े में उसकी आखों से भी कोई गुनाह (पाप) ना हो। उसके मूंह का भी रोज़ा है ताकि, वो किसी से भी कोई बुरे अल्फ़ाज (अपशब्द) ना कहे और अगर कोई उससे किसी तरह के बुरे अल्फ़ाज कहे तो वो उसे भी इसलिए माफ कर दे कि, उसका रोज़ा है। उसके हाथों और पैरों का भी रोज़ा है ताकि, उनसे कोई ग़लत काम ना हों। आपको बता दें कि, इस तरह इंसान के पूरे शरीर का रोज़ा होता है, जिसका मक़सद ये भी है कि, इंसान बुराई से जुड़ा कोई भी काम ये सोचकर ना करे कि, वो रोज़े में है और यही अल्लाह अपने बंदे (भक्त) से चाहता है। वैसे तो हर इंसान में कोई ना कोई बुराई होती ही है, ऐसे में सोचिये कि, अगर इंसान रोज़ें की इस बेहतरीन (महान) खूबी से सीखकर अपनी जिंदगी को गुज़ारने वाला बन जाए, तो हालात (स्थितियां) कैसी हों ? एसलिए भी इस्लाम के नज़दीक रमज़ान के इन रोज़ों को हर मुसलमान के लिए फर्ज़ (ज़रूरी) बताया गया है।

 

ramzan mubarak

रमज़ान का मक़सद?

कुल मिलाकर रमज़ान का मक़सद (मूलमंत्र) इंसान को बुराइयों के रास्ते से हटाकर अच्छाई के रास्ते पर लाना है। इसका मक़सद एक दूसरे से मोहब्बत (प्रेम) भाइचारा और खुशियां बाटना (आदान-प्रदान करना) है। रमज़ान का का मक़सद सिर्फ यही नहीं होता कि, एक मुसलमान सिर्फ किसी मुसलमान से ही अपने अच्छे अख़लाक़ (व्यव्हारिक्ता) रखे बल्कि, मुसलमान पर ये भी फर्ज (ज़रूरी) है कि, वो किसी और भी मज़हब के मानने वालों से भी मोहब्बत (प्रेम), इज़्ज़त (सम्मान), अच्छा अख़लाक़ रखे, ताकि दुनिया के हर इंसान का एक दूसरे से भाईचारा बना रहे। इसलिए भी मुसलमान पर रमज़ान के रोज़ों को फर्ज किया गया है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned