SC/ST ACT के तहत सीएम शिवराज सिंह के खिलाफ अजाक्स थाने पहुंची शिकायत, सोशल मीडिया पर मचा बवाल

SC/ST ACT के तहत सीएम शिवराज सिंह के खिलाफ अजाक्स थाने पहुंची शिकायत, सोशल मीडिया पर मचा बवाल

Deepesh Tiwari | Publish: Sep, 08 2018 12:27:51 PM (IST) | Updated: Sep, 08 2018 06:06:10 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

07 सितम्बर को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ...

भोपाल@दीपेश अवस्थी की रिपोर्ट...

एससी/एसटी एक्ट को लेकर जहां एक ओर देश भर की पार्टियां इसके समर्थन में पिछले दिनों सामने आईं थीं। वहीं इसके बाद इसके खिलाफ 6 सितंबर यानि गुरुवार को सवर्ण समाज की ओर से भारत बंद किया गया।

ऐसे में एक अजब मामला मध्यप्रदेश से सामने आया है, जिसके चलते खुद मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिहं इस एक्ट के जाल में उलझ गए हैं।

दरअसल 6 सितंबर को इस एक्ट के विरोध के ठीक अगले दिन यानि 07 सितम्बर को मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ मप्र के अजाक्स थाने में एक महिला की ओर से सीएम के खिलाफ आवेदन प्रस्तुत किया गया है। जिसके चलते भाजपा की परेशानियां बढ़ गईं हैं।

जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री के खिलाफ मध्यप्रदेश के अजाक थाने में एससी/एसटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज करने के लिए आवेदन पेश हुआ है। यह शिकायती आवेदन सीधी जिले में स्थित अजाक थाने में प्रस्तुत किया गया है। जिसके बाद सोशल मीडिया पर बवाल मच गया है।

दरअलस एससी/एसटी एक्ट के अनुसार शिकायत प्राप्त होते ही आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जानी चाहिए और उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाना चाहिए। इसके बाद मामले की जांच की जाएगी। वहीं अब इसे लेकर एक बार फिर मप्र की राजनीति गर्मा गई है। ऐसे में कई लोग एससी/एसटी एक्ट का पालन करने की मांग भी कर रहे हैं।

महिला का ये है आरोप...
शिकायत करने वाली महिला के अनुसार मुख्यमंत्री जन आशीर्वाद यात्रा का विरोध व्यक्त करते हुए काले झंडे दिखाए और चूड़ियां भेंट की मुख्यमंत्री के इशारे पर षड्यंत्रपूर्वक उनके रथ यात्रा मे उपस्थित पुरुष पुलिसकर्मियों तथा सुरक्षाकर्मियों ने मुझे एक आदिवासी कोल जाति की महिला होने के कारण धक्का दिया, छीना झपटी की, मुझे जमीन पर गिरा दिया, जातिसूचक शब्दों से अपमानित किया। और घसीटा तथा मुझे व अन्य कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेकर पुलिस थाना कमर्जी में रखा गया। जहां देर रात तक रात महिला कार्यकर्ताओं को निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया।

शिकायत करने वाली महिला बसंती कोल अध्यक्ष जिला महिला कांग्रेस सीधी हैं।

ये लिखा है आवेदन में:


सेवामें,

पुलिस अधीक्षक महोदय महोदय ,
अजाक थाना सीधी मध्य प्रदेश
अध्यक्ष महिला आयोग मध्यप्रदेश भोपाल
अध्यक्ष अनुसूचित जाति जनजाति आयोग भोपाल मध्य प्रदेश
विषय :-अनुसूचित जाति जनजाति महिला होने के कारण जातीय उत्पीड़न एवं अभद्रता के विरुद्ध शिकायत
महोदय,
निवेदन है कि प्रार्थी श्रीमती बसंती कॉल महिला कांग्रेस जिला सीधी की अध्यक्ष है जो अनुसूचित जाति जनजाति कोल जाति की एक महिला है।घटना दिनांक 2 सितंबर 2018 को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जन आशीर्वाद यात्रा के अंतर्गत चुरहट आए थे चुरहट नगर की सड़क विगत 2 वर्ष से खराब है जो चलने लायक के नहीं है जिला युवक कांग्रेस ने विगत वर्ष सड़क दुरुस्त कराए जाने के लिए आमरण अनशन किया था 1 साल तक सड़क का निर्माण नहीं किया गया जिससे क्षुब्ध होकर चुरहट नगर वासियों ने लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन किया। विरोध किया गया। महिला कांग्रेस और युवक कांग्रेस ने संयुक्त रूप से मुख्यमंत्री जन आशीर्वाद यात्रा का विरोध व्यक्त करते हुए काले झंडे दिखाए और चूड़ियां भेंट की मुख्यमंत्री के इशारे पर षड्यंत्रपूर्वक उनके रथ यात्रा मे उपस्थित पुरुष पुलिसकर्मियों तथा सुरक्षाकर्मियों ने मुझे एक आदिवासी कोल जाति की महिला होने के कारण धक्का दिया, छीना झपटी की, मुझे जमीन पर गिरा दिया, जातिसूचक शब्दों से अपमानित किया।

और घसीटा तथा मुझे व अन्य कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेकर पुलिस थाना कमर्जी में रखा गया। जहां देर रात तक रात महिला कार्यकर्ताओं को निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया।

किंतु अन्य युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को जिन्हें मुचलके पर छोड़ा गया था उन्हे पुनः थाना लॉकअप में बंद कर दिया गया। और दूसरे दिन SDM चुरहट को थाना बुलाकर जेल वारंट बनाकर जिला जेल सीधी भेज दिया गया।

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री श्री भूपेंद्र सिंह ने भोपाल में बयान दिया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हत्या की साजिश नेता प्रतिपक्ष श्री अजय सिंह राहुल भैया के कहने पर रची गई थी जो भोपाल प्रवास पर थे । और यह भी कहा गया कि इस षडयंत्र में जिला युवक कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती रंजना मिश्रा व मैं बसंती कोल महिला कांग्रेस अध्यक्ष शामिल थे। जिन्हें पुलिस गिरफ्तार करने के लिए ढूंढ रही थी इस कारण से मैं अंडरग्राउंड हो गई थी। डर के मारे बाहर नहीं निकल रही थी। प्रदेश के गृह मंत्री और मुख्यमंत्री का यह आचरण और कृत्य अनुसूचित जाति की महिलाओं के प्रतिकूल है। जिस से मैं काफी अपमानित हुई हू।
अतः लिखित शिकायत दर्ज का अनुरोध है कि कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान, गृह मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह सहित मेरे साथ अभद्रता कर अपमानित करने वाले पुरुष पुलिस कर्मियों के विरुद्ध आपराधिक मामला पंजीबद्ध किए जाने की कृपा की जाए ।
भवदीय
श्रीमती बसंती कोल
अध्यक्ष, जिला महिला कांग्रेस सीधी मध्य प्रदेश

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned