पेड़ों की कटाई के विरोध में उतरे छात्र, कहा - नई बिल्डिंग नहीं, उच्च स्तर की शिक्षा चाहिए...

शासकीय मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय में पेड़ों की कटाई के विरोध में उतरे छात्र, कहा - नई बिल्डिंग नहीं, उच्च स्तर की शिक्षा चाहिए...

By: KRISHNAKANT SHUKLA

Published: 03 Mar 2019, 11:24 AM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के शासकीय मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय में पेड़ों की कटाई को लेकर छात्रा ने विरोध शुरू कर दिया है। विद्यार्थी का कहना है कि हमारे वेदों में वृक्षों की महिमा का बखान करते हुए कहा गया है कि - “दस कुओं के बराबर एक बावड़ी, दस बावड़ियों के बराबर एक तालाब, दस तालाबों के बराबर एक पुत्र, और दस पुत्रों के बराबर एक वृक्ष होता है।"

पुराणों के सारे विचारों को ताख पे रख के प्रशासन द्वारा विद्यार्थियों की एक न सुनी गई और महाविद्यालय के लगभग वर्षो पुराने 21 से ऊपर वृक्षों को काट दिया गया। महाविद्यालय में हर वर्ष काफी बच्चों का एडमिशन होता है तो हमें एक और बिल्डिंग की आवश्यकता है तो इन पेड़ों को काट के यहां नई बिल्डिंग बनाई जाएगी।

विद्यार्थियों का सवाल ये उठता है कि जब वर्तमान में जो बिल्डिंग्स, लैब्स और क्लेसरूमस मौजूद हैं वही खाली रहते हैं क्योंकि उनमें विद्यार्थियों के पढ़ने लायक कोई अपडेटेड सुविधा ही नहीं है, लाइब्रेरी की स्थिति ठीक नही, कंप्यूटर साइंस विषय तो है कॉलेज में लेकिन 3000 विद्यार्थियों के लिये केवल 3 आउटडेटिड कंप्यूटर ही मौजूद हैं, लैब्स तो हैं पर इक्विपमेंट्स की हालत खराब, ऑडिटोरियम तो है लेकिन एक दम जर्जर हालत में..

ऐसे में प्रशासन को कई बार इनके सुधारों के लिए आवेदन दिए गए हैं पिछले 3 सालों में लेकिन कोई कार्यवाही नहीं तो फिर अधिक बच्चों की संख्या होने का बहाना देकर नई बिल्डिंग बनाई ही क्यों जा रही है। विद्यार्थियों को उच्च स्तर की शिक्षा चाहिए जिसमें वो कुछ सीख सकें न कि 6-6 करोड़ की बिल्डिंगें। एमवीएम के बच्चे इस नई बिल्डिंग बनने के पूर्ण विरोध में हैं और पेड़ों की कटाई का भी जवाब चाहते हैं।

यदि पेड़ काटे गए हैं तो अब डबल लगाए जाएं और उनके संरक्षण की पूर्ण ज़िम्मेदारी ली जाए साथ ही यदि नई बिल्डिंग बनाई जाना इतना आवश्यक है तो पुरानी बिल्डिंग में और लैब्स में पहले पूर्ण सुविधा उपलब्ध कराई जाए।

Show More
KRISHNAKANT SHUKLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned