सूर्य का तुला राशि में गोचर: आपकी राशि में इस गोचर का प्रभाव और परेशानियों से बचाव के खास उपाय

सूर्य का तुला राशि में गोचर: आपकी राशि में इस गोचर का प्रभाव और परेशानियों से बचाव के खास उपाय
सूर्य का तुला राशि में गोचर: आपकी राशि में इस गोचर का प्रभाव और परेशानियों से बचाव के खास उपाय

Deepesh Tiwari | Updated: 17 Oct 2019, 11:02:35 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

Surya in tula rashi: कलयुग में एकमात्र दृश्य देव हैं सूर्य देव...

भोपाल। ज्योतिष में सूर्य देव को नवग्रहों का राजा माना जाता है।जिसे आत्मा का कारक माना गया है। सूर्य को सनातनधर्मी आदि पंच देवों में से एक मानते हैं। साथ ही वे इसे कलयुग में एकमात्र दृश्य देव के रूप में भी पूजते है। सूर्य का रत्न माणिक्य है।

कुंडली में मौजूद सभी 12 राशियों में से केवल एक राशि सिंह का स्वामित्व सूर्य देव को प्राप्त है। इसके साथ ही सूर्य देव कृतिका, उत्तराफाल्गुनी उत्तराषाढ़ा नक्षत्रों के स्वामी हैं।


राशि परिवर्तन: सूर्य गोचर का समय...
पिछले दिनों हुए कई ग्रहों के राशि परिवर्तन के बाद एक बार फिर सूर्य देव अब 18 अक्टूबर 2019, शुक्रवार 00:41 बजे कन्या से तुला राशि में गोचर करेंगे। वे 17 नवंबर 2019, रविवार 00:30 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेगा। सूर्य के इस राशि परिवर्तन का प्रभाव सभी राशियों पर होगा।

MUST READ: भगवान सूर्य के इस मंत्र का करें जाप, रातों रात पाएं तरक्की!

सूर्य का तुला राशि में गोचर: आपकी राशि में इस गोचर का प्रभाव और परेशानियों से बचाव के खास उपाय

अक्टूबर में अभी ये परिवर्तन भी होंगे...
सूर्य के इस राशि परिवर्तन के अलावा अक्टूबर 2019 में बुध और शुक्र भी गोचर करेंगे। इसके तहत...

: 23 अक्टूबर 2019 को बुध का वृश्चिक राशि में गोचर होगा।

: जबकि 28 अक्टूबर 2019 शुक्र का भी वृश्चिक राशि में गोचर होगा।

: वहीं नवंबर के पहले सप्ताह में यानि 5 नवंबर 2019 को बृहस्पति का धनु राशि में गोचर होगा।


सूर्य का ज्योतिष में इतना महत्वपूर्ण स्थान क्यों? जानिये यहां...
सनातन धर्म जिसे अब हिंदू धर्म के नाम से भी जाना जाता है, इसमें आस्था रखने वाले लोग एक देवता के रुप में सूर्य की उपासना करते हैं।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार वैदिक ज्योतिष के अनुसार यदि प्रतिदिन सूर्योदय के समय सूर्य देव को जल चढ़ाया जाए तो जन्म कुंडली में मौजूद सूर्य संबंधित दोषों से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही सूर्य की उपासना करने से शारीरिक तेज और आत्मविश्वास में वृद्धि होती है।

इसके साथ ही वैदिक ज्योतिष में सूर्य को आत्मा, पूर्वज, पिता और सरकारी सेवा का कारक माना गया है।

MUST READ : सूर्य ने किया राशि परिवर्तन और शनि हुए मार्गी, अब इन राशियों की चमकेगी किस्मत

grahon ki chaal astrology today 26 march 2019
IMAGE CREDIT: lali koshta

ऐसे समझें कुंडली पर सूर्य का प्रभाव : surya effects in Kundali ...
पंडित शर्मा के अनुसार यदि आपकी कुंडली में सूर्य अच्छी स्थिति में विराजमान है, तो इसका अर्थ है कि जीवन में आपको मनवांछित फलों की प्राप्ति होती है।

सूर्य की अच्छी स्थिति आपको अच्छे कामों को करने की तरफ प्रेरित करती है। ऐसे जातकों को खुद पर पूरा नियंत्रण होता है। इसके साथ ही ये भी माना जाता है कि यदि किसी जातक की कुंडली में सूर्य बली है तो उसके मन में सकारात्मक विचार आते हैं और जीवन के प्रति उसका नज़रिया सकारात्मक होता है।

लेकिन वहीं यदि किसी कुंडली में सूर्य की स्थिति अच्छी न हो तो इसके बुरे प्रभाव आपको परेशान कर सकते हैं। यहां तक की यह अपयश का कारण भी बन सकता है।

MUST READ : इस माह 2019 में ये पांच राशियां रहेंगी सबसे ज्यादा भाग्यशाली

सूर्य का तुला राशि में गोचर: आपकी राशि में इस गोचर का प्रभाव और परेशानियों से बचाव के खास उपाय

आइए जानते हैं सूर्य के इस राशि परिवर्तन का प्रभाव...

1. मेष राशि :
आपकी राशि से सप्तम भाव में इस दौरान सूर्य देव का गोचर रहेगा। सप्तम भाव को विवाह भाव भी कहा जाता है। इस भाव जातक के विवाह या विवाह के बाद के समय पर विचार किया जाता है।

इस भाव में सूर्य के गोचर के चलते इस राशि के छात्रों के लिए यह समय अच्छा रहेगा। आप शिक्षा के क्षेत्र में अपनी नई पहचान बना सकते हैं।

जबकि सूर्य के इस गोचर के दौरान आपके स्वभाव में क्रोध की अधिकता देखने को मिल सकती है। इस समय अपने मन को नियंत्रित करने के लिए आपको योग ध्यान का सहारा लेना चाहिए।

इसके साथ ही वो कारोबारी जो साझेदारी में बिज़नेस करते हैं, आपसी मतभेदों के कारण साझेदार के साथ उनके रिश्तों में कुछ खटास आ सकती है।

आपके वैवाहिक जीवन में कुछ परेशानियां आ सकती हैं। अपने भाई-बहनों के साथ किसी बात को लेकर आपकी कहासुनी हो सकती है। अगर आप परिवार के लोगों के साथ अपने मतभेदों को दूर नहीं करते हैं तो आपके रिश्ते तो प्रभावित होंगे ही साथ ही आपको भविष्य में परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है।

उपाय ( Solution ) -ॐ ह्रां ह्रीं ह्रोम सः सूर्याय नमः’ मंत्र का उच्चारण करें।

Daily Horoscope दैनिक राशिफल

2. वृषभ राशि :
सूर्य देव का गोचर इस दौरान आपकी राशि से षष्ठम भाव में रहेगा। ज्योतिष में षष्ठम भाव शत्रु भाव या रोग भाव भी कहा जाता है। इस भाव से शत्रु, रोग यानि आपको होने वाली बीमारियों, कानूनी लड़ाई आदि के बारे में विचार किया जाता है।

इस गोचर के दौरान आपको अच्छा फल मिल सकता है, इस समय इस राशि के छात्रों के लिए सूर्य का यह गोचर बहुत लाभदायक रहने वाला है, जो छात्र किसी प्रतियोगी परीक्षा में भाग ले चुके हैं और अब परिणामों का इंतजार कर रहे हैं, सूर्य के इस गोचर के चलते उन्हें अपनी मेहनत का अच्छा फल मिल सकता है। कुल मिलाकर कहा जाए तो शिक्षा के क्षेत्र में आप मनचाहे परिणाम पा सकते हैं।

वहीं सरकारी नीतियों से आपको लाभ होने की भी संभावना है। साथ ही आप अपने लक्ष्य के प्रति केंद्रित रहेंगे और लक्ष्य तक पहुंचने के लिए जी जान लगा देंगे। हर स्थिति का डटकर सामना करने का आपका गुण इस समय आपको आपके प्रतिद्वंदियों पर हावी रखेगा।

पारिवारिक जीवन की बात की जाए तो संपत्ति से जुड़ा कोई छोटा-मोटा विवाद इस समय हो सकता है। हालांकि अंत में फैसला आपके पक्ष में आने की पूरी उम्मीद है।

उपाय ( Solution ) - सूर्य देव को पानी में भीगे लाल फूल व सिंदूर अर्पित करें।

3. मिथुन राशि :
आपकी राशि से इस दौरान सूर्य का गोचर पंचम भाव में रहेगा। पंचम भाव को संतान भाव भी कहा जाता है और इससे जातक के बुद्धि और ज्ञान के बारे में भी विचार किया जाता है।

यह गोचर जहां कुछ हद तक शुभ है तो वहीं कुछ मामलों में सामान्य भी होने का इशारा कर रहा है। यदि इस राशि जातक अभी तक सिंगल हैं, तो उनकी मुलाकात किसी खास शख्स से होने की संभावना है और यह खास शख्स आने वाले वक्त में उनका जीवनसाथी बन सकता है। कुल मिलाकर प्रेम जीवन के लिए यह समय अच्छा रहेगा।

वहीं नौकरी पेशा से जुड़े लोगों के लिए यह गोचर शुभ संकेत दे रहा है। इसके तहत लंबे समय से किसी संस्था से जुड़े हैं तो इस समय आपकी पदोन्नति हो सकती है। आपके कार्य को सराहना मिलेगी जिससे कार्यक्षेत्र में आप और भी अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे।

जबकि आर्थिक पक्ष कमजोर रह सकता है। इस समय सोच समझकर निवेश करें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

इस राशि के छात्रों के लिए यह गोचर बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता, इस गोचर के समय आपका मन चंचल रहेगा और आप पढ़ाई में ध्यान नहीं लगा पाएंगे।

उपाय ( Solution ) - रविवार के दिन भगवान विष्णु के मंदिर में शुद्ध घी चढ़ाएं।

MUST READ : राशि परिवर्तन 2019- बुध का कन्या राशि में प्रवेश, ये परिवर्तन आपको देगा खास सौगात

WEEKLY RASHIFAL:  अमृतसिद्धि योग में आरंभ हो रहा सप्ताह, तीन ग्रहों की बदल रही है चाल, इन राशियों को मिलेगा लाभ

4. कर्क राशि :
सूर्य के तुला राशि में गोचर के दौरान आपका चतुर्थ भाव सक्रिय अवस्था में रहेगा। चतुर्थ भाव को सुख भाव या माता का भाव भी कहा जाता है। इससे ज्योतिष में आपकी चल-अचल संपत्ति, माता, और समाज में आपकी स्थिति के बारे में विचार किया जाता हैं।

यह गोचर आपकी राशि के लिए शुभ संकेत लिया हुआ कम ही दिखाई दे रहा है। ऐसे में छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे फल पाने के लिए इस दौरान सार्थक प्रयास करने होंगे।

आपके काम करने की गति इस दौरान कम हो सकती है क्योंकि आपका मन आपको बार-बार भटकायेगा। पारिवारिक कलह का आपकी प्रोफेशनल जिंदगी पर भी प्रभाव पड़ेगा।

इस गोचर के दौरान आपकी माता की सेहत में गिरावट आ सकती है, जिसके चलते आप तनाव में रहेंगे!

इस राशि के कुछ जातक अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए इस समय अपना पुराना वाहन या प्रोपट्री बेच सकते हैं।

उपाय ( Solution ) - सूर्य भगवान को रोजाना जल चढ़ाएं।

5. सिंह राशि :
सूर्य देव इस दौरान आपकी राशि से तृतीय भाव में गोचर करेंगे। ज्योतिष में तृतीय भाव को पराक्रम भाव भी कहा जाता है। इस भाव के आधार पर आपके साहस, पराक्रम, छोटे भाई-बहनों और आपके सामर्थ्य के बारे में विचार किया जाता है।

इस गोचर दौरान नौकरी पेशा से जुड़े लोगों को कार्यक्षेत्र में नया मुकाम हासिल हो सकता है। साथ ही आप खुद को ऊर्जावन महसूस करेंगे और हर काम को पूरी रचनात्मकता के साथ पूरा करने की कोशिश करेंगे।

वहीं बीते समय में आपके द्वारा किये गये अच्छे कार्य अब फलित होंगे। सामाजिक जीवन में भी आप अच्छा प्रदर्शन कर पाने में सक्षम होंगे और अपनी तार्किक बुद्धि से लोगों को अपनी ओर आकर्षित करेंगे।

किसी पुरानी बीमारी से इस दौरान आपको छुटकारा मिल सकता है। इस राशि के कुछ जातकों को इस गोचर के दौरान छोटी दूरी की यात्राएं करनी पड़ सकती हैं, इन यात्राओं के कारण आपका स्वास्थ्य भी बिगड़ सकता है और ज़रूरी कामों में भी व्यवधान आ सकता है।

इस समय आपको विपरीत लिंगी लोगों के साथ विनम्रतापूर्वक बात करनी चाहिए। आलस्य को अपने पर हावी न होने दें।

उपाय ( Solution ) - रविवार से रोजाना आदित्य हृदय स्त्रोत का जाप आरंभ करें।

Aaj ka rashifal  29  September : माता रानी की कृपा से आज इन तीन राशि वालों की खुल जाएगी किस्मत, जानिए आपका राशिफल

6. कन्या राशि :
इस दौरान सूर्य ग्रह का गोचर आपकी राशि से द्वितीय भाव में रहेगा। ज्योतिष में द्वितीय भाव को धन भाव भी माना गया है।

इस भाव में सूर्य का गोचर आपको कुछ परेशानियां दे सकता है। सूर्य के इस गोचर की अवधि में आपको आंखों से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। वहीं आपकी वाणी में भी कर्कशता आ सकती है।

वहीं पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं यह बात आपको समझनी होगी, छोटी-छोटी बातों को लेकर क्रोधित होने से परिवार में अशांति बनी रहेगी। अत: गुस्से पर काबू रखें और बिना वजह जानें किसी भी बात पर अपनी प्रतिक्रिया न दें। सेहत को लेकर सचेत रहें।

आर्थिक पक्ष की बात करें तो इस समय आपको अपने ख़र्चों पर लगाम लगाने की जरुरत है। वहीं यदि विदेशों में आपकी ज़मीन है तो इससे आपको फायदा होने की पूरी संभावना है।


उपाय ( Solution ) - श्री हरिवंश पुराण को सुनें या जाप करें।

MUST READ : 2019 अब इन 3 राशियों पर आ रही है आफत जबकि ये होंगी मालामाल...

7. तुला राशि :
सूर्य देव आपकी राशि में ही गोचर करेंगे यानि आपके प्रथम भाव / लग्न भाव में रहेंगे। ज्योतिष में लग्न भाव को स्वयं का भाव माना जाता है। इससे आपके स्वभाव, स्वास्थ्य और आत्मज्ञान के बारे में विचार किया जाता है।

सूर्य देव का यह गोचर आपको कुछ परेशानियां दे सकता है। जिसके चलते छात्रों को इस दौरान पढ़ाई को लेकर कड़ी मेहनत की जरूरत है। जबकि विदेशों में पढ़ाई कर रहे इस राशि के जातकों को इस समय अच्छे फल मिल सकते हैं।

इस दौरान आपके व्यवहार में भी इस समय चिड़चिड़ापन देखा जा सकता है। किसी भी क्षेत्र में सफलता के लिए अपने गुस्सैल स्वभाव को बदलें, वरना आप अपना ही नुकसान कर बैठेंगे।

आर्थिक पक्ष को मजबूत करने के लिए आपको अपने परिजनों से बात करने की जरुरत है। धन संचय करने के लिए आपको एक अच्छा बजट प्लान बनाना चाहिए। इस दौरान पेट से जुड़ी कोई समस्या आपको हो सकती है।

उपाय ( Solution ) - रविवार के दिन तांबे का बर्तन दान दें।

Aaj ka rashifal  28 September : बुध ने किया राशि परिवर्तन, जानिए आप पर क्या होगा प्रभाव

8. वृश्चिक राशि :
सूर्य का गोचर इस दौरान आपकी राशि से द्वादश भाव में होगा। ज्योतिष में द्वादश भाव को व्यय भाव भी कहते हैं। इस भाव से आपके खर्च, हानि और मोक्ष के बारे में विचार किया जाता हैं।

इस दौरान छात्रों को यदि किसी विषय में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। तो बिना किसी झिझक के इसके लिए उन्हें अपने गुरुजनों से बात करनी चाहिए। इस समय आपके पिता आपके भविष्य को लेकर आपको कोई महत्वपूर्ण सलाह दे सकते हैं।

वहीं इस राशि के कारोबारियों को इस गोचर के दौरान काम के संबंध में विदेश यात्रा या कोई लंबी दूरी की यात्रा करनी पड़ सकती है।

जबकि इस राशि के कुछ जातकों को मानसिक तनाव इस दौरान परेशान कर सकता है। इस समय आपकी छवि धूमिल हो सकती है।

ख़र्चों में बढ़ौतरी हो सकती है। शारीरिक दर्द और आंतों से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं।

उपाय ( Solution ) - 'ॐ हिरण्यगर्भाय नमः' मंत्र का उच्चारण करें।

9. धनु राशि :
इस दौरान सूर्यदेव आपकी राशि से एकादश भाव में गोचर रहेगा। ज्योतिष में एकादश भाव को आय भाव भी कहा जाता है और इससे जातक के जीवन में मिलने वाली आय,उपलब्धियों, बड़े भाई बहनों आदि के बारे में विचार किया जाता है।

इस भाव में सूर्य के गोचर के दौरान आपको अच्छे फल मिलने की पूरी उम्मीद है। इस दौरान पिता के जरिये आपको लाभ होने की भी पूरी संभावना है। इस गोचर के दौरान आपकी मुलाकात समाज के कुछ नामचीन लोगों से भी हो सकती है।

साथ ही इस राशि के छात्रों का मन इस समय उनके काबू में रहेगा, पाठ्यक्रम की पुस्तकों के साथ-साथ आप कुछ धार्मिक पुस्तकों का भी अध्ययन कर सकते हैं।

वहीं इस समय कार्यक्षेत्र में आपको अपने सीनियर्स का साथ मिलने के साथ ही लाभ प्राप्ति के नए मार्ग खुलेंगे। यह गोचर आपके स्वास्थ्य में भी सकारात्मक बदलाव लेकर आएगा जिसकी वजह से आप पहले से ज्यादा सक्रिय नज़र आएंगे।

धनु राशि का स्वामी बृहस्पति ग्रह है, वहीं सूर्य के इस गोचर के दौरान आपकी धार्मिक भावनाओं में और भी ज्यादा इज़ाफा देखने को मिलेगा।

उपाय ( Solution ) - ‘ॐ घरिणी सूर्याय नमः’ मंत्र का जाप करें।

rashifal_003.jpg

10. मकर राशि :
सूर्य देव इस समय आपकी राशि से दशम भाव में गोचर करेंगे। कुंडली में यह भाव कर्म भाव भी कहा जाता है। इसकी मदद से जातक के कर्म, आपके पिता और समाज में आपकी स्थिति के बारे में विचार किया जाता है।

सूर्य की इस स्थिति से कार्यक्षेत्र में इस समय आपके सम्मान में वृद्धि हो सकती है और ऑफ़िस के सीनियर्स के साथ आपका उठना-बैठना हो सकता है।

वहीं दशम भाव में गोचर आपको सरकारी क्षेत्रों से लाभ दिलाएगा। साथ ही यदि आप सरकारी नौकरी करते हैं, तो आपका प्रोमोशन इस दौरान हो सकता है।

लेकिन इस समयावधि में विपरीत लिंगियों से कहासुनी होने के आसार हैं, इसलिए शब्दों का चुनाव इस समय सोच समझकर करें। कुछ ग़लतफ़हमियां आपके करीबियों को आपसे दूर कर सकती हैं। इसके अलावा समाज के बीच आपकी छवि खराब हो सकती है।

इसके साथ ही आपको अपनी उत्तेजना पर इस समय काबू रखना होगा। पारिवारिक जीवन में कुछ उतार-चढ़ाव आ सकते हैं, जिसकी वास्तविक स्थिति पता चलने पर आप हालात को स्वयं ही काबू में कर लेंगे।

उपाय ( Solution ) - गाय को गुड़ खिलाएं।

11. कुंभ राशि :
सूर्यदेव का गोचर कुंभ राशि के जातकों की राशि से नवम भाव में रहेगा। कुंडली में नवम भाव को भाग्य भाव भी कहा जाता है। इससे जातक के भाग्य, लंबी दूरी की यात्राओं और गुरु या गुरुतुल्य लोगों के बारे में विचार किया जाता है।

सूर्य के इस गोचर के दौरान आपको अपने विरोधियों से सावधान रहने की जरुरत है क्योंकि आपकी बातों को गलत तरह से पेश करके वो आपके रास्ते में परेशानियां खड़ी कर सकते हैं।

आर्थिक पक्ष कमजोर रह सकता है लेकिन अगर आप अपने ख़र्चों पर नज़र बनाए रखें तो कई आर्थिक परेशानियों से बच सकते हैं। जीवन में आ रही परेशानियों को दूर करने के लिए इस समय आपको अपने किसी पुराने और विश्वास पात्र मित्र से मिलना चाहिए।

इस समय आपने पिता की सेहत का खास ध्यान रखें। प्रेम जीवन की बात करें तो आपका गुस्सा आपके प्रेमी को आपसे दूर कर सकता है।

उपाय ( Solution ) - रविवार को लाल कपड़ा दान करें।

Aaj ka rashifal 09 Aug: ग्रहों की बदलती चाल के बीच के आज इन तीन राशि वालों को होगा बड़ा लाभ,जानिए आपका राशिफल

12. मीन राशि :
सूर्य का गोचर आपकी राशि से अष्टम भाव में हो रहा है। ज्योतिष में इस भाव को आयु भाव भी कहा जाता है और इससे जातक के जीवन में आने वाले उतार-चढ़ावों और अचानक होने वाली घटनाओं के बारे में विचार किया जाता है।

इस गोचरीय काल में छात्रों को मिलेजुले फल मिलने की संभावना है। अगर आपको शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन करना है तो जिन विषयों को समझने में आपको परेशानी हो रही है उनमें अपने गुरुजनों की मदद लें।

वहीं इस दौरान आपको अपने गुस्से पर काबू रखना होगा। स्वास्थ्य के लिहाज से तैलीय और मसालेदार भोजन से खुद को जितना दूर रखेंगे उतना ही आप स्वस्थ रहेंगे।

इसके साथ ही इस गोचर के दौरान आप अपने लक्ष्य से भटक सकते हैं और लक्ष्य को हासिल करने में आपको परेशानियां भी आ सकती हैं। इस दौरान आपको धैर्य बनाए रखने की आवश्यकता है। समाज में आपकी छवि खराब हो सकती है।

अगर आपको ऐसा लगता है कि आप कहीं फंस गए हैं तो ऐसी स्थिति से निकलने के लिए आप अपने किसी अच्छे दोस्त की सलाह ले सकते हैं।


उपाय ( Solution ) - रविवार को गेहूं दान करें।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned