प्रदेश की खेल प्रतिभाओं के चयन हेतु एक अगस्त से शुरू होगा प्रतिभा चयन कार्यक्रम

खेल विभाग द्वारा शिक्षा एवं आदिम जाति विभाग के सहयोग से किया जाएगा टैलेंट सर्च

By: mukesh vishwakarma

Published: 22 Jul 2021, 08:32 PM IST

भोपाल. सुदूरवर्ती ग्रामीण अंचलों, कस्बों और जिला स्तर पर दबी-छुपी खेल प्रतिभाओं का चयन करने और उन्हें राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर प्रदान करने के लिए प्रदेश में एक अगस्त, 2021 से प्रतिभा चयन कार्यक्रम प्रारंभ किया जाएगा। खेल विभाग द्वारा स्कूल शिक्षा और आदिम जाति कल्याण विभाग के समन्वित प्रयासों से जिला, संभाग एवं राज्य स्तर पर होने वाले टेलेंट सर्च, (प्रतिभा चयन कार्यक्रम) के संबंध में आज एनआईसी के माध्यम से वीडियो कांफ्रेंसिंग आयोजित की गई। वीडियो कांफ्रेंसिंग में प्रदेश के समस्त जिलों के पुलिस अधीक्षकों, जिला खेल अधिकारी, स्कूल शिक्षा और आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारियों को संचालक खेल और युवा कल्याण श्री पवन जैन, आयुक्त स्कूल शिक्षा श्रीमती जयश्री कियावत, डिप्टी कमिश्नर आदिम जाति सुश्री रीता सिंह एवं उप संचालक स्कूल शिक्षा आलोक खरे द्वारा दिशा-निर्देश दिए गए। इस अवसर पर संयुक्त संचालक खेल डॉ. विनोद प्रधान एवं बीएस यादव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

स्थान निर्धारित करें
संचालक पवन जैन ने जिला पुलिस अधीक्षकों, जिला खेल अधिकारियों और स्कूल शिक्षा एवं आदिम जाति कल्याण विभाग के अधिकारियों से जिलों की खेल गतिविधियों के संबंध में विस्तार से चर्चा की और कहा कि टैलेंट सर्च के लिए सुविधाजनक स्थल (मैदान) का चयन करें। प्रथम चरण में जिला स्तर पर खिलाड़ियों का फिजिकल टेस्ट (शारीरिक परीक्षण) एवं संभाग स्तर पर स्किल टेस्ट (कौशल परीक्षण) किया जायेगा। उन्होंने बताया कि टेलेन्ट सर्च के लिए जिलों को आवश्यक सामग्री, धनराशि उपलब्ध कराई जाएगी।
व्यापक प्रचार-प्रसार करें
वीडियो कांफ्रेंसिंग में खेल संचालक पवन जैन ने बताया कि 1 से 10 अगस्त तक जिला स्तर पर तथा 11 से 20 अगस्त, 2021 तक संभाग स्तर पर टेलेन्ट सर्च कार्यक्रम स्कूल शिक्षा और आदिम जाति कल्याण विभाग के सहयोग से संचालित किया जाएगा। उन्होंने टेलेन्ट सर्च से पूर्व जिला स्तर पर गठित समिति की बैठक आयोजित करने और आवश्यक तैयारी पूर्ण करने के लिए निर्देशित करते हुए कहा कि अधिक से अधिक खेल प्रतिभाओं की पहचान के लिए टैलेंट सर्च कार्यक्रम का व्यापक रूप से प्रचार-प्रसार किया जाए। उन्होंने बताया कि टेलेन्ट सर्च के लिए भारतीय ख्ेाल प्राधिकरण (साई) सहित अन्य राज्यों के नार्म्स को शामिल करते हुए तैयार किए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार प्रतिभा चयन कार्यक्रम संचालित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि टेलेन्ट सर्च से संबंधित जरूरी पैम्पलेट एवं लघु वृत्तचित्र आदि सामग्री जिलों को शीघ्र उपलब्ध कराई जाएगी।

जिलों में होंगे एक्सीलेन्स सेंटर
खेल संचालक पवन जैन ने शिवपुरी, सागर, सतना, उज्जैन, धार, होशंगाबाद, छिंदवाड़ा, जबलपुर, विदिशा, पन्ना आदि जिलों में उपलब्ध खेल अधोसंरचनाओं की जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के अन्य जिलों को एक्सीलेन्स सेन्टर के रूप में विकसित किया जाएगा ताकि चयनित खेल प्रतिभाओं को इसका लाभ मिल सके।

mukesh vishwakarma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned