देश के इस कला केंद्र के ये हो रहे हाल

देश के इस कला केंद्र के ये हो रहे हाल

hitesh sharma | Publish: Sep, 04 2018 03:31:04 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

अभी सिर्फ अतिथि प्रस्तुति तक सिमटा भारत भवन
रेपर्टरी शुरू करने के लिए 2.5 करोड़ की जरूरत, अभी पास नहीं हुआ प्रस्ताव

भोपाल। संस्कृति विभाग ने भारत भवन की रंगमंडल रेपर्टरी को ब.व. कारंत रंगमंडल करने की घोषणा तो कर दी, लेकिन शहर के रंगकर्मी और कलाप्रेमियों के लिए ये सिर्फ एक सपना ही बना हुआ है। पिछले करीब एक दशक से विभाग इसे शुरू करने की घोषणाएं तो कर रहा है, लेकिन इसे शुरू करने में दिलचस्पी नहीं रहा। भारत भवन प्र्रशासन ने रेपर्टरी शुरू करने के लिए ढाई करोड़ का प्रस्ताव तैयार किया था। जिसे वित्त विभाग ने अब तक मंजूरी नहीं दी। फंड के अभाव में रंगमंडल अतिथियों प्रस्तुतियों तक सिमट कर रह गया है। हिंदी भाषी राज्यों में 'रंगमंडल' ऐसी इकलौती ऐसी रेपर्टरी थी जहां हिंदी के साथ विभिन्न बोलियों पर भी काम किया जाता था।

 

art

20 साल में हुए 90 शो

भारत भवन की स्थापना के साथ ही वर्ष 1982 में यहां रेपर्टरी शुरू हुई, ब.व. कारंत इसके पहले डायरेक्टर रहे। वे वर्ष 1985-1986 तक डायरेक्टर रहे। उनके निर्देशन में यहां सबसे पहले नाटक 'चतुर्भाणी' का मंचन हुआ। रेपर्टरी के अंतिम डायरेक्टर हबीब तनवीर थे। रंगमंडल से जुड़े कलाकार बताते हैं कि अंतिम नाट्य प्रस्तुति 'दलदलÓ थी। इन 20 सालों में यहां 90 से ज्यादा नाटकों का मंचन यहां हुआ। वर्ष 2002 में रेपर्टरी बंद होने के बाद से कभी फुल टाइम डायरेक्टर नहीं मिल पाया। अभी इसकी जिम्मेदारी भारत भवन के कर्मचारियों के भरोसे ही है।

 

25 लाख का बजट ही मिल पाया
पिछले दस सालों में संस्कृति विभाग के हर प्रमुख सचिव ने रेपर्टरी शुरू कराने के लिए प्रयास किए, बजट की मांग की। वर्तमान में रेपर्टरी को शुरू करने के लिए करीब 2.5 करोड़ रुपए के बजट की आवश्यकता है। बजट को लेकर लंबे समय से कवायद की जा रही है। इसके लिए अंतिम बार 2015-16 में 25 लाख का बजट स्वीकृत किया गया, जो जरूरत से काफी कम था। भारत भवन ने सालों से रेपर्टरी की प्रॉपर्टीज को संभाल कर रखा है।

 

करीब 40 रेपर्टरी को फंडिंग दे रहा विभाग

वर्ष 2002 में भारत भवन के रेपर्टरी बंद हुई, उस समय तीस कलाकार यहां नौकरी कर रहे थे। नियमित होने को लेकर वे सुप्रीम कोर्ट चले गए थे। कुछ समय बाद रेपर्टरी को बंद कर दिया गया। वर्ष 1982 में जब भारत भवन में रेपर्टरी शुरू हुई थी। तब राजधानी में बमुश्किल 3-4 रेपर्टरी थी। वर्तमान में यहां चालीस से ज्यादा रेपर्टरी चल रही है। विभाग इन्हें पचास हजार से ज्यादा पांच लाख तक ग्रांट दे रहा है।

रंगमंडल रेपर्टरी को शुरू करने के लिए करीब 2.5 करोड़ रुपए की जरूरत है। इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर भेजा गया है। यदि फंड मिल जाता है तो डायरेक्टर की नियुक्ति कर रेपर्टरी शुरू कर दी जाएगी। हमारे पास सारी सुविधाएं मौजूद हैं।
- प्रेमशंकर शुक्ला, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी, भारत भवन

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned