जैसलमेर और भुज के पीले पत्थरों से तैयार हो रहा चार मंजिला जिनालय, 23 हजार वर्गफीट में आकार लेगा, दो साल में होगा पूरा

हबीबगंज स्थित आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में कारीगर पत्थरों को तराशकर आकार दे रहे हैं, अब तक मंदिर का लगभग 40 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है, पिछले तीन सालों से इसका निर्माण कार्य चल रहा है

By: योगेंद्र Sen

Published: 19 Mar 2020, 08:32 PM IST

भोपाल. शहर के बीच हबीबगंज स्थित आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर सहस्त्रकूट जिनालय आकार ले रहा है। पिछले तीन सालों से इसका निर्माण कार्य चल रहा है और आने वाले दो सालों में यह मंदिर आकार लेगा। शहर के बीच में यह एक तीर्थ क्षेत्र के रूप में विकसित होगा, जो श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र रहेगा। यह चार मंजिला जिनालय 23 हजार वर्गफीट में आकार लेगा। इसके लिए जैसलमेर और भुज से पीले पत्थर मंगाए गए हैं। कारीगर इन पत्थरों को तराशकर आकार दे रहे हैं। अब तक मंदिर का लगभग 40 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है और उम्मीद है कि आने वाले दो सालों में यह पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगा। इस मंदिर का निर्माण 3 लाख घनफीट में होगा। इसके लिए बड़ी मात्रा में पीले पत्थर मंदिर में लाए गए हैं, जो मंदिर परिसर में रखे हैं। कारीगरों द्वारा कटिंग करके मंदिर में लगाया जा रहा है। पत्थरों को तराशकर नक्काशी की जा रही है। इस मंदिर का निर्माण कार्य 2016 से शुरू किया गया था।

धर्मशाला, संत निवास, अस्पताल की भी होगी सुविधा
मंदिर के निर्माण के बाद यहां अन्य निर्माण कार्य भी किए जाएंगे। मंदिर तैयार होने के बाद यहां धर्मशाला, संत निवास, अस्पताल सहित अन्य सुविधाएं भी रहेगी। इसका निर्माण कार्य भी किया जाएगा। मंदिर का निर्माण दिगम्बर पंचायत कमेटी ट्रस्ट की ओर से किया जा रहा है।

लगातार चल रहा निर्माण कार्य
दिगम्बर पंचायत कमेटी ट्रस्ट के अध्यक्ष प्रमोद जैन हिमांशु ने बताया कि मंदिर का निर्माण कार्य लगातार किया जा रहा है। इस मंदिर का निर्माण आचार्य विद्यासागर महाराज की प्रेरणा से हो रहा है। इसे लगभग 300 कारीगर आकार दे रहे हैं। हमारा प्रयास है कि यह आगामी दो सालों में बनकर तैयार हो जाए।

योगेंद्र Sen Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned