scriptThe maximum fire occurs in twenty forests of the state | प्रदेश के बीस forests में सबसे ज्यादा लगती है fire | Patrika News

प्रदेश के बीस forests में सबसे ज्यादा लगती है fire

जंगलों में आगजनी की घटनाओं में देवास, खंडवा सहित 20 डिवीजन सेंसटिव जोन
जनवरी से अब तक जंगलों में 16000 आगजनी की घटनाएं, पिछले वर्ष कुल 22 हजार 600 हेक्टेयर से अधिक

भोपाल

Updated: April 16, 2022 08:56:31 pm

भोपाल। forest fire लगने की घटनाओं में Dewas, Khandwa सहित करीब 20 डिवीजन पिछले सात वर्षों से सेंसटिव जोन बन गए हैं। यहां प्रति वर्ष दो हजार से अधिक आगजनी की घटनाएं रिकार्ड की जाती हैं। इसके चलते इन जिलों को जंगलों में आग की घटनाओं को रोकने के लिए विशेष बजट दिए गए हैं, जिससे कि ये जंगलों में आग लगने की घटनाओं को कम करने की कार्ययोजना तैयार कर सकें। सेटेलाइट इमेजरी के जरिए इस वर्ष जंगलों में आग की 16000 घटनाओं को कैमरे में कैद किया गया है। वैसे प्रदेश में 40 हजार के करीब आगजनी की घटनाएं रिकार्ड की जाती हैं।
प्रदेश के forest में प्रति वर्ष करीब 10 से 22 हजार hectare करीब आग लगने की घटनाएं रिकार्ड की जाती हैं। पिछले दो तीन वर्षों में corona period और लाक डाउन के चलते जंगलों में आग की घटनाएं पांच से दस हजार के करीब रिकार्ड की गई है। इसकी मुख्य वजह लोगों का घरों से कम निकलना, जंगलों में काम जाना तथा यातायात प्रभावित होना है। जंगलों में आग लगने के मामले में देवास प्रदेश में सबसे आगे हैं, जबकि दूसरे नम्बर पर खंडवा और Obaidullaganj Division है। नरसिंहपुर, सतना, सीहोर और दमोह डिवीजन तीसरे नम्बर पर हैं। इन डिवीजनों में कम से कम 15 सौ से लेकर दो हजार तक प्रति वर्ष आग की घटनाएं होती हैं। हालांकि जंगलों में आग बुझाने के संबंध में पेच और लाइनें बनाई जाने के कारण इन आगों का बड़ा स्वरूप नहीं बन पाता है।

sdl0.jpg

कान्हां टाइगर रिजर्व में सबसे ज्यादा आग
नेशनल पार्क और टाइगर रिजर्व को देखा जाए तो कान्हा टाइगर रिजर्व आगजनी के मामले में सबसे आगे है। कान्हां में चार सौ 55 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रफल में आगजनी की घटनां होती हैं7 दूसरे नम्बर पर संजय टाइगर रिजर्व है, जहां दो सौ से लेकर साढ़े चार सौ हेक्टेयर में प्रति वर्ष आग लगने की घटनाएं रिकार्ड की जाती हैं। पिछले वर्ष बांधवगढ़ में सबसे बड़ी आग लगी थी, जिस पर एक हफ्ते के अंदर काबू पाया गया था। यहां आग बुझाने में लगे कई वन सुरक्षाकर्मी और कर्मचारी भी आग की लपेट में आ गए थे। इस वर्ष अब तक आगजनी की सबसे बड़ी घटना रातापानी के जंगलों में हुई है।

अब जनवरी से जंगलों में लगने लगी आग
वैसे तो जंगलों में आग की घटनाएं मार्च से होती थीं। लेकिन पिछले दो तीन वर्षों में आग लगने के ट्रेंड को देखा जाए तो अब ये घटनाएं जनवरी से होने लगी हैं। इसकी वजह ग्लोबल वार्मिग बताया जा रहा है, क्योंकि पतझड़ की शुरूआत अब जनवरी से होने लगी है। इसके साथ ही जनवरी से धूप भी तेज होने लगी है। इससे पत्ते जल्दी सूखते हैं तो आग की घटनाएं भी पहले से होने लगी हैं।

- जंगलों में आग लगने की घटनाएं बढऩे के पीछे जंगलों के बीचों-बीच लाइन कटाई का काम बराबर नहीं हो रहा है। वन अफसर और समितियां इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। अब ग्लोबाल वार्मिग के चलते आग लगने की घटनाएं दिसम्बर-जनवरी से शुरू हो रही हैं। लोगों का जंगलों में इंटरफेयर भी बढ़ता जा रहा है, इसके परिणाम स्वरूप भी आग की घटनाएं बढ़ रही हैं।
आजाद सिंह डबास, सेवा निवृत्त आईएफएस

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.