फस्र्ट डोज लगवाने वालों की संख्या 18 लाख पार, गणपति उत्सव के दिन 4 हजार 421 को लगी वैक्सीन

- पांच दिन शेष, फस्र्ट डोज लगवाने वालों की संख्या 18 लाख पार, वैक्सीन की कमी भी रही, सेकंड डोज भी साढ़े सात लाख तक पहुंचा

भोपाल. गणपति उत्सव के पहले दिन राजधानी में फस्र्ट डोज का आंकड़ा 18 लाख 1 हजार 76 पहुंच गया है। अब पांच दिन शेष बचे हैं बाकी सवा लाख लोगों को फस्र्ट डोज लगाने में। इधर अवकाश के बाद भी करीब 4 हजार 421 लोगों को टीका लगा। जबकि जिले में वैक्सीन की कमी हो गई थी, इसके बाद भी टीकाकरण जारी रहा। मोबाइन वैन, गर्भवति महिलाएं और आंगनबाड़ी केंद्रों में कुछ जगह टीकाकरण किया गया। सेकंड डोज के मामले में ये आंकड़ा साढ़े सात लाख पहुंचने वाला है। इन पांच दिनों में जिला प्रशासन, नगर निगम के अफसर तेजी से प्रयासरत हैं। अवकाश के दौरान भी जहां-जहां संभव हो रहा है टीकाकरण किया जा रहा है। पंचायतों में बचे हुए लोगों की तलाश कराई जा रही है। स्वास्थ्य विभाग की एक टीम दो पंचायत के बीच में बैठाई गई है। बिना वैक्सीनेशन के मिलने वाले या जिनको सेकंड डोज लगना है, ऐसे लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। आगामी दो दिनों में ही करीब 30 हजार लोगों की सेकंड डोज का समय हो रहा है। हालांकि अफसर दिसंबर तक सेकंड डोज का लक्ष्य पूरा करने को लेकर प्रयासरत हैं।

गर्भवति महिलाओं को लगा रहे टीके

इधर ग्रामीण क्षेत्र में पटवारी और कोटवार जुटे तलाश मेंभोपाल. राजधानी में फस्र्ट डोज का टारगेट 92 फीसदी तक पहुंच चुका है। बुधवार लक्ष्य प्राप्ति के लिए आंगनबाड़ी परियोजनाओं में वैन संचालित कर गर्भवति महिलाओं को वैक्सीन लगाई गई है। जिले में 42 हजार गर्भवति महिलाएं हैं, जिनमें 7 हजार को पहले डोज लग चुकी है। बाकी बची हुई महिलाओं को वैक्सीन लगाने के लिए बुधवार से फिर से अभियान चलाया गया है। एडीएम संदीप केरकेट्टा ने बताया कि वैक्सीनेशन अभियान के दौरान आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने पहले महिलाओं को घरों पर जाकर तलाश फिर उन्हें केंद्र पर लाकर उनका टीकाकरण कराया। इसमें नए और पुराने शहर की महिलाएं शामिल हैं। अभी तक इन महिलाओं को फस्र्ट डोज नहीं लगा था। इधर हुजूर, कोलार और बैरसिया के ग्रामीण क्षेत्रों में फस्र्ट डोज से बचे हुए लोगों का टीकाकरण कराने के लिए उनकी तलाश कराई जा रही है। ग्राम में पटवारी, कोटवार इस काम को पूरा कर रहे हैं। वे ऐसे लोगों की तलाश करने के बाद उन्हें नजदीकी वैक्सीनेशन सेंटर पर ले जाते हैं और उनका टीकाकरण कराया जा रहा है। कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बताया कि जिले में सौ फीसदी वैक्सीनेशन के लिए लगातार पूरा अमला काम कर रहा है। 15 सितंबर तक जिले में वैक्सीनेशन का सौ फीसदी लक्ष्य पूरा करना है।

प्रवेंद्र तोमर Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned