11 साल से अधूरे यूनिहोम्स प्रोजेक्ट के संचालक तीन साल से फरार, गिरफ्तारी के लिए लोगों ने घेरा थाना

- विधायक रामेश्वर शर्मा से भी लगाई गुहार

भोपाल. कोलार इलाके स्थित बैरागढ़ चीचली में करीब 11 साल पहले यूनिहोम्स प्रोजेक्ट लांच हुआ था। यहां पर एसवीएस बिल्डकॉन के संचालकों ने सैकड़ों लोगों के साथ धोखाधड़ी करके अधूरा काम छोड़ दिया और भोपाल से भाग गए। इस मामले में धोखाधड़ी के शिकार हुए बायर्स (खरीददारों) ने कोलार थाने में 3 साल पहले शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस ने अभी तक किसी आरोपी कॉलोनाइजर संचालक को नहीं पकड़ा। इसके विरोध में शनिवार को यूनिहोम्स भोपाल वेलफेयर सोसाइटी के सदस्यों ने कोलार थाने का घेराव किया और थाना प्रभारी से मुलाकात कर जल्द से जल्द आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की। यही नहीं वेलफेयर सोसाइटी के लोग दोपहर बाद स्थानीय विधायक रामेश्वर शर्मा के कार्यालय पहुंचे और उन्होंने अपना दुखड़ा विधायक को सुनाया। इस मामले में विधायक ने तत्काल कार्रवाई करने के आश्वासन लोगों को दिए हैं।

यूनिहोम्स भोपाल वेलफेयर सोसाइटी के आलोक श्रीमाली, भूपेंद्र सिंह, एसएस यादव ने बताया कि एसवीएस बिल्डकॉन के संचालक सुमित खनेजा, अमित खनेजा और सीईओ एसके अरोरा ने 2009 में बैरागढ़ चीचली में एक आवासीय कॉलोनी और जीआईपी के नाम से एक व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स का निर्माण शुरू किया था। इस निर्माण को लेकर लोगों ने करीब 300 करोड़ रुपए संचालकों के झांसे में आकर यहां निवेश किए। इसके बाद ये तीनों कॉलोनाइजर आवासीय कॉलोनी और व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स का निर्माण अधूरा छोड़कर भोपाल से भाग गए। इसके विरोध में लोगों ने 2018 और 15 जनवरी, 2021 को कोलार थाने में शिकायत दर्ज कराई गई। तीनों आरोपी फरार हैं और उनकी गिरफ्तारी करने को लेकर 10000 रुपए का इनाम भी घोषित किया गया है। फिर भी 3 साल बाद सभी आरोपी फरार हैं। यूनिहोम्स भोपाल वेलफेयर सोसायटी के सदस्यों का कहना है कि यहां पर करीब 1032 फ्लैट और ढाई सौ से अधिक दुकानों के निवेश में लोगों से करोड़ों रुपए लिए गए, लेकिन 11 साल बाद भी उनके साथ धोखाधड़ी कर अधूरा निर्माण छोड़ा गया है। इसके विरोध में शनिवार को सभी ने कोलार थाने पहुंचकर थाना प्रभारी से इनकी गिरफ्तारी की मांग की। इसके बाद सभी सोसायटी के सदस्य विधायक रामेश्वर शर्मा की कार्यालय पहुंचे और उन्होंने अपनी बात विधायक के सामने रखी। इस मामले विधायक रामेश्वर शर्मा का कहना है कि यह तो बहुत बड़ी धोखाधड़ी है। 11 साल बीतने के बाद भी सैकड़ों लोगों के साथ धोखाधड़ी करके उनके करोड़ों रुपए फंसाए गए हैं। वे इस संबंध में जल्द ही इस मामले से जुड़े अधिकारियों से चर्चा कर आरोपियों की गिरफ्तारी सहित इन आवासीय और व्यावसायिक कॉम्प्लेक्स में निवेश करने वाले लोगों को इंसाफ दिलाने के लिए काम करेंगे। शर्मा का कहना है कि वह इस मामले में सोमवार को अधिकारियों से चर्चा कर जल्द से जल्द उचित कार्रवाई कराएंगे।

प्रवेंद्र तोमर Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned