scriptThese nutritionists are giving fitness tips by counseling patients | बीमारी से तनाव में आए मरीजों की काउंसिलिंग कर फिटनेस के टिप्स दे रहीं ये न्यूट्रीशियनिस्ट | Patrika News

बीमारी से तनाव में आए मरीजों की काउंसिलिंग कर फिटनेस के टिप्स दे रहीं ये न्यूट्रीशियनिस्ट

डॉ. दीप्ति भार्गव ने कोरोना संकटकाल में सैकड़ों लोगों को फ्री कंसल्टेशन और मेडिसिन डिस्ट्रीब्यूशन किया

भोपाल

Updated: May 23, 2022 09:44:13 pm

भोपाल। कोरोना महामारी के भयावह दौर में चिकित्सकों की बड़ी कमी देखी गई। इस आपदा के समय शहर की डॉक्टर दीप्ति भार्गव ने एक अनुकरणीय उदाहरण पेश कि‍या है। पेशे से न्यूट्रीशियनिस्ट दीप्ति ने उस संकटकाल में निशुल्‍‍‍क सेवाएं देने का निर्णय लिया है। डॉ. दीप्ति भार्गव ने कोरोना के संकटकाल में एक तरफ जहां लोगों को फ्री में स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाई। वहीं, उन्होंने लोगों को बेहतर खाने, शरीर और मन को स्वस्थ रखने की भी बारीकिया समझाई। डॉ. दीप्ति कहती हैं कि मुझे 16 वर्ष से अधिक का समय हो गया है मेडिकल फील्ड से जुड़े हुए लेकिन इससे पहले मैंने इतना बुरा दौर नहीं देखा, यह ऐसा दौर था जिसने हम सभी को झकझौर कर रख दिया। खासतौर पर वे लोग जो पहले खाने-पीने में थोड़ी लापरवाही कर दिया करते थे। मैंने ऐसे ही सैकड़ों लोगों को निःशुल्क कंसल्टेंसी देकर उन्हें स्वस्थ जीवन जीने का रास्ता दिखाया।

doctor_1.jpg

इसलिए आया फ्री कंसल्टेंसी का आइडिया

कोरोना संकटकाल का दौर जब शुरू हुआ तो किसी ने नहीं सोचा था कि यह बीमारी इतना बड़ा स्वरूप ले लेगी। मैं भी दूसरे डॉक्टर्स की तरह रोजाना अपनी प्रैक्टि्स में व्यस्त थी। लेकिन देखते ही देखते कोरोना का संकट इस तरह से लोगों पर हावी होने लगा कि लोग बुरी तरह घबरा गये। अस्पतालों में मरीजों के इलाज के लिए पर्याप्त व्यवस्था नहीं। ऑक्सीजन और बेड की कमी से लेकर हर जगह अफरा-तफरी मची हुई थी। लोग बीमारी के खतरे से ज्यादा उसके बारे में सोचकर परेशान हो रहे थे। उस समय मुझे लोगों को टेलीमेडिसिन का आईडिया आया और मैंने फ्री कंसल्टेंसी शुरू की।

काउंसलिंग और हौम्योपेथिक और दवा का वितरण

डॉ. दीप्ति ने संक्रमण से घबराये लोगों की निःशुल्क काउंसलिंग भी की और उनके दिमाग से संक्रमण का भय निकालने का कार्य किया। डॉ. दीप्ति कहती हैं कि मेरे लिए लोगों की काउंसलिंग करना इतना आसान नहीं था। लोग बहुत ज्यादा घबराए हुए थे और कई लोग तो ऐसे भी मिले जो संक्रमण के भय से आवश्यकता से अधिक काढ़ा, एंटीबायोटिक दवाओं का आदि का उपयोग कर रहे थे। एक-एक करके जब मैंने लोगों से बात की तो मुझे मालूम चला कि लोग इम्युनिटी बढ़ाने को लेकर इस तरह की दवाओं और काढ़े का अत्यधिक उपयोग कर रहे है। उसके बाद मैंने अपने सीनियर्स से डिस्कशन करके लोगों को हौम्योपेथिक दवाएं उपलब्ध कराना शुरू किया, जिससे लोगों के अंदर संक्रमण के प्रति भय कम हुआ। इसमें बड़े, बूढ़े और बच्चे सभी तरह के लोग शामिल थे। डॉ. दीप्ति ने जहां अपने प्रोफेशन को ध्यान में रखते हुए लोगों की निस्वार्थ भाव से सेवा की वहीं, उन्होंने जरूरतमंद बच्चों और लोगों को भोजन उपलब्ध कराने का भी कार्य किया। डॉ. दीप्ति कहती हैं कि मानवता मेरा पहला कर्तव्य है। लोगों का इलाज करने के अलावा लोगों की मदद करने की प्रेरणा मुझे अपने सीनियर्स और पैरेंट्स से मिली।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.