scriptThis time when the rates of land increase, so much burden will fall on | इस बार जमीनों के रेट बढ़े तो आम आदमी की जेब पर पड़ेगा इतना भार | Patrika News

इस बार जमीनों के रेट बढ़े तो आम आदमी की जेब पर पड़ेगा इतना भार

- नगर निगम एप्रूव्ड कॉलोनी में बढ़ा रहे ज्यादा रेट, विकसित बताकर की जा रही बढ़ोत्तरी

- कलेक्टर गाइडलाइन का प्रस्ताव तैयार, लगभग सभी लोकेशनों पर पड़ेगा असर, आधार बनाने तीन बार रजिस्ट्री की गईं सर्च, फाइनल प्रस्ताव जल्द जाएगा जिला मूल्यांकन समिति के पास

भोपाल

Published: February 18, 2022 11:26:58 pm

भोपाल. कलेक्टर गाइडलाइन के वर्ष 2022-23 का प्रस्ताव तैयार हो चुका है। लगभग हर क्षेत्र में बढ़त की जा रही है। रेरा, बीडीए, नगर निगम, हाउसिंग बोर्ड की एप्रूव्ड कॉलोनी में इस बार 10 से 15 फीसदी तक की बढ़त प्रस्तावित है। विकसित कॉलोनियों की आड़ में की जा रही बढ़त से शहर की प्राइम लोकेशनों की कॉलोनी में जमीनों की दरें बढऩे से रजिस्ट्री में पांच से सत्ताई हजार तक की बढ़त होगी। पंजीयन अफसरों ने बताया कि पहली दफा अधिक दरों पर हुईं रजिस्ट्री के दस्तावेजों को तीन बार क्रॉस चेक किया गया। इसके बाद ये बढ़ोत्तरी प्रस्तावित की गई। जल्द ही जिला मूल्यांकन समिति को ये प्रस्ताव भेजा जाएगा।

इस बार जमीनों के रेट बढ़े तो आम आदमी की जेब पर पड़ेगा इतना भार
- नगर निगम एप्रूव्ड कॉलोनी में बढ़ा रहे ज्यादा रेट, विकसित बताकर की जा रही बढ़ोत्तरी

ऐसे बनाते हैं रेट बढ़ाने का आधार
आपको बतादें कि शहर में ही ऐसी सैंकड़ों अवैध कॉलोनी हैं जिनमें लोगों के पास अपने विद्युत कनेक्शन नहीं हैं, सीवर लाइन, सड़क तक के लिए व्यवस्था नहीं है। लेकिन कलेक्टर गाइडलाइन में उनके रेट खोले हुए हैं। रजिस्ट्री उसी रेट से हो रही है। जैसे ही ये कॉलोनी रेरा एप्रूव्ड, नगर निगम की अनुमतियां लेती हैं तो इनमें लोन के चलते अधिक दरों पर रजिस्ट्री होने लगती है, इसी को विकसित बताकर रेट बढ़ाना प्रस्तावित कर देते हैं।

माफिया अभियान के बाद हुईं वैध

नगर निगम और पंचायतों में करीब 130 कॉलोनियो के प्रकरण बनाकर अलग-अलग राजस्व कोर्ट में प्रस्तुत किए गए। इसमें से करीब 75 में वसूली हो चुकी है। 25 के लगभग में बिल्डरों की तरफ से भरोसा दिलाया है कि वे डायवर्सन शुल्क व अन्य शुल्क जमा करेंगे। कलेक्टर गाइडलाइन में इनको भी विकसित बताकर रेट बढ़ाए जा रहे हैं। इसमें 5 से 10 फीसदी की बढ़त बताई जा रही है। जो बिल्डर डायवर्शन शुल्क जमा नहीं कर पा रहे उनके खिलाफ एफआईआर कराना शुरू करा दिया है।

यहां की जा रही 5 से 10 फीसदी की बढ़ोत्तरी
- होशंगाबाद रोड की कॉलोनी

- कोलार रोड की कॉलोनी
- अयोध्या बायपास की कॉलोनी

- चौपड़ा कला
- सेवनिया ओमकारा

- इमलिया
- कान्हासैया

- बरखेड़ानाथू
- मुबारकपुर

- सिकंदराबाद
- मुगालिया छाप

- नीलबढ़
- बैरसिया

- सूखी सेवनिया

बाजार का प्रस्ताव भी किया शामिल
शहर के प्रमुख बाजारों न्यू मार्केट, हमीदिया रोड, 10 नंबर, 6 नंबर, होशंगाबाद रोड, बागसेवनिया, पीर गेट, शहजहांनाबाद, पुराने व नए शहर के बाजारों में आवासीय और व्यावसायिक का अंतर खत्म करने का प्रस्ताव भी इस बार गाइडलाइन में शामिल किया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

DGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्डIPL 2022 के समापन समारोह में Ranveer Singh और AR Rahman बिखेरेंगे जलवा, जानिए क्या कुछ खास होगाबिहार की सीमा जैसा ही कश्मीर के परवेज का हाल, रोज एक पैर पर कूदते हुए 2 किमी चलकर पहुंचता है स्कूलकर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहाOla, Uber, Zomato, Swiggy में काम करके की पढ़ाई, अब आईटी कंपनी में बना सॉफ्टवेयर इंजीनियरपंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.