केरवा के जंगलों में प्रवेश पर लगे रोक

कई लोग अपनी जान की परवाह किए बिना जंगल के अंदर घुस रहे हैं

By: Pradeep Kumar Sharma

Updated: 17 Nov 2020, 12:40 AM IST

भोपाल. शहर के करीब केरवा के जंगलों में लगातार बाघ भ्रमण करने की खबरें आ रही हैं। इसके बावजूद कई लोग अपनी जान की परवाह किए बिना जंगल के अंदर घुस रहे हैं। ऐसे में कभी भी बाघ से भिड़ंत की स्थिति बन सकती है, जिससे जान-माल का खतरा हो सकता है। गौतम नगर निवासी गौरव मिश्रा कहते हैं कि वन विभाग का अमला भी यहां लोगों को पिकनिक मनाने और प्रवेश करने से नहीं रोक रहा है। प्रशासन ने भी सिर्फ बोर्ड लगाए हैं, अन्य जरूरी इंतजाम नहीं किए हैं। इससे शिकारी भी आसानी से जंगलों में घुस जाते हैं। इससे बाघ को भी खतरा हो सकता है। प्रशासन को चाहिए कि बाघ संरक्षण के साथ जानमाल की सुरक्षा के लिए समुचित इंतजाम करे।

उनका कहना है कि लोग सैर सपाटे के लिए जंगलों का रूख करते हैं, जो उनकी जिंदगी के लिए ठीक नहीं है, वहीं बाघों के लिए भी ठीक नहीं माना जाएगा। ऐसे में बाघों की सुरक्षा के लिए किए जा रहे उपायों का क्या मतलब रह जाता है? यदि हमें बाघों का संरक्षण करना है, तो हमें उनके क्षेत्र में दखल करनी होगी, जिसकी जिम्मेदारी सरकार के साथ हम नागरिकों की भी है।

Pradeep Kumar Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned