scriptToday children do not feel like going from this Anganwadi | कभी फर्श में चूहों के बिल के डर से इस आंगनबाड़ी में आने से तक डरते थे बच्चे, पर अब... | Patrika News

कभी फर्श में चूहों के बिल के डर से इस आंगनबाड़ी में आने से तक डरते थे बच्चे, पर अब...

आज इसी आंगनबाड़ी से जाने का बच्चों का मन नहीं होता

भोपाल

Published: May 09, 2022 09:30:20 am

भोपाल। आंगनबाडियों में अनियमित्ताओं की शिकायतें तो पूरे साल ही आती रहती हैं, ऐसे में सरकार पर लगातार आंगनबाड़ी में सुधार का दबाव भी बना ही रहता है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसी आंगनबाड़ी के बारे में बता रहे हैं, जहां कभी फर्श में चूहों ने बिल बना लिए थे, लेकिन आज उसी आंगनबाड़ी की ऐसी स्थिति है कि यहां आने वाला बच्चे का जाने का मन ही नहीं करता।

bhopal_-_aaganwadi.jpg

दरअसल भोपाल में कुछ समय पहले तक ऐशबाग में एक ऐसी आंगनबाड़ी भी थ जहां बड़े-बड़े चूहों के डर से बच्चे तक इस आंगनबाड़ी में आने से डरते थे। वहीं कोरोना काल में कुछ समय बंद रहने से इसकी हालत और खराब हो गई। कोई और विकल्प न होने से महिला बाल विकास विभाग के सामने समस्या खड़ी हो गई कि आंगनबाड़ी कहां संचालित करें।

इसके बाद एडॉप्ट एन आंगनबाड़ी ऑप्शन में गोविंदपुरा परियोजना के अंतर्गत ऐशबाग की इस आंगनबाड़ी की काया कल्प किया गया। सीनियर सिटीजन सोशल वेलफेयर सोसायटी की तरफ से कराए गए कार्यों में यहां का फर्श उखड़वाकर फिर से सही कराया। एसडीएम गोविंदपुरा मनोज वर्मा ने बताया कि इससे यहां चूहों की समस्या खत्म हो गई। जो बच्चे यहां आने से डरते थे वे अब घर से ज्यादा समय इस आंगनबाड़ी में बिता रहे हैं। उनका ओवर ऑल डवलपमेंट भी हो रहा है।

बच्चों के लिए और कई प्रकार की भी सुविधाएं
इस केंद्र में बाल सुलभ पेंटिंग, व्हाइट बोर्ड, पानी की टंकी, 50 बाउल, खिलौने, शूरैक, राशन रखने के लिए रैक, बच्चो की लिए 50 कुर्सी भी दी गई हैं। एडॉप्ट एन आंगनबाड़ी के कॉन्सेप्ट पर परियोजना अधिकारी अखिलेश चतुर्वेदी बताया गया कि कुछ और केंद्रों के लिए इसी प्रकार लोगों से बात की जा रही है।

आंगनबाड़ियों की कुछ समय पहले तक ये थी स्थिति
अभी कुछ समय पहले तक भोपाल की गोविंदपुरा परियोजना हर पैरामीटर पर फिसड्डी आती थीं। वहीं आंगनबाड़ी केंद्रों के मामले में मंत्रियों और बड़े नेताओं के जिले अधिक पिछड़े हैं। इसमें इंदौर, विदिशा और शाजापुर जिला भी 'सी' ग्रेड में रहे। वहीं प्रदेश सरकार के दमोह, मुरैना, ग्वालियर, रीवा,छतरपुर और देवास जिले की आंगनबाडिय़ों की स्थिति भी खराब मानी जाती रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar News: तेज प्रताप भी बन सकते हैं मंत्री, बिहार में 16 अगस्त को मंत्रिमंडल विस्तारBilkis Bano Gang Rape: आजीवन कारावास की सजा काट रहे सभी 11 दोषी रिहा, राज्य सरकार की माफी योजना के तहत जेल से आए बाहरIndependence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातKarnataka News: शिवमोग्गा में सावरकर के पोस्टर को लेकर बढ़ा विवाद, धारा 144 लागूसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.