'मानसून' ने लिया यू-टर्न, पहुंच गया यूपी और पंजाब, MP के कई जिलों में अभी भी इंतजार

दक्षिणी-पश्चिमी मानसून मध्यप्रदेश की सीमा में आने के बाद मुड़ गया है....

By: Ashtha Awasthi

Updated: 17 Jun 2021, 04:27 PM IST

भोपाल। तेजी से आगे बढ़ रहा दक्षिणी-पश्चिमी मानसून मध्यप्रदेश की सीमा में आने के बाद मुड़ गया है। 13 जून को आगे बढ़ी मानसून लाइन आधे प्रदेश से इस तरह मुड़ी कि इससे मानसून की आमद उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों सहित पंजाब-हिमाचल प्रदेश तक हो गई है, लेकिन इतने आगे बढ़ने के बावजूद मप्र के एक हिस्से तक मानसून नहीं पहुंचा।

मौसम विभाग के अनुसार, प्रदेश में मानसून का आगमन अरब सागर की ब्रांच से हुआ था। 13 जून को जो लाइन आगे बढ़ी, वह पूर्वी हिस्सों में गई। यह बदलाव बंगाल की खाड़ी की शाखा के सक्रिय होने का संकेत था।

MUST READ: शुरु हो गई है प्री मानसून बारिश, आने वालों कुछ घंटों में हो सकती है तेज बारिश

rain.png

एक्सपर्ट कमेंट: कई बार ऐसा होता है

मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का ताकतवर क्षेत्र बनने से जहां बंगाल की खाड़ी शाखा मजबूत हुई है, वहीं मानसून की अरब सागर शाखा कमजोर दिख रही है। हर बार मानसून दोनों शाखाओं से आगे बढ़ता है। वर्तमान में अरब सागर में जो सिस्टम बन रहे हैं, वे मुंबई के पास हैं, जिससे प्रदेश में मानसून को आगे बढ़ने में इतनी मदद नहीं मिल रही है। हालांकि यह ज्यादा चिंता की बात नहीं है, ऐसा कई बार हो जाता है।

कुछ ऐसे हुआ यू टर्न .....

10 जून को मानसून प्रवेश हुआ। 11 जून को यह आगे बढ़कर सीहोर, रायसेन, सागर, दमोह, उमरिया, अनूपपुर, जबलपुर, नरसिंहपुर, हरदा, होशंगाबाद, खंडवा, बुरहानपुर पहुंचा।

13 जून को मानसून ने भोपाल, विदिशा, छतरपुर, पन्ना, सतना, रीवा, को कवर किया सीधी सिंगरौली व शहडोल को कवर किया लेकिन इंदौर, उज्जैन और रतलाम में आमद नहीं हुई।

Weather forecast
Ashtha Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned