scripttotal electronic machine can do only two demarcations in a day | Survey for Demarcation- ग्वालियर से डेढ़ साल बाद भोपाल को मिली रोबर मशीन, वो भी कर दी गईं डिब्बे में बंद | Patrika News

Survey for Demarcation- ग्वालियर से डेढ़ साल बाद भोपाल को मिली रोबर मशीन, वो भी कर दी गईं डिब्बे में बंद

- रोजाना 100 से अधिक सीमांकन, जबकि टोटल इलेक्ट्रॉनिक मशीन एक दिन में कर पाती है मात्र दो सीमांकन

- रोबर मशीन से सीमांकन के लिए सर्वे की जरूरत नहीं, सीधे सैटेलाइट से कनेक्ट होती हैं ये

भोपाल

Published: May 29, 2022 10:59:24 am

भोपाल । Bhopal

सरकार ने सीमांकन व्यवस्था में तेजी लाने के लिए नई हाईटेक रोबर मशीनों से सीमांकन करने के लिए जिलों को रोबर मशीनें दी हैं। वहीं डेढ़ साल इंतजार के बाद ग्वालियर मुख्यालय से ये मशीन भोपाल को मिली है।

simankan.jpg

क्या आप जानते हैं कि राजधानी में प्रतिदिन सौ के लगभग सीमांकन जिले भर के आरआई, पटवारियों तकनीकी एक्सपर्ट की मदद से कर रहे हैं, इसके बाद भी इनकी पेंडेंसी खत्म होने का नाम नहीं ले रही। रोजाना के 80 से 100 नए आवेदन अलग आ जाते हैं।

ऐसे में अब इसके एक्सपर्ट आएंगे और वे आरआई, पटवारियों को ट्रेनिंग देंगे। तब कहीं जाकर रोबर के माध्यम से सीमांकन की प्रक्रिया जिले में शुरू हो सकती है। लेकिन इसमें कितना समय लगेगा ये कहना अभी मुश्किल है। तब तक टोटल इलेक्ट्रॉनिक मशीन के भरोसे ही सीमांकन चलेगा।

यहां किया जाता है स्थापित
वर्तमान में जिस टोटल इलेक्ट्रॉनिक मशीन से जमीनों का सीमांकन किया जा रहा है। उस सीमांकन वाले स्थान पर स्थापित किया जाता है। इसके बाद उस स्थान से दस गुना ज्यादा बड़े क्षेत्र में चांदे, मुनारें, मेंढ़ा तक का सर्वे किया जाता है। इसके बाद सीमांकन होता है।

काफी समय लेती हैं ये मशीनें
इस मशीन को सेट करने और सर्वे में ही काफी समय लग जाता है। आना जाने में समय लगता है अलग। ऐसे में इस मशीन से एक दिन में दो से अधिक सीमांकन नहीं हो पाते। कई छोटे सीमांकन तो इसी कारण कई दिनों तक लंबित भी रहते हैं। आरआई पटवारी इसमें तकनीशियनों की मदद भी लेते हैं, क्योंकि कई आज भी इस मशीन को चला नहीं पाते।

ये आएंगी चुनौती
आरआई, पटवारियों में काफी कुछ ट्रेंड हो चुके हैं, लेकिन अभी भी कुछ ऐसे हैं जो टोटल इलेक्ट्रॉनिक मशीन को ही नहीं चला पाते हैं। ऐसे में नई रोबर मशीन से ट्रेनिंग लेना उनके लिए चुनौती भरा रहेगा।

रोबर मशीनों की विशेषता
इस मशीन में सर्वे की जरूरत नहीं होती है। ये सीधे सैटेलाइट से कनेक्ट होती है। जिले में कहीं भी इसके लिए ऊंची इमारत पर एक बेस स्टेशन बनाया जाता है। जिसमें सरकार खुद राजस्व नक्शों का डाटा अपलोड करती है। इस बेस स्टेशन से 200 से 250 किमी क्षेत्र में मशीन काम करती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

SpiceJet की एक और फ्लाइट में खराबी, मुंबई में प्लेन की इमरजेंसी लैंडिंग, 17 दिन में तकनीकी खराबी की 7वीं घटनायूपी में प्रशासनिक फेरबदल, 4 IAS और 3 PCS किए गए इधर से उधरउत्तर प्रदेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा बीएड परीक्षा-2022: जाने परीक्षा केंद्र के लिए बनाए गए नियमGujarat: एमई, एमफार्म में प्रवेश के लिए आज से शुरू होगा रजिस्ट्रेशनएंकर रोहित रंजन को रायपुर पुलिस नहीं कर पाई गिरफ्तार, अपने ही दो कर्मचारी के खिलाफ जी न्यूज़ ने दर्ज कराई FIRMausam Vibhag alert : मौसम विभाग का यूपी के कई जिलों में 9-12 जुलाई तक भारी बारिश का अलर्टबाप बोला, मेरे बेटे ने दोस्त के साथ मिलकर कर दी अपनी मां की हत्याGanpati Special Train: सेंट्रल रेलवे ने किया बड़ा एलान, मुंबई से चलेगी 74 गणपति महोत्सव स्पेशल ट्रेन, देखें पूरा शेड्यूल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.