कांग्रेस नेताओं के सामने घुटनों पर बैठे एसडीएम व डीएसपी का ट्रांसफर

धरने पर बैठे नेताओं को मनाने पहुंचे थे दोनों अफसर

By: Hitendra Sharma

Published: 14 Jun 2020, 09:14 AM IST

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के जन्मदिन पर भीड़ जुटाने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। शनिवार को सरकार ने प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस नेताओं को मनाने पहुंचे एसडीएम राकेश शर्मा और सराफा सीएसपी डीके तिवारी का देर रात भोपाल तबादला कर दिया। वहीं भीड़ जुटाने के मामले में भाजपा नेता सुदर्शन गुप्ता पर केस दर्ज किया गया। दरअसल नेताओं के आगे घुटने के बल बैठ गए। उनके साथ सराफा सीएसपी तिवारी भी थे।

कलेक्टर ने एसडीएम के इस कार्य को पद की गरिमा के विरुद्ध मानते हुए नोटिस जारी किया है। नोटिस में लिखा है कि एसडीएम ने बिना अनुमति धरना दे रहे नेताओं के सामने जिस स्वरूप में चर्चा की है, उससे प्रशासन की छवि धूमिल हुई है। एसडीएम का कहना है कि स्लिप -डिस्क की समस्या के चलते उन्हें जमीन पर बैठने में परेशानी होती है।

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के जन्म दिवस के मौके पर राशन बांटने के दौरान हुई झूमा-झटकी और सोशल डिस्टेंसिंग के खुले उल्लंघन (violation of social distance) के मामले ने शनिवार को तूल पकड़ लिया है। भाजपा नेता और पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता (bjp sudarshan gupta) की गिरफ्तारी और धाराएं बढ़ाए जाने की मांग को लेकर कांग्रेस नेताओं ने शनिवार को राजबाड़ा पर धरना दिया। धरने में कांग्रेस विधायक एवं पूर्व मंत्री जीतू पटवारी भी मौजूद थे। कांग्रेस नेताओं को एसडीएम ने हाथ जोड़कर मनाया था।

कांग्रेस नेता चाहते थे कि लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने वाले पूर्व भाजपा विधायक सुदर्शन गुप्ता के खिलाफ गंभीर धाराओं में प्रकरण दर्ज हो। लेकिन, पुलिस ने धारा 188 के तहत अज्ञात आयोजक के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया था। इससे खफा कांग्रेस नेता काफी देर तक नारेबाजी करते रहे। पुलिस प्रशासन उन्हें समझाने की काफी देर तक कोशिश करता रहा। अंततः प्रशासन ने गंभीर धाराओं में प्रकरण दर्ज करने का आश्वासन दिया, इसी के बाद धरना खत्म हो सका।

05_6189801-m.png


राशन वितरण के दौरान छीना-झपटी...
केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के जन्म दिवस के मौके पर राशन बांटने के दौरान हुई झूमा-झटकी और सोशल डिस्टेंसिंग के खुले उल्लंघन (violation of social distance) के मामले ने तूल पकड़ लिया है। भाजपा नेता और पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता (bjp sudarshan gupta) की गिरफ्तारी और धाराएं बढ़ाए जाने की मांग को लेकर कांग्रेस नेताओं ने शनिवार को राजबाड़ा पर धरना दिया। धरने में कांग्रेस विधायक एवं पूर्व मंत्री जीतू पटवारी भी मौजूद थे। कांग्रेस नेताओं को एसडीएम ने हाथ जोड़कर मनाया।

गुप्ता बोले- नियमों का पालन हुआ
शुक्रवार को राशन बांटने का कार्यक्रम करने वाले आयोजक भाजपा नेता सुदर्शन गुप्ता ने दावा किया था कि कार्यकर्ताओं की पूरी टीम इसमें जुटी थी। सभी लोग गोल घेरे में खड़े थे। गुप्ता ने धक्का-मुक्की की इस घटना पर खेद जताते हुए कहा कि मैंने सोशल डिस्टेंसिंग की पूरी गाइडलाइन के साथ आयोजन किया था। सब कुछ उसी के मुताबिक ही चल रहा था। मेरे जाने के बाद मामला कैसे बिगड़ा, इससे मैं खुद ही हैरान हूं। हो सकता है कि किसी ने जानबूझकर इस तरह से हंगामा करवाया हो।

06_6189801-m.png

ऐसे मना था केंद्रीय मंत्री का जन्म दिन
केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का जन्म दिन (narendra singh tomar birthday indore) शुक्रवार को सेवा संकल्प के रूप में मनाया गया था। इस दौरान राशन वितरण कार्यक्रम में 2 हजार से अधिक लोग शामिल हुए। कंटेनमेंट क्षेत्र के कमला नेहरू कॉलोनी मैदान में पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता ने सुबह आयोजन किया था। राशन लेने आई महिलाओं का सब्र काफी देर भाषणबाजी से टूट गया। वे खुद राशन लेने टूट पड़ी। इस दौरान गुप्ता और समर्थक गायब हो गए।


एक दिन पहले संजय शुक्ला ने दी थी चेतावनी
इसके बाद कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने आयोजक सुदर्शन गुप्ता के कार्यक्रम को लेकर शुक्रवार को ही प्रशासन को चेतावनी दे डाली थी। शुक्ला ने कहा था कि लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर गुप्ता के खिलाफ केस दर्ज किया जाए। लेकिन, पुलिस ने धारा 188 के तहत अज्ञात आयोजक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। इधर, थाना प्रभारी संजय शर्मा के मुताबिक राशन वितरण को लेकर अनुमति नहीं ली गई थी, इसलिए धारा 144 का उल्लंघन दर्ज किया गया और धारा 188 का मामला दर्ज किया गया था।

तीन धाराओं में प्रकरण की रखी मांग
राशन वितरण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने पर एक नंबर विधानसभा के पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता के खिलाफ कार्रवाई न होने को लेकर वर्तमान विधायक संजय शुक्ला राजबाड़ा पर धरने के दौरान धारा 269, 270 और 271 के तहत प्रकरण दर्ज करने की मांग रखी। विधायक शुक्ला का कहना है कि जब तक गुप्ता के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं होगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। राज्य सरकार के दबाव में जिला प्रशासन के अफसर पक्षपात रखते हुए कार्रवाई कर रहे है। हालांकि प्रशासन के आश्वासन के बाद धरना खत्म हो सका। धरने में पूर्व मंत्री एवं राऊ से विधायक जीतू पटवारी, विशाल पटेल और शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल मौजूद थे।

BJP Congress coronavirus
Show More
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned