यूनानी दवाओं से भी होगा कोरोना मरीजों का इलाज, हफ्तेभर में शुरू होगा कोविड केयर सेंटर

जिला प्रशासन की टीम के निरीक्षण के बाद अस्पताल को मिली अनुमति

By: govind agnihotri

Updated: 21 May 2020, 01:51 AM IST

भोपाल. वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने में ऐलोपैथी से ज्यादा आयुर्वेेदिक दवाएं असरदार साबित हो रही हैं। यूनानी पद्धति से भी कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का उपचार किया जाएगा। जिला प्रशासन और विभाग की अनुमति के बाद एक सप्ताह में शासकीय यूनानी कॉलेज में कोरोना के मरीजों का इलाज शुरू कर दिया जाएगा। कॉलेज के स्टाफ को इलाज के लिए दी गई जरूरी ट्रेनिंग के बाद कोविड-19 सेंटर की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। जानकारी के मुताबिक कॉलेज में अतिमंद लक्षणों वाले 50 मरीजों को भर्ती किया जा सकेगा। मालूम हो कि हाल ही में होम्योपैथी से कोरोना मरीजों का इलाज शुरू हो गया है।

सामान्य दवा के साथ यूनानी दवाएं भी
कॉलेज से मिली जानकारी के मुताबिक कोरोना से संक्रमित मरीजों के ट्रीटमेंट के लिए यूनानी कॉलेज में सामान्य दवा के साथ ही यूनानी दवाओं का उपयोग किया जाएगा। कॉलेज की प्राचार्य के मुताबिक यूनानी दवाओं से मरीजों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने से उसे कोरोना के संक्रमण से बचाया जा सकता है। आयुष मंत्रालय की ओर से खमीरा मरवारीद, खीना उन्नबावाला, शब्रते जूफा मुरक्कब, शर्बते उन्नाब, कैरूती, बनाफाशा और पष्पागौंदंती जैसी दवाइयों का चयन किया गया है।

होम्योपैथी कॉलेज हुआ फुल
इधर, होम्योपैथी कॉलेज में तैयार किया गया कोविड सेंटर पूरी तरह से फुल हो गया है। यहां 50 मरीजों को भर्ती करने की क्षमता है, जिसमें से 46 मरीज भर्ती किए जा चुके हैं। चार पलंग गंभीर मरीजों के लिए आईसीयू में रखे गए हैं। होम्योपैथी कॉलेज की अधीक्षक डॉ. सुनीता तोमर के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में हो रहे बदलाव का विश्लेषण किया जाएगा।

Corona Virus treatment
govind agnihotri Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned