बरसात में विषैले कचरे की जगह भर गया पानी, लोगों ने शुरू कर दी खेती

- यूनियन कार्बाइड के पीछे बने हालात

- औपचारिकता निभाने के लिए कार्रवाई

 

By: शकील खान

Published: 25 Sep 2021, 10:25 PM IST

भोपाल. भोपाल गैस त्रासदी की जनक यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री के पीछे विषैले कचरे के जहां ढेर लगे थे वहां बरसात का पानी जमा हो गया। इसमें लोगों ने यहां सिघाड़ों की खेती शुरू कर दी। इस फसल के जरिए हानिकारक तत्व लोगों तक पहुंच स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहे हैं। मामले में शिकायत के बाद कार्रवाई तो हुई लेकिन यह नाममात्र रही।

यूका के पीछे यह हालात नजर आए। यहां शुक्रवार को प्रशासन के निर्देश पर नगर निगम ने कार्रवाई की है। यूका के जहरीले कचरे के कारण यहां का पानी दूषित है। खेती के कारण स्वास्थ्य को गंभीर खतरा की आशंका के चलते गैस पीडि़त संगठनों के जरिए प्रशासन को शिकायत की गई थी

जिसके बाद यहां से फसल को नष्ट किया गया। संगठन प्रतिनिधियों के मुताबिक यहां पर उगे सिंघाड़ों में दूषित तत्व हा सकते हैं। जो इन सिंघाड़ों के साथ आम लोगों तक पहुंच उनके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। गैस पीडि़त संगठन प्रतिनिधि रचना ढींगरा ने बताया कि यह करीब तीन एकड़ का क्षेत्र है। यहां पर यह फसल उगाई जा रही थी।

यहां अनदेखी के कारण सामान में खराबी

अनदेखी के कारण शहर के तालाबों के आसपास कई सेंटर भी खराब होने लगे हैं। वाटर स्पोट्र्स को बढ़ावा देने के लिए बीते तीन साल में नावों से लेकर दूसरे सामान की खरीदी तो हो गई लेकिन देखरेख में कमी हुई। ऐसे में यह खराब हो रहा है। यह स्थिति तालाब के आसपास कुछ सेंटर पर देखने को मिली। जिम्मेदार इसके पीछे कोरोना को कारण बता रहे हैं। शहर में आधा दर्जन स्थानों पर वाटर स्पोट्र्स के लिए सेंटर बने हैं। शाहर और इसके आसपास तालाब और डैम हैं।


प्रतिभाओं को निखारने के लिए योजना

वाटर स्पोट्र्स के शहर में इंटरनेशनल स्तर पर आयोजन हो चुके हैं। इससे प्रोरित होकर प्रतिभाओं को निखारने तालाब और बांध के किनारे केन्द्र बनाने पर जोर दिया गया। देखरेख न होने से बर्बादी हो रही है।

शकील खान
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned