राजधानी में रसूखदारों ने मनमर्जी से कर लिया भूमि का उपयोग.. देखें पूरा घोटाला!

औद्योगिक क्षेत्र में खुल गए बड़े-बड़े शो-रूम, रहवासी अरेरा कॉलोनी में भी तन गई होटल

By: दीपेश तिवारी

Published: 25 Apr 2018, 06:01 PM IST

भोपाल। औद्योगिक क्षेत्र,आवासीय भूखंडों पर बडे़ शो-रूम, होटल व इसी तरह के व्यावसायिक उपयोग के निर्माण पर दिया गया खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया का बयान राजधानी में पूरी तरह सटीक बैठता है। औद्योगिक क्षेत्र व आवासीय सोसायटीज में नियम के विपरीत भूखंड जोड़कर बड़े-बड़े शो-रूम बना लिए गए। कॉलोनी में अस्पताल के लिए छोड़ी जमीन पर होटल बना दी गई। शहर के मुख्य बाजार में आठ फीट चौड़े नाले की दीवारों पर तीन मंजिला होटल तान दिया। गौरतलब है कि यशोधरा ने कैबिनेट बैठक में कहा था कि उद्योगों के लिए दी जमीन पर शो-रूम खोल दिए गए।

दो आवासीय प्लॉट जोड़ बना लिया कॉम्प्लेक्स :

चूनाभट्टी में नहर तिराहा से कोलार तिराहा के बीच आवासीय सोसायटी के प्लॉट्स पर अनुमति लेकर चार ऐसे बड़े कॉम्प्लेक्स बनाकर इनमें कार शो-रूम, डेंटल क्लिनिक खोल लिए गए। यहां पर पहाड़ी काटकर भी एक बड़ा शो-रूम खोलने की कवायद चल रही है।

ये तो महज 3 उदाहरण
स्थिति
गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में चार बड़ी कार निर्माता कंपनियों के शो-रूम खुले हुए हैं। सभी बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियों के शो-रूम यहां मिल जाएंगे। औद्यौगिक क्षेत्र में शो-रूम को अनुमति कैसे मिल गई? यहां के उद्योगपतियों को भी ये सवाल हैरान किए हुए हैं।

स्थिति
हबीबगंज रेलवे स्टेशन के सामने अरेरा कॉलोनी ई-४ में अस्पताल निर्माण के लिए छोड़े गए हिस्से पर शहर के एक पूर्व विधायक की होटल खुल गई। इसे अभी एक साल ही हुआ है। शुरुआत में अस्पताल ही था, जिसे बंद कर दिया।

स्थिति
न्यू मार्केट में रंगमहल टॉकीज के सामने नाले के ऊपर ही होटल मिडटाउन बना दिया गया है। इसमें क्षेत्रीय रसूखदार की भागीदारी होने से कोई कार्रवाई नहीं हो रही। बारिश में इस होटल की वजह से पानी रंगमहल और सामने से गुजरने वाली रोड के सामने जमा रहता है।

शिकायत पर सिर्फ नोटिस जारी किए
आरटीआई एक्टिविस्ट मनोज त्रिपाठी ने पूरे सबूतों के साथ चूनाभट्टी से लेकर अरेरा कॉलोनी में आवासीय प्लॉट्स जोड़कर किए गए करीब 10 निर्माणों की शिकायत की। भोपाल की चौपाल से लेकर निगमायुक्त और नगरीय प्रशासन विभाग तक शिकायत की, लेकिन नगर निगम अधिनियम 1956 की धारा 302 और 307 के तहत नोटिस जारी कर जिम्मेदारी पूरी कर ली गई।

कार्रवाई शुरू करेंगे
उद्योग विभाग की जमीन का आवंटन और उस पर निर्माण की स्थिति पर हम कुछ नहीं कह सकते। हां, शहर में जरूर कई जगहों पर अनुमति के विपरीत निर्माण करने की शिकायतें हैं। हमने नोटिस भी दिए, बड़ी कार्रवाई भी शुरू करेंगे।
-सुभाषिश बैनर्जी, चीफ सिटी प्लानर

गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र है, यहां पर सिर्फ उद्योगों को ही अनुमति होना चाहिए। ऑटोमोबाइल शो रूम को अनुमति का कोई मतलब नहीं है। इसकी जांच होना चाहिए।
-तारीक अली,संचालक, ए-वन ब्रेड फैक्टरी

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned