scriptvan mela bhopal | वन मेले में सबसे ज्यादा वैरायटी गुड़ की, 12 से ज्यादा फ्लेवर | Patrika News

वन मेले में सबसे ज्यादा वैरायटी गुड़ की, 12 से ज्यादा फ्लेवर

- केमिकल फ्री गुड़ की कैन्डी बनाकर बेच रहे किसान

- मेवेयुक्त गुड़ से लेकर मसाले वाला गुड़ बेच रही समितियां

 

भोपाल

Published: December 23, 2021 10:53:38 pm


- केमिकल फ्री गुड़ की कैन्डी बनाकर बेच रहे किसान

- मेवेयुक्त गुड़ से लेकर मसाले वाला गुड़ बेच रही समितियां

भोपाल. जिस गुड़ को आप पूरी तरह प्राकृतिक समझकर खाते हैं उसमें भी कई तरह के रसायन मिले होते हैं, यह बात आपको तब पता चलती है जब आप वन मेले में स्टॉल लगाए किसानों से बात करते हैं। प्रदेश के अलग-अलग जिलों से आए किसान एवं प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियां न केवल पूरी तरह प्राकृतिक बल्कि कई फ्लेवर के गुड़ उपलब्ध करा रहे हैं।
वन मेले में सबसे ज्यादा वैरायटी गुड़ की, 12 से ज्यादा फ्लेवर
वन मेले में सबसे ज्यादा वैरायटी गुड़ की, 12 से ज्यादा फ्लेवर
पहले बनाते थे गुड़, अब एक दर्जन से ज्यादा फ्लेवर

गाडऱवाड़ा के किसान योगेश कौरव ने पांच साल पहले आर्गेनिक गुड़ और इससे फ्लेवर्ड कैंडी बनाने का बिजनेस शुरू किया। कौरव बताते हैं, लखनऊ के वन अनुसंधान केन्द्र से एमओयू करके गुड़ के फ्लेवर डवलप करने लगे। हम इसमें कोई एसेंस नहीं मिलाते बल्कि असली सौंफ, लौंग, अलसी आदि से फ्लेवर बनाते हैं।
समितियां लाई मेवे और मसाले वाले गुड़

किसान की फ्लेवर वाली कैंडी के अतिरिक्त दतिया की प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति मेव युक्त देशी गुड़ लागई है। समिति का दावा है कि इस गुड् में काजू, पिस्ता, छुआरा, तिल्ली, मूंगफली, सौंठ, चिरौंजी, गरी, खनखन, काजू मिली हुई। इसके अतिरिक्त एक समिति मसाला गुड़ तैयार करके लाई है।
बॉक्स-

लकड़ी को थामकर नियंत्रण में लाएं ब्लड प्रेशर

उमरिया की समिति दहीमन की लकड़ी लाई है, सदस्यों ने बताया कि इस लकड़ी की माला पहनकर रक्तचाप को काबू में लाया जाता है। हम देशी तौर पर सीधे इस लकड़ी को हाथ में रखने का अभ्यास करते हैं। समिति एक लकड़ी को 100-100 रुपए में उपलब्ध करा रही है। सुबह के समय लकड़ी को हाथ में पकड़कर अभ्यास करने से लाभ होता है।
भोपाल. जिस गुड़ को आप पूरी तरह प्राकृतिक समझकर खाते हैं उसमें भी कई तरह के रसायन मिले होते हैं, यह बात आपको तब पता चलती है जब आप वन मेले में स्टॉल लगाए किसानों से बात करते हैं। प्रदेश के अलग-अलग जिलों से आए किसान एवं प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियां न केवल पूरी तरह प्राकृतिक बल्कि कई फ्लेवर के गुड़ उपलब्ध करा रहे हैं।
पहले बनाते थे गुड़, अब एक दर्जन से ज्यादा फ्लेवर

गाडऱवाड़ा के किसान योगेश कौरव ने पांच साल पहले आर्गेनिक गुड़ और इससे फ्लेवर्ड कैंडी बनाने का बिजनेस शुरू किया। कौरव बताते हैं, लखनऊ के वन अनुसंधान केन्द्र से एमओयू करके गुड़ के फ्लेवर डवलप करने लगे। हम इसमें कोई एसेंस नहीं मिलाते बल्कि असली सौंफ, लौंग, अलसी आदि से फ्लेवर बनाते हैं।
समितियां लाई मेवे और मसाले वाले गुड़

किसान की फ्लेवर वाली कैंडी के अतिरिक्त दतिया की प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति मेव युक्त देशी गुड़ लागई है। समिति का दावा है कि इस गुड् में काजू, पिस्ता, छुआरा, तिल्ली, मूंगफली, सौंठ, चिरौंजी, गरी, खनखन, काजू मिली हुई। इसके अतिरिक्त एक समिति मसाला गुड़ तैयार करके लाई है।
बॉक्स-

लकड़ी को थामकर नियंत्रण में लाएं ब्लड प्रेशर

उमरिया की समिति दहीमन की लकड़ी लाई है, सदस्यों ने बताया कि इस लकड़ी की माला पहनकर रक्तचाप को काबू में लाया जाता है। हम देशी तौर पर सीधे इस लकड़ी को हाथ में रखने का अभ्यास करते हैं। समिति एक लकड़ी को 100-100 रुपए में उपलब्ध करा रही है। सुबह के समय लकड़ी को हाथ में पकड़कर अभ्यास करने से लाभ होता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Corona cases in india: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.35 लाख केस, 871 की मौत, संक्रमण दर हुई 13.39%UP Assembly Elections 2022: भाजपा ने किसानों से झूठा वादा किया, उन्हें धोखा दिया, प्रेस कांफ्रेंस में बोले अखिलेशदिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू खत्म, आज से नई गाइडलाइंस के साथ मेट्रो सेवाएं शुरूउत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव 2022 की डेट का ऐलान, जानें कितने सीटों के लिए और कब आएगा रिजल्टमुस्लिम वोटों को लुभाने के लिए बसपा ने किया बड़ा खेल, बाकी हैरानखतरनाक साइड इफैक्ट : इलाज के बाद ठीक हुए मरीजों पर आइआइटी का शोध, खराब हो रहे ये अंगओमिक्रॉन के नए वैरिएंट की एंट्री, मरीजों के सैंपल भेजे दिल्ली, 1418 पुलिसवाले भी संक्रमितछत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर, 48 घंटे में 30 मरीजों की मौत, सबसे ज्यादा 8 संक्रमितों की मौत दुर्ग में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.