Breaking: कमलनाथ सरकार के दिग्गज मंत्री की धमकी! Video अगर दिग्विजय सिंह चुनाव हारे तो समझ लेना...

भोपाल/सीहोर@कुलदीप सारस्वत की रिपोर्ट...
लोकसभा चुनावों के नजदीक आते ही मंत्री नेताओं की जुबान से एक बार फिर विवादास्पद बयान निकलने शुरू हो गए हैं। एक ओर जहां नेता आपस में एक दूसरे के लिए स्तरहीन बयान देने में लगे हुए हैं। वहीं दूसरी ओर अब तो मंत्री तक लोगों को धमका रहे हैं।

दरअसल सीहोर में प्रभारी मंत्री आरिफ अकील का एक विवादित बयान सामने आया है। जहां शुक्रवार को यशराज गार्डन में कार्यकर्ता संवाद के दौरान दिग्विजय सिंह को भोपाल से लोकसभा में जीत दिलाने की बात कहते हुए, उन्होंने यहां तक कह दिया कि अगर दिग्विजय सिंह चुनाव हारे तो समझ लेना प्रदेश में 5 साल तक हमारी सरकार रहेगी।

ये है मामला...
सीहोर जिले के प्रभारी मंत्री आरिफ अकील ने कार्यकर्ता संवाद कार्यक्रम में सीहोर को मध्यप्रदेश का जिला नंबर वन बताया। यहां उन्होंने कहा कि ट्रांसफर के मामले में सबसे ज्यादा आवेदन सीहोर जिले से ही आए, साथ ही यह भी कहा कि जिन अधिकारियों के खिलाफ ट्रांसफर के आवेदन हैं आचार संहिता के बाद उनके भी ट्रांसफर हो जाएंगे।

इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी भोपाल लोकसभा सीट के तहत सांसद क्षेत्र सीहोर आए हुए थे, यहां यशराज गार्डन में कार्यकर्ता संवाद कार्यक्रम के दौरान दिग्विजय सिंह की मौजूदगी में आरिफ अकील ने कार्यकर्ताओं की खुली चुनौती व हिदायत देते हुए कहा कि अगर दिग्विजय सिंह चुनाव हारे तो समझ लेना प्रदेश में 5 साल तक हमारी सरकार रहेगी।

ऐसे समझें कांग्रेस की घबराहट!...
जानकारों के अनुसार चुंकि भोपाल तीन दशकों से भाजपा का गढ़ बना हुआ है। ऐसे में कांग्रेस भी जानती है कि इस गढ़ तो तोड़ना इतना आसान नहीं है। वहीं ये भी माना जा रहा है कि दिग्विजय सिंह का कॅरियर भी काफी हद तक इस चुनाव पर निर्भर करता है। ऐसे में कांग्रेस किसी भी स्थिति में यहां से इस बार चुनाव जीतना चाहती है।

वहीं जानकारों के अनुसार चुंकि आरिफ अकील दिग्विजय के काफी नजदीकी है, अत: इस चुनाव में उनकी साख भी दांव पर है।

जानकारों की माने तो ऐसे में नेताओं की जुबान फिसलना आम बात है। लेकिन इस तरह से चेताना काफी गलत है, इससे ऐसा प्रतीत होता है जैसे लोगों को धमकाने के साथ ही ये चेतावनी दी जा रही है कि यदि हमारा प्रत्याशी नहीं जीता तो हम अपनी सरकार में क्षेत्र का विकास नहीं करेंगे।

वहीं जानकारों का ये भी मानना है कि यदि ये बात कार्यकर्ताओं से भी कही गई तो भी इसका अर्थ ये ही है कि वे ये बात आम जनता तक पहुंचाएं।

Congress
Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned