scriptWater at 5 feet in 150 feet dry bore | गजब की तकनीक! 150 फीट सूखे बोर में 5 फीट पर पानी, महज 200 रुपए का खर्च | Patrika News

गजब की तकनीक! 150 फीट सूखे बोर में 5 फीट पर पानी, महज 200 रुपए का खर्च

केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय ने भी की प्रशंसा

 

भोपाल

Published: June 05, 2022 07:49:14 pm

भोपाल। पुरानी पद्धति और नई तकनीक का यह मेल गजब का परिणाम दे रहा है। ग्वालियर के युवा पंकज तिवारी ने यह सिस्टम तैयार किया है जिसस न सिर्फ सूखे बोरवेलों से पानी मिलने लगा है, बल्कि जलस्तर में भी जबर्दस्त उछाल आ गया है। मध्यप्रदेश के साथ ही अन्य प्रदेशों में भी इस सिस्टम का इस्तेमाल कर पानी निकाला जा रहा है. इसके लिए केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय द्वारा पंकज तिवारी को जल प्रहरी व वाटर हीरो सम्मान से सम्मानित किया गया है.

borewell.png
केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय ने भी की प्रशंसा

जिन—जिन जगहों पर यह सिस्टम लगा, वहां भूमिगत जलस्तर 100 फीट तक बढ़ गया-पंकज तिवारी के यह वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम देशभर में करीब एक हजार स्थानों पर लगाया जा चुका है। जिन—जिन जगहों पर यह सिस्टम लगा, वहां भूमिगत जलस्तर 100 फीट तक बढ़ गया। सिस्टम में बरसाती पानी के शुद्धिकरण की भी व्यवस्था है। इस वजह से ये पानी बिना फिल्टर के भी पीने योग्य रहता है। पंकज ने इस रेन वाटर प्यूरीफिकेशन एंड रीचार्जिग सिस्टम का पेटेंट भी करा लिया है। सबसे खास यह है कि इस सिस्टम के रखरखाव का खर्च सालाना सिर्फ 200 रुपए है।

इसमें 73 फीट पर पानी है जबकि संस्थान का औसत जलस्तर 120 फीट - आइआइटीटीएम डायरेक्टर प्राे. आलोक शर्मा के अनुसार हमने पहली बार वाटर हार्वेस्टिंग कराई। पिछले दिनों जब जांचा तो इसमें 73 फीट पर पानी है जबकि संस्थान का औसत जलस्तर 120 फीट पर है।

— ग्वालियर के भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंधन संस्थान में बोरवेल सूख गया था. 250 फीट के इस बोरवेल में अब 73 फीट पर पानी है।
— सिवनी में बारह पत्थर निवासी दिलीप तिवारी ने तीन साल पहले गर्मी में यह सिस्टम लगवाया था। पहली बरसात में ही उनका बोर ओवरफ्लो हो गया।
- गंगा किनारे के प्रयागराज में भी यह सिस्टम लगा है। रैपिड एक्शन फोर्स परिसर में भी अब महज 100 फीट पर पानी है।
— महाराजपुरा थाने में 150 फीट गहरे सूखे बोरवेल में अब महज 5 फीट पर पानी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Rakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़पिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालाRakesh Jhunjhunwala: PM मोदी और अमित शाह समेत कई बड़े दिग्गजों ने झुनझुनवाला को दी श्रद्धांजलिRajasthan: तीसरी कक्षा के दलित छात्र को निजी स्कूल के शिक्षक ने पानी का कंटेनर छूने को लेकर पीटा, मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंदVinayak Mete Passes Away: विनायक मेटे का सड़क हादसे में निधन, सीएम एकनाथ शिंदे और शरद पवार सहित अन्य नेताओं ने जताया शोकRakesh Jhunjhunwala Rajasthan connection: राजस्थान के झुंझुनूं जिले से जुड़ी है राकेश झुनझुनवाला की जड़ेJ-K: स्वतंत्रता दिवस से पहले आतंकियों का ग्रेनेड से हमला, कुलगाम में पुलिसकर्मी शहीदIndependence Day 2022: क्रिकेट के वो खास पल, जिन्होंने फैन्स को रोने पर कर दिया मजबूर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.