दो सिस्टम के मिले-जुले प्रभाव ने मालवा को भी लिया चपेट में

- पूर्वी मध्यप्रदेश के साथ पहली बार पश्चिमी हिस्सों में भी लगातार पड़ रही है बौछारें

भोपाल. दो सिस्टमों के मिले-जुले प्रभाव ने पूरे प्रदेश में बादलों को सक्रिय कर दिया है। बुधवार को प्रदेश के कई शहरों में गरज-चमक के साथ तेज बौछारें दर्ज की गई। मौसम विभाग के अनुसार मौसम यह बिगड़ा मिजाज अगले दो दिन भी बना रहेगा। मौसम विभाग ने शाम 5.30 बजे तक शाजापुर में 9, छिंदवाड़ा एवं उज्जैन में 3, पचमढ़ी में दो मिमी बरसात दर्ज की। इसके अलावा सागर में 0.3 तो भोपाल और राजगढ़ में बरसात ट्रेस की गई। हालांकि शाम 5.30 बजे के बाद कई स्थानों पर रुक-रुक बौछारें जारी थी। जिसके चलते गुरुवार सुबह तक प्रदेश भर में हुई बरसात के आंकड़े स्पष्ट हो सकेंगे। मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने बताया कि पिछले तीन चार महीनों में जितनी भी बार बरसात हुई तब बंगाल की खाड़ी से आई नमी और उत्तर की ठंडी हवाओं के चलते ऐसी स्थिति बनी। बंगाल की खाड़ी के नजदीक होने के चलते प्रदेश के पूर्वी हिस्से में इसका ज्यादा असर रहा। लेकिन इस बार अरब सागर से लेकर दक्षिणी मप्र तक भी एक द्रोणिका भी बनी हई है। यहां से भी भारीमात्रा में नमी आ रही है। दो ओर से आ रही नमी के दोहरे असर से इस बार पूर्वी के साथ पश्चिमी हिस्से खासतौर पर मालवा में बौछारें पड़ रही हैं। यह स्थिति अगले दो दिनों तक बनी रह सकती है।

praveen malviya Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned