scriptwhy eid is celebrated only after seeing the moon know here | चांद देखकर ही क्यों मनाई जाती है ईद, ईद उल फितर से जुड़ी ये खास बातें | Patrika News

चांद देखकर ही क्यों मनाई जाती है ईद, ईद उल फितर से जुड़ी ये खास बातें

इस्लामिक महीना चांद दिखने से शुरु होता है और चांद दिखने पर ही खत्म होता है। शव्वाल (इस्लामिक महीना) माह के पहले दिन ईद मनाई जाती है। जैसे ही चांद दिखता है, पिछला महीना खत्म होकर नया महीना शुरु हो जाता है। शव्वाल महीना शुरु होते ही अगली सुबह ईद मनाई जाती है।

भोपाल

Updated: May 02, 2022 10:20:15 am

भोपाल. रमजान का मुबारक महीना खत्म होते ही ईद उल फितर (मीठी ईद) मनाई जाती है। मजहब-ए-इस्लाम के मुताबिक, अल्लाह ने खुशियों के इस त्यौहार को अपने बंदों को तोहफे में दिया है। अल्लाह की तरफ से इस दिन उन सभी लोगों को खुशिया मनाने का आदेश है, जिन्होंने रमजान के महीने में रोजे रखे और दीगर (अन्य) इबादत की। रमजान में की जाने वाली इबादतों के बदले में अल्लाह कुरआन के जरिये अपने बंदों से कहता है कि, (मायने) 'जिस तरह पूरे रमजान भर तुमने मुझे राजी करने, मुझसे माफी मांगने और खुद को मेरे साए (संरक्षण) में रखने के लिए रोजा रखा, मेरी इबादत की, आज उन इबादतों का बदला देने का समय है। अल्लाह अपने हर इबादत गुजार बंदे से कहता है, 'खुशियां मनाओ, एक दूसरे के साथ खुश रहो, गरीबों को दान करो ताकि, वो भी बेहतर ढंग से खुशियां मना सकें, एक दूसरे को इस दिन की बधाई दो, क्योंकि मैने (अल्लाह ने) उन सभी लोगों की पिछली बुराइयों को माफ कर दिया है।' यही कारण है कि, ईद उल फितर के इस त्यौहार को एक दूसरे के साथ खुशियां बांटने के साथ साथ अमन और भाईचारे का त्यौहार माना जाता है।

News
चांद देखकर ही क्यों मनाई जाती है ईद, ईद उल फितर से जुड़ी ये खास बातें


इस बार 29 रमजान यानी 2 अप्रैल को चांद नहीं दिखा। ऐसे में इस बार रमजान के तीस रोजें होंगे। साथ ही, ईद उल फितर का त्यौहार 3 अप्रैल 2022 को मनाया जाएगा। इस्लामिक महीना चांद दिखने से शुरु होता है और चांद दिखने पर ही खत्म होता है। शव्वाल (इस्लामिक महीना) माह के पहले दिन ईद मनाई जाती है। इससे पहले रमजान का पाक महीना होता है, इस पूरे महीने इबादत के बाद अल्लाह की तरफ से अपने बंदों को ईद का तोहफा दिया गया। जैसे ही चांद दिखता है, पिछला महीना खत्म होकर नया महीना शुरु हो जाता है। शव्वाल का महीना शुरु होते ही लोग अगली सुबह ईद मनाते हैं। इस दिन मुस्लिम समुदाय के लोग सुबह उठकर फज्र की नमाज अदा करते हैं। इसके बाद तैयार होते हैं। इस दौरान अल्लाह का आदेश है कि, तुम्हारे पास मौजूद सबसे पसंदीदा कपड़े पहनो। इसके बाद सभी लोग ईद की नमाज अदा करने शहर की ईदगाह (ईद की नमाज अदा करने वाली जगह) जाते हैं। वहां किसी एक शहर के लगभग सभी लोग एक साथ ईद की नमाज अदा करते हैं और इस दिन के लिए अल्लाह का शुक्र (धन्यवाद) करते हैं। साथ ही, यहां अल्लाह से पूरी दुनिया के लिए अमन ओ अमान, सुख, शांति और भाइचारा कायम करने की दुआ की जाती है। नमाज़ पूरी होने के बाद सभी लोग एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद (बधाई) देते हैं।

यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट में निकली भर्तियां, आवेदन करने के लिए सिर्फ इतने दिन शेष


खास पकवान खिलाकर बांटी जाती हैं खुशियां

ईद की नमाज पढ़कर सभी लोग अपने अपने घरों को लौटते हैं। फिर अपने पड़ोसियों (घर के नज़दीक रहने वाले), रिश्तेदारों (परिजन) और मिलने जुलने वालों (परिचित) के घर जाकर या उन्हें अपने घर बुलाकर ईद की मुबारकबाद (बधाई) देते हैं। इस दिन कई तरह के खास पकवान बनाए जाते हैं, जो मिलने जुलने वालों को खिलाकर एक दूसरे के साथ खुशियां मनाई जाती हैं। अल्लाह का आदेश है कि, इस दिन सभी मुसलमान खुशियां मनाएं। इसलिए भी कि, उन्होंने अल्लाह को राजी करने के लिए रमजान में की थी। इसलिए भी कि, इस दिन के जरिये वो अपने दिलों से किसी भी तरह के मनमुटाव को भुलाकर एक दूसरे के गले लगें। इसलिए भी कि, इस दिन की बरकत (कारण) से वो अपने सगे संबंधियों और पड़ोसियों के साथ सुख बांटें और अपने रिश्तों को एक नई मज़बूती दें।


चांद देखने के बाद ही ईद क्यों?

इस्लाम के मुताबिक, दिनों की गणना चांद दिखने के आधार पर की जाती है। रोजाना का चांद दिखने पर ही दिन सुनिश्चित किया जाता है। साथ ही, नया चांद दिखने पर अगला महीना तय माना जाता है। ईद उल फितर हिजरी कैलेंडर के 10वें माह के पहले दिन मनाई जाती है।

यह भी पढ़ें- भीषण गर्मी के बीच अचानक बदला मौसम, कहीं तेज बारिश तो कहीं गिरे ओले


ईद के दिन इन बातों का रखें खास ध्यान

वैसे तो ईद उल फितर के दिन फर्ज नमाजों को छोड़कर किसी भी इबादत करने के बारे में मना किया गया है। साथ ही, इस दिन के लिए कई खास नियम भी बताए हैं, जिसका पालन करना बेहद जरूरी है। आइए जानते हैं उन खास नियमों के बारे में...।

-ईद के दिन सुबह सबसे पहले उठकर फज्र की नमाज अदा करनी होती है, इसी से नए दिन की शुरुआत मानी जाती है।

-नमाज के बाद लोगों को नहां-धोकर (गुसल) अपने सबसे पसंदीदा कपड़े पहनकर उनपर खुशबू लगाकर ईद की नमाज के लिए निकलना होता है।

-रमजान शुरु होने के बाद से ईद की नमाज अदा करने से पहले पहले हर मालदार मुसलमान को फितरा गरीबों को देना चाहिए। इसे बेहद जरूरी बताया गया है। फितरा यानी उतनी रकम, जिससे किसी व्यक्ति को भरपेट खाना मिल सके। फितरे की रकम का आंकलन दो चीजों से किया गया है। मध्यम वर्गीय व्यक्ति के लिए 1 किलो 6 सौ 33 ग्राम गेहूं या उसकी कीमत किसी गरीब को दी जाती है मौटे तौर पर इसकी रकम उलमाओं की तरफ से इस साल 50 रुपये रखी गई है। वहीं, किसी अमीर व्यक्ति को 1 किलो 6 सौ 33 ग्राम किशमिश की रकम लगभग 500 रुपए किसी गरीब को फिदिया देना होता है। फितरे का मकसद उन गरीबों तक भी उतनी रकम पहुंचाना है, जिससे वो भी हसी खुशी ईद का त्यौहार मना सकें। इधर, अल्लाह ने मालदार मुसलमान पर फितरा देना लागू किया, ताकि, वो उन गरीबों को ढूंढकर फितरा अदा करे। फितरा अदा किये बिना मालदार व्यक्ति की ईद की नमाज़ नहीं मानी जाती।

-ईद की नमाज ईदगाह में अदा करनी चाहिए। ईदगाह न होने पर मस्जिद में या फिर खुले आसमान तले ही नमाज अदा की जा सकती है।

-ईदगाह आने और जाने के लिए अलग-अलग रास्तों का इस्तेमाल करना होता है। ताकि, आप अलग अलग रास्तों से गुज़रकर मिलने जुलने वाले लोगों को ईद की मुबारकबाद दे सकें।

-छोटे बच्चों को ईदी के तौर उपहार दिये जाते हैं, ताकि, उनके दिल में ईद की कद्र (सम्मान) बढ़े।

-इस दिन गरीबों को दान देना, साथ में भोजन करना और उनके साथ खुशियां बांटना सवाब (पुण्य कार्य) माना जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

पंजाब CM भगवंत मान ने स्वास्थ्य मंत्री को भ्रष्टाचार के आरोप में किया बर्खास्त, मामला दर्जकहां रहता है मोस्ट वांटेड दाऊद इब्राहिम? भांजे अलीशाह ने ED के सामने किया खुलासाहेमंत सोरेन माइनिंग लीज केस में PIL की मेंटेनेबिलिटी पर झारखण्ड हाईकोर्ट में 1 जून को सुनवाईकांग्रेस की Task Force-2024 और पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी का ऐलान, जानिए सोनिया गांधी ने किन को दिया मौकापाकिस्तान ने भेजी है विषकन्या: राजस्थान इंटेलिजेंस ने सेना को तस्वीरें भेज कर किया अलर्टकुतुब मीनार केसः साकेत कोर्ट में दोनों पक्षों की दलीलें पूरी, 9 जून को अदालत सुनाएगी फैसलाPooja Singhal Case: झारखंड की 6 और बिहार के मुजफ्फरपुर में ED की एक साथ छापेमारी, अहम सुराग मिलने की उम्मीदश्रीलंका में फिर बढ़ी पेट्रोल-डीजल की कीमत, पेट्रोल 420 तो डीजल 400 रुपए प्रति लीटर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.