scriptWomen stick hockey stick after 34 years, preparing for the tournament | महिलाओं ने 34 साल बाद थामी हॉकी स्टिक, टूर्नामेंट के लिए 5 दिन पहले की तैयारी, सेेमीफाइनल में पहुंची मप्र की टीम | Patrika News

महिलाओं ने 34 साल बाद थामी हॉकी स्टिक, टूर्नामेंट के लिए 5 दिन पहले की तैयारी, सेेमीफाइनल में पहुंची मप्र की टीम

मप्र की सिविल सेवा टीम: इन्हें उम्र से नहीं खेल के जज्बे से पहचानें

भोपाल

Published: June 27, 2022 12:30:02 am

भोपाल. मेजर ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम में अखिल भारतीय सिविल सेवा हॉकी प्रतियोगिता खेली जा रही है। इसमें मप्र की महिला हॉकी टीम सेमीफाइनल में पहुंच गई। टीम में महिलाओं की औसत उम्र 55 साल जरूर है लेकिन हॉकी के प्रति इनका जुनून और जज्बा देखते ही बनता है। इन महिलाओं की 1986-87 में स्पोट्र्स कोटे से नौकरी लगी थी। तभी से उन्होंने अपनी हॉकी स्टिक खूटे में टांग दिया था। क्योंकि सिविल सेवा की प्रतियोगिताओं में हॉकी शामिल नहीं था। ये महिलाएं अन्य खेलों में मप्र का प्रतिनिधित्व कर रहीं थी लेकिन 2021 में महिला हॉकी को सिविल सेवा में जोड़ा गया। कोरोना के चलते टूर्नामेंट स्थगित हो गया। जिससे 34 साल बाद इन महिलाओं ने फिर से हॉकी स्टिक थामी हैं और प्रतियोगिता के सेमीफाइनल में जगह बनाई। हालांकि इन महिलाओं को देश की अन्य टीमों की खिलाडिय़ों से उम्र के लिहाज से काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। इस टीम को कोच मुईनउद्दीन कुरैशी ट्रेनिंग दे रहे हैं। मप्र की टीम की खिलाडिय़ों ने पत्रिका से अपने अनुभव शेयर किए।

news
महिलाओं ने 34 साल बाद थामी हॉकी स्टिक, टूर्नामेंट के लिए 5 दिन पहले की तैयारी, सेेमीफाइनल में पहुंची मप्र की टीम

टीम की सभी मेंबर्स पुरानी दोस्त
बरखेड़ी के सीएम राइज स्कूल में पदस्थ लुसी अलफांसो ने बताया कि हमारे जमाने में एस्ट्रो टर्फ नहीं थे। पहली बार एक्स्ट्रो टर्फ में खेलना अच्छा अनुभव रहा। मैं छह महीने बाद ही रिटायर हो रही हूं। टीम की सभी मेंबर्स पुरानी दोस्त हैं। इसलिए एक बार फिर से उनके साथ खेलना चाहती थी। मेरी सोच यही थी कि भले ही मैं दौड़ नहीं सकती लेकिन हिटिंग और डिवलिंग तो कर रही सकती हूं। पहली लहर में मुझे कोरोना हो गया था लेकिन फिटनेस पर फोकस कर किया। मुझे डायबटीज और शूगर दोनों है लेकिन बावजूद इसके खेल से पीछे नहीं हटी।

प्रदेश के लिए दोबारा हॉकी खेलना बड़ी बात
वन विभाग में लेखापाल सरिता श्रीवास्तव ने बताया कि हमारी टीम के सभी सदस्य 1987 में पोस्टेड हुए थे। नौकरी में आने के बाद हॉकी से नाता छूट गया था। लेकिन मैं वन विभाग की प्रतिभाओं में एथलेटिक्स खेलती रही। 34 साल बाद प्रदेश के लिए दोबारा हॉकी खेलना हमारी लिए बड़ी बात है। हमारी यह सोच थी कि भोपाल सिविल सेवा की मेजबानी कर रहा है। इसलिए महिला हॉकी टीम उतरना जरूरी था। जिससे मप्र का पार्टिसिपेसन भी रहे। इसलिए टीम तैयारी की और मैदान में उतरे। टीम में लेफ्ट हाफ में अपनी भूमिका निभाती हूं।

टूर्नामेंट के लिए स्कूल से मिली स्पेशल छुट्टी
शिक्षक और उत्कृष्ट खिलाड़ी नंदा शर्मा ने बताया कि मैं 35 साल से नौकरी कर हूं। हॉकी की नेशनल प्लेयर रही, लेकिन नौकरी के बाद हॉकी छूट गई थी। खेल से जुड़ाव था तो सिविल सेवा की प्रतियागिताओं में एथलेटिक्स के इवेंट्स में पार्टिसिपेट करती थी। इस टूर्नामेंट के लिए स्कूल से स्पेशल छुट्टी मिली है। 15 दिन पहले ही मैदान में जाने लगी। फिटनेस पर ध्यान दिया। हिटिंग और डिवलिंग की प्रैक्टिस की। डाइट पर फोकस किया। मैं टीम में फारवर्ड खेलती हूं। कई बार प्रैक्टिस के दौरान चुनाव के काम भी करने पड़ते हैं।

फोन लगाकर बुलाई टीम, फिर की तैयारी
शिक्षिका और टीम की कप्तान सविता सुर्वे ने बताया कि मैं सिविल सेवा की प्रतियोगिताओं में एथलेटिक्स खेलती थी। इस टूर्नामेंट के लिए मैंने अपनी दोस्तों को फोन किया और बोला कि महिला हॉकी टीम सिविल सेवा में खेल रही है। अन्य खिलाडिय़ों ने फोन पर इसके लिए रजामंदी दी। फिर मप्र की टीम तैयार की। टूर्नामेंट के एक वीक पहले ही टीम को मेजर ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम में इक_ा किया और तैयारी की। मुझे दस सालों से शुगर है, लेकिन हॉकी में जुनून इतना था कि जल्दी सुबह उठकर अपनी फिटनेस बनाई।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Cabinet Expansion Live Updates: विजय कुमार चौधरी, विजेंद्र यादव, तेज प्रताप सहित इन विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथदलित वोट छिटकने का डर: डैमेज कंट्रोल में जुटे सत्ता-संगठन, आधा दर्जन मंत्रियों ने जालोर में डेरा डालाकौन होगा बिहार का नेता प्रतिपक्ष: जेपी नड्डा की मौजूदगी में दिल्ली में बैठक, इन मुद्दों पर भी होगी चर्चाFIFA ने भारतीय फुटबॉल महासंघ को किया सस्पेंड; महिला वर्ल्ड कप की मेजबानी भी छीनीमहागठबंधन सरकार बनते आनंद मोहन को मिली आजादी, पटना में परिजनों से मिले, जेल के बदले सर्किट हाउस में बिताई रातसीएम गहलोत का आज से तीन दिवसीय गुजरात दौरा, चुनावी तैयारियों पर पार्टी नेताओं के साथ होगा संवादतेज हवा और झमाझम बारिश से लखनऊ में ऐतिहासिक भूल भुलैया का गुम्बद गिरापूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि आज, राष्ट्रपति, पीएम मोदी सहित कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.